विज्ञापन

सांगोद क्षेत्र में बोर के आकार के ओले गिरे

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 10:00 AM IST

Zila News News - क्षेत्र के कई गांवों में मंगलवार शाम को अचानक बैर के आकार से छोटे ओले गिरे। इससे खेत में कटकर पड़ी गेहूं की फसल व...

Sangod News - rajasthan news bore shaped wetlands in the area of sangod
  • comment
क्षेत्र के कई गांवों में मंगलवार शाम को अचानक बैर के आकार से छोटे ओले गिरे। इससे खेत में कटकर पड़ी गेहूं की फसल व जानवरों के भूसे में भारी नुकसान हो गया। अचानक बिगड़े मौसम के मिजाज से किसानों के चेहरों पर गम की लकीरें देखने को मिल रही है। इससे जानवरों के सामने चारे का संकट उत्पन्न होने की संभावनाएं पैदा हो गई है। सोमवार रात्रि से सांगोद क्षेत्र में मौसम के बदले मिजाज से धरती पुत्रों के सामने गंभीर समस्या पैदा हो गई है।

सोमवार रात्रि को अचानक तेज हवा के साथ हल्की बूंदाबांदी का दौर शुरू हुआ जो मंगलवार तड़के पांच बजे अचानक तेज बारिश का दौर मेघ गर्जना के साथ चला। इससे सड़कों पर पानी बह निकला। मंगलवार शाम चार बजे फिर मौसम ने पलटी खाई । शाम को 15- 20 मिनट तक बैर के आकार से छोटे ओले गिरे। इससे खेतों में कटकर पड़ी गेहूं की फसल व भूसा बुरी तरह से भीग गया। इससे काफी नुकसान हो गया।किसानों के सामने चारे की भी समस्या पैदा हो गई।

इटावा. नगर सहित संपूर्ण उपखंड क्षेत्र में मंगलवार को सुबह ओर शाम को एक-एक घंटे तक झमाझम बारिश हुई । इससे किसानों के अरमान एक बार फिर से बारिश के पानी के साथ बह गए। खेतों में अभी कई किसानों की गेंहूं ओर लहसुन की फसल कटी हुई पड़ी हैं । जो बारिश के पानी में भीग गई। दूसरी ओर इटावा ओर खातौली की कृषि उपज मंडी एवं सरकारी खरीद केंद्रों पर किसानों का अनाज तुलाई के लिये पड़ा हैं जो अचानक आई बारिश के कारण भीग कर खराब हो गया। अपनी मेहनत कर तैयार की गई उपज को इस तरह खराब होता देख कई किसानों के आंसू बारिश के पानी के साथ बह निकले। अचानक मौसम में आए बदलाव के बाद मंगलवार अल सुबह से तेज हवाएं चलने लगी ओर सुबह 6 बजे करीब तेज बारिश का दौर शुरू हुआ जों एक घंटे तक चला। दिन में आसमान मे बादल छाए रहे ओर वहीं शाम को पांच बजे बाद एक बार फिर से मौसम ने करवट ली ओर आसमान में घनघोर घटाएं छा गई और दिन में ही अंधेरा छा गया। वहीं तेज हवाओं के साथ बारिश का दौर शुरू हुआ जो डेढ़ घंटे तक जारी रहा। बारिश के कारण कृषि मंडी में पड़े अनाज के ढ़ेर ओर व्यापारीयों की जिंस की बोरियां बारिश के पानी में भीग गई। इधर, किसान कृष्ण मुरारी कोठारी ने बताया कि सरकारी खरीद केंद्र पर किसानों की उपज की तुलाई समय पर नहीं हो पा रही हैं जिससे किसानों का अनाज खुले में पड़ा हुआ है। इसके चलते किसानों को नुकसान उठाना पड़ा हैं। वहीं इटावा में बारिश के साथ ही कई जगह सड़कों पर पानी भर गया। इसके चलते लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। इस बारिश के साथ ही नगरपालिका की सफाई व्यवस्था की भी पोल खुल गई। इससे जहां नगर की सड़कों व सब्जीमंडी सहित कई जगह गंदगी के साथ नालियों का कचरा सड़क पर आ गया। नगर में नालियों की लंबेंं समय से सफाई नही होने के कारण उनमें कचरा भरा हुआ है। मंगलवार को हुई बारिश के साथ ही नालियों की गंदगी सड़कों पर आ गई जिससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

सांगोद. हार्वेस्ट मशीन व अन्य संसाधनों से गेहूं की फसल कटवाकर जल्दी से घरों तक पहुंचाने का कई किसानों का सपना काफूर हो गया है,मंगलवार को अचानक मौसम बदलने से कटी पड़ी गेहूं की फसल व भूसा भीगने से खराब हो गया है। सांगोद क्षेत्र के लक्ष्मीपुरा, कोटड़ी, कुराडियाखुर्द, घानाहेड़ा, अमृतकुआं, विनोदखुर्द, कमोलर, बौरदा, गेहूंखेड़ी में धरती पुत्रों के अरमान धूल धूसरित हो गए है। किसानों का कहना है कि बड़े अरमानों के साथ गेहूं की फसल हाथ में आई हुई खराब हो गई।

बपावर. शाम 5 बजे तेज बारिश से कस्बा तरबतर हाे गया अाैर गर्मी से परेशान लोगों ने मौैसम मे ठंडक घुलने से राहत महसूस की। इस दौरान खेतों मे कटी पड़ी फसल उड़ कर बिखरने अाैर भीगने से हाेने वाले नुकसान काे लेकर किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें छा गई।

दीगाेद. क्षेत्र में मंगलवार काे जमकर बारिश हाेने से किसान परेशान हाे गए। उनका अनाज खेतों में खराब हाे गया। वहीं, लहसुन में भी खराबा बताया जा रहा है। निमोदा, उमेदपुरा, कंवरपुरा, देवपुरा, मंडोला, पारलिया, मूंडला आदि गांवाें में धूल भरी अांधी के बाद तेज बारिश आई।

कैथून. क्षेत्र में मंगलवार सुबह और दोपहर में हुई बेमौसम की बरसात ने किसानों की जान सांसत में डाल दी है। किसानों ने बताया कि अभी कई किसानों की फसल खेतों में पक कर कटाई के लिए तैयार है और कई किसानों की फसल कट कर खेतों में पड़ी है। दो दिनो से आ रही आंधी ओर मंगलवार को हुई बेमौसम की बरसात से खेतों में खड़ी ओर कट कर पड़ी फसल में होने वाले नुकसान की संभावना से किसानों की जान सांसत में आरही हे।

अयाना. कस्बे में मंगलवार को सुबह से ही अचानक मौसम ने करवट ली जो तेज हवाओं व बिजलियों की गड़गड़ाहट के साथ आधे घंटे तक तेज वर्षा हुई। वर्षा से अभी तक अधिकांश खेतों में खड़ी गेहूं की फसल आड़ी पड़ गई व वर्षा से भीग गई। इससे किसानों को नुकसान बताया जा रहा है । खेतों से तैयार करके लाया गई जींस समर्थन मूल्य कांटे पर तुलवाई के लिए किए गए ढेर बरसाती पानी में भीग गया। ऐसे में किसानों के अरमान पानी में बह गए तेज हवा चलने से कई लोगों के मकानों के टीन टप्पर उड़ गए तथा शाम 5 बजे फिर मौसम ने करवट ली जो आसमान मे चारो तरफ घनघोर घटाओ के साथ तेज बारिश शुरू हुई जो घंटे भर तक वर्षा होने से कस्बे में लुहावद तिराहे पर पानी निकासी नहीं होने से मुख्य सड़क मार्ग में एक डेढ़ फुट पानी भर गया। वहीं मंगलवार को साप्ताहिक हाट में भी वर्षा होने से दुकानदारों को नुकसान उठाना पड़ा। हाट मे खरीददारी करने आए लोगो को भी परेशानी उठानी पड़ी।

मोईकलां. कस्बे सहित आसपास के क्षेत्र में मंगलवार तड़के पांच बजे अचानक मौसम ने करवट ली और तेज हवा व बिजलियों की चमक के साथ बादल करीब आधे घंटे तक जमकर बरसे तो दिन में तेज धूप से मौसम साफ रहा । शाम चार बजे फिर मौसम का मिजाज बदला और रुक रुक कर तेज बारिश का दौर देर शाम तक जारी रहा। मौसम बदलने के कारण भीषण गर्मी में भी लोगों को सर्दी का अहसास हुआ। मूसलाधार बारिश के चलते हाट में भी लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

इटावा. अपनी जिंस के ढेर में भरे पानी को निकालते किसान।

मोईकलां. कस्बे में बारिश का नजारा।

तेज हवा और बारिश से खेत-खलिहान और मंडी में पड़ी गेहूं की फसल खराब

सुल्तानपुर| क्षेत्र में सोमवार शाम को तेज हवाएं चलने का दौर शुरू हुआ। इससे खेतों में फसलों को काफी नुकसान हो गया। मंगलवार सुबह करीब 6 बजे बरसात शुरू हुई जो करीब 2 घंटे तक चली। इसके बाद वातावरण में ठंडक घुल गई। वहीं शाम होते-होते फिर बारिश का दौर जारी हो गया। मौसम विभाग की सूचना के बावजूद सेंटर प्रभारियों ने सबक नहीं लिया और निर्देशों पर भी अमल नहीं हो सका। खरीदे गए गेहूं को सुरक्षित न रख पाने से बरसात में गेहूं भीग गया।

इससे जहां कर्मियों की लापरवाही से सरकार को नुकसान उठाना होगा तो किसानों को भी भारी नुकसान हुआ है। बरसात में मंडी में खुले बोरों के अलावा फर्श पर पड़ा गेहूं भीग गया, जबकि आढ़तों पर गेहूं को सुरक्षित कर लिया गया। वहीं गेहूं की कटाई होने पर जब किसान सेंटरों पर पहुंचा तो उससे नमी होना बातकर सुखाने की बात कही गई। अब बरसात में कर्मियों की लापरवाही से सूखा गेहूं भीगकर खराब होने लगा है। बरसात ने सेंटरों पर सभी व्यवस्थाओं के होने का दावा करने की पोल खोल दी है। मंडी प्रशासन के निर्देशों पर भी कर्मियों ने कोई अमल नहीं किया है। मंगलवार को बरसात होने के पूरे संकेत थे। इसके बाद भी सेंटरों पर खुले में रखा गेहूं सुरक्षित नहीं किया गया। बरसात होने से खुले में पड़ा गेहूं ऐसे ही पूरी बरसात भर पानी से भीगता रहा। बरसात थमने के बाद खुद को बचाते हुए गेहूं पर तिरपाल को डाला जा सका। इसके अलावा तौल के बाद बोरों में खुला रखा काफी मात्रा में गेहूं भी भीग गया है। मंडी में लगे सभी सेंटरों पर बरसात थमने के बाद गेहूं का यही हाल देखा गया। वहीं मंगलवार को हुई बरसात और आंधी से खेतों पर तैयार खड़ा गेहूं गिर गया।

सुल्तानपुर मंडी में लापरवाही बरतने से बरसात होने पर किसानों का गेहूं भीग गया तो खेतों पर भी गेहूं बिछ गया है। बरसात के साथ ही तेज हवा चलने से तैयार गेहूं टूटकर गिर जाने से किसानों के सामने नई समस्या बन गई है। ऐसे में अच्छी फसल के बाद भी कम उत्पादन हो जाने से किसान अपने भाग्य को कोस रहे हैं। वहीं यहां मंडी में आढ़तो ने शेड में अपनी जिंस के बोरे रख रखे हैं। उन्हें यहां से उठाया नहीं जा रहा। इससे किसान अपनी फसल को खुले आसमान के नीचे रखने को मजबूर हैं, वहीं बरसात होते ही किसान की फसल भीग जाती है।

इटावा. खेत में कटी पड़ी फसल भीगने से हुई खराब।

Sangod News - rajasthan news bore shaped wetlands in the area of sangod
  • comment
Sangod News - rajasthan news bore shaped wetlands in the area of sangod
  • comment
X
Sangod News - rajasthan news bore shaped wetlands in the area of sangod
Sangod News - rajasthan news bore shaped wetlands in the area of sangod
Sangod News - rajasthan news bore shaped wetlands in the area of sangod
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन