52.46 करोड़ का मंमाणा में पंप हाउस, फिर भी आमजन प्यासे

Zila News News - पंचायत मुख्यालय पर पेयजल के ये स्रोत दो जीएलआर की टंकियां, एक उच्च जलाशय, 5 सरकारी कुएं, 6 सिंगल फेज टयूबबेल, चार...

Feb 11, 2020, 09:41 AM IST
Kotputali News - rajasthan news 5246 crore rupees in pump house still thirsty

पंचायत मुख्यालय पर पेयजल के ये स्रोत

दो जीएलआर की टंकियां, एक उच्च जलाशय, 5 सरकारी कुएं, 6 सिंगल फेज टयूबबेल, चार टयूबबेल, आधा दर्जन से ज्यादा हैडपंप, पंचायत मुख्यालय पर हर गली व मोहल्ले में घर-घर नल कनेक्शन होने के बाद भी जनता को पानी के टैंकरों पर निर्भर रहना पड़ रहा है और महंगे दामों में पानी खरीदने को मजबूर है।

सन् 1992 में चली थी पेयजल योजनाएं

राज्य सरकार ने पंचायत मुख्यालय की पेयजल समस्या के समाधान के वास्ते 1992 में दो जीएलआर टंकियां बनाई गई थी। इन टंकियों में चार किमी दूर तत्कालीन हबसपुरा ग्राम पंचायत के ग्राम मोरड़ी खुर्द में बने उच्च जलाशय से पाइपलाइन से पानी भरा गया, परन्तु यह योजना दो साल तक ही चल पाई।

मंमाणा| स्थानीय पंचायत मुख्यालय पर नकारा पेयजल टंकी।

मंमाणा|स्थानीय पंचायत मुख्यालय पर 52.46 करोड़ रुपए की लागत से सन् 2013 में बीसलपुर का पंप हाउस बना जिससे दो साल बाद सन् 2015 में पेयजल आपूर्ति शुरू हो गई। मंमाणा के ग्रामीण उस समय बहुत खुश हुए थे कि अब पानी की विकट समस्या से राहत मिल जाएगी। क्षेत्र की 6 से ज्यादा ग्राम पंचायतों के चार दर्जन से ज्यादा गांव व ढाणियों में पेयजल आपूर्ति के लिए पाइपलाइन बिछाई गई। जनता जल योजना की कमेटी द्वारा पेयजल आपूर्ति शुरू की गई, परन्तु जनता को फिर निराशा हाथ लगी।

पंप हाउस होने के बाद भी मंमाणा में आज चार दिन में मात्र 30 मिनट कम प्रेशर से पानी आता है, जिसमें आधे नलों में कई सालों से पानी नहीं आ रहा है। जनता जल योजना कमेटी नकारा हो चुकी है। आज भी करोड़ों रुपए खर्च होने के बाद लोगों को सर्दी के मौसम में पानी के टैंकरों पर निर्भर रहना पड़ रहा है। यह स्थिति तब है जब इस साल बीसलपुर बांध एक महीने तक ओवरफ्लो होकर बहा। इसके बाद भी क्षेत्र में तीन दिन से सर्दी के मौसम में पेयजल आपूर्ति हा़े रही है तो गर्मी के मौसम में क्या होगा।

X
Kotputali News - rajasthan news 5246 crore rupees in pump house still thirsty

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना