कालीसिंध, पार्वती व चंबल में उफान, कोटा-इटावा-श्योपुर मार्ग बंद

Zila News News - भास्कर न्यूज | इटावा/खातौली इटावा नगर में सहित क्षेत्र में शुक्रवार शाम को तेज बारिश होने से जनजीवन प्रभावित...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 08:40 AM IST
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
भास्कर न्यूज | इटावा/खातौली

इटावा नगर में सहित क्षेत्र में शुक्रवार शाम को तेज बारिश होने से जनजीवन प्रभावित रहा। आसमान में घने बादलों के कारण दिन में अंधेरा हो गया, जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

वहीं कालीसिंध नदी में उफान आने से कोटा- इटावा-श्योपुर मार्ग पांचवे दिन भी अवरुद्ध रहा। जिससे क्षेत्र का जिला मुख्यालय कोटा से संपर्क कटा रहा। ढ़ीपरी कालीसिंध नदी की पुलिया पर शाम को करीब 15 फीट की चादर चली जिसके चलते इटावा सूखनी नदी मे भी पानी की आवक बढ़ गई तथा गोणदी जलेश्वर महादेव मंदिर के चारों ओर पानी भर गया। इधर खातोली पार्वती नदी पुल पर भी करीब 22 फीट की चादर चल रही है। जिससे कोटा श्योपुर स्टेट हाईवे बंद रहा। चंबल नदी में लगातार बढ़ रहे जलस्तर से चंबल नदी के किनारे नारायणपुरा, कीरपुरा आदि गांव टापू बन गए। प्रशासन ने नदी के किनारे के गांवों मे सतर्क रहने की अपील की है। इटावा में तेजाजी मेला अस्त व्यस्त हो गया। कई दुकानदार बारिश के चलते अपनी दुकानें लेकर वापस अपने घरों को लाैट गए।

अयाना . कस्बे में 2 दिनों से लगातार हो रही मूसलाधार वर्षा के चलते अयानी दौलतपुरा मुख्य सड़क मार्ग पर स्थित अस्पताल तक जाने का रास्ता नहीं है। मरीज अस्पताल पहुंचने में सड़क मार्ग में भरे हुए पानी के बीच निकलने को मजबूर है। सड़क मार्ग किनारे दोनों तरफ़ निर्माण निर्माण नहीं होने से व ठेकेदार ने कुछ महीने पूर्व बनाया गया नवनिर्मित डामरीकरण सड़क मार्ग अधूरा छोड़ देने से यह समस्या बनी हुई है जबकि अस्पताल 30 गांव के मरीजों के लिए आवागमन का एकमात्र यही सड़क मार्ग है। सार्वजनिक निर्माण विभाग की अनदेखी के चलते हैं परेशानी उठानी पड़ रही है। इस समस्या को लेकर जिला कलेक्टर सहित उच्च अधिकारियों को भी ग्रामीणों ने अवगत कराया, लेकिन अभी तक समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है। ऐसे में ग्रामीणों में प्रशासन के प्रति रोष व्याप्त है।

दीगोद . क्षेत्र में सोयाबीन, उड़द जैसी दलहनी फसलें लगातार बारिश से पूरी तरह नष्ट हो गई। किसानों द्वारा बैंकों से लिए ऋण की चिंता लगी है। फसल बीमा का लाभ भी किसानों को नहीं मिला। सरकार किसानों के ऋण में से प्रीमियम काट लेती है, जब किसानों पर कोई प्राकृतिक आपदा आती है तो सरकार किसानों के फसल बीमा देने में नहीं सोच रही।

परवन पुलिया पर पानी

बपावर .
परवन नदी की पुलिया पर रात 2 बजे बाद 3 फीट पानी की चादर ने दाेनाें तरफ का ट्रेफिक जाम कर दिया। एसएचअाे उमराव सिंह ने बताया कि रात 1 बजे नदी मे उफान काे देखते हुए पुलिस के जवानाें काे एलर्ट कर दिया गया था। इसके एक घंटे बाद पुलिया पर पानी फिरना शुरू हाेते ही अवागमन राेक कर वाहन चालकाें, बाइक सवार अाैर अन्य लाेगाें काे जान माल के नुकसान से बचाने का फर्ज निभाते हुए पुलिस के जवानाे काे सख्ती बरतने का आदेश देकर किसी काे पुलिया के पानी में नहीं उतरने दिया गया। शुक्रवार काे भी पुलिया पर पानी की वैसी ही खतरे की स्थिति बनी रहने काे लेकर दिन भर पुलिस तैनात रही, जिसे पुलिया खाली हाेने तक तैनात रहने के आदेश दिए गए हैं। उधर परवन तीर पर बसे बपावर खुर्द के एक दर्जन से उपर युवक अाैर 50 से उपर तक के लाेगाें द्वारा पुलिया पर पानी फिरने के पूर्व से रात भर निजी अापदा प्रबंधन सेवा के लिए तैयार रहने की जानकारी दी। सुबह अाठ बजे पुलिया के मुखौटे खड़े खुर्द के निजी अापदा प्रबंधन ग्रुप के लाेगाें रोहिताश मीणा, शंभू मीणा, शैलेश मीणा, अाेम प्रकाश देरवाल, सीता राम मीणा, राधेश्याम अािद अन्य एक दर्जन से उपर लाेगाें ने बताया कि पुलिया पर खतरे की अाहट हाेते ही, दिन हाे या रात खुर्द के लाेगाें की स्वप्रेरित निजी अापदा प्रबंधन टीम अापदाग्रस्त लाेगाें की सेवा के लिए एलर्ट हाेजाती है अाैर समय अाने पर किसी की जान बचाने के लिए जान पर भी खेलने काे तैयार रहती है। सीताराम ने बताया कि रात एक बजे पानी पुलिया पर अाने लगा अाैर दाे बजे बाद 2 फीट चादर चलने से पूर्व अावागमन राेक दिया गया।

इटावा। पार्वती पुल पर 22 फीट पानी से कोटा-श्योपुर मार्ग 5 दिन से बंद।

सीमल्या . जंगम समाज की समाधियों के मार्ग में भरा बारिश का पानी।

गोदल्याहेडी . पानी भरने से डूबी फसल।

बड़ोद काली सिंध नदी की पुलिया पर 20 फिट पानी

गणेशगंज .
बारिश के कारण गुरुवार को शाम के समय ढीपरी पुलिया पर पानी आया। वाहनों का आवागमन बंद हो गया। शुक्रवार को पानी का दबाव ज्यादा होने से स्टेट हाईवे 70 ढ़ीपरी व बड़ोद काली सिंध नदी की बड़ी पुलिया पर 20 फिट पानी की चादर चली। यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। जलेश्वर महादेव मंदिर परिसर में पानी भर गया। सूखनी नदी में भी पानी का चढाव रहा। खातौली पार्वती नदी के पुल पर भी पिछले 4 दिनों से पानी की आवक होने मध्यप्रदेश का भी राजस्थान से सम्पर्क कंटा हुआ है। बिजली कटौती भी बारिश के कारण हुई। ढीपरी काली सिंध नदी के पास कोलाना गांव में नदी किनारे गांव का विजेन्द्र बैरवा ट्रेक्टर से हकाई करने गया था। ऐसे में बारिश होने के कारण टेक्टर फंस गया। ज्यादा पानी आने से ट्रेक्टर डूब गया।

सुल्तानपुर। क्षैत्र में लगातार हो रही भारी बारिश के चलते नदी नाले उफान पर है तो बड़ौद कस्बे में स्थित काली सिंध नदी पुलिया पर शुक्रवार को भी पुरी तरफ आवागमन बंद रहा तो वही मंडावरा - रोटेदा चंबल नदी पुलिया पर भी आवागमन बंद था।

अयाना . कस्बे में अस्पताल मुख्य सड़क मार्ग में भरा बरसाती पानी।

जंगम समाज की समाधियों के मार्ग में भरा पानी

सीमल्या .
कस्बे में राज्य सरकार द्वारा मंडोला रोड के पास आवंटित जंगम समाज के समाधि स्थल पर जाने वाले मुख्य मार्ग पर नाले का निर्माण नहीं होने के चलते मुख्य मार्ग पर करीब तीन से चार फिट बारिश का पानी भरा हुआ है। समाधियों पर जाने वाला रास्ता बंद होने से समाज के लोग समाधि स्थल पर भी नहीं जा पा रहे हैं। कस्बे के ओंकारेश्वर महादेव जंगम उत्थान सेवा समिति के अध्यक्ष राजेंद्र जंगम सहित समाज के अन्य लोगों ने बताया कि शुक्रवार से श्राद्ध पक्ष शुरू हुआ है। इस कारण समाज के लोगों को समाधि स्थल पर अपने, अपने पूर्वजों की समाधियों पर श्रद्धा सुमन अर्पित करने जाना था। लेकिन समाधियों पर जाने वाले मार्ग पर तो करीब चार फिट पानी भरा हुआ है। जिसके कारण समाज के लोगों का समाधि स्थल पर जाना ही नहीं हुआ। ऐसे समय में अगर किसी समाज के व्यक्ति की मौत हो जाये तो समाज के लोग समाधि स्थल पर शव भी नही ले जा सकते यह स्थानीय ग्राम पंचायत प्रशासन के लिए बड़ी शर्म की बात है। अध्यक्ष राजेंद्र जंगम के अनुसार जंगम समाज मे परिवार के किसी सदस्य की मौत होने पर उनके शव की इसी समाधि स्थल पर गड्डा खोदकर समाधि लगाई जाने की समाज मे वर्षों पुरानी परंपरा चली आ रही है। जंगम समाज समिति के अध्यक्ष राजेंद्र जंगम, महामंत्री किशन महाराज, वरिष्ठ उपाध्यक्ष मदनलाल जंगम, कोषाध्यक्ष कन्हैया जंगम, उप कोषाध्यक्ष हितेश जंगम, रोहित जंगम, अजय जंगम, छोटू लाल जंगम, दीनदयाल जंगम, नरोत्तम जंगम, सहित समाज के अन्य ने लोगों ने ग्राम पंचायत प्रशासन से उक्त रास्ते की समस्या का जल्द समस्या का समाधान करवाने की मांग की है। राजेश नागर, सरपंच ग्राम पंचायत सीमल्या ने बताया कि हमारे द्वारा उक्त जंगम समाज के समाधि स्थल पर जाने वाले रास्ते पर पक्का नाला निर्माण तथा समाधियों पर जाने के लिए पक्की सड़क निर्माण कार्य करवाने के प्रस्ताव पूर्व में ही भेज रखे हैं। स्वीकृति करवाकर जल्द निर्माण कार्य शुरू करवाने के प्रयास करेंगे। हरिमुकेश नागर, ग्राम विकास अधिकारी ग्राम पंचायत सीमल्या ने बताया कि जंगम समाज के समाधि स्थल के आसपास खेतों से बारिश का पानी बहकर आने से समाधि स्थल के रास्ते पर पानी बारिश का पानी भरा हुआ है। वैसे ग्राम पंचायत ने प्रस्ताव भेज रखे हैं, फिर भी फिलहाल एक दो दिन में उक्त रास्ते पर वैकल्पिक व्यवस्था कर रास्ते की समस्या का समाधान करवा देंगे।

सुल्तानपुर. चंबल नदी का जल स्तर बढ़ने से गांवों तक पहुंचा पानी।

बपावर. गेहूंखेड़ी के एक खेत में जलमग्न साेयाबीन की फसल।

बारिश का पानी खेतों में भर जाने से फसलें चौपट

गोदल्याहेडी .
पिछले कई दिनों से हो रही तेज बारिश से किसानों की फसलों पर पानी फिर गया। क्षेत्र का जलस्तर बढ़ रहा है। बारिश का पानी खेतों में भर जाने से क्षेत्र के किसानों की फसलें चौपट हो गई हैं। किसान अतिवर्षा से बर्बाद हुई फसलों का सर्वे कराकर मुआवजे की मांग उठा रहे हैं। सूखे से जूझते किसानों ने अच्छे मानसून की उम्मीद में खेतों को तैयार कर उड़द, मूंगफली व मक्का की फसलें बोई थीं और सुनहरे सपने संजोये थे मगर बीते दिनों से हो रही निरंतर बारिश ने उनके सपने एक बार फिर चूर कर दिए।

बरसात से फसल खराब

अयाना .
कस्बे सहित क्षेत्र में लगातार हो रही 2 दिन से मूसलाधार वर्षा के चलते जनजीवन प्रभावित है। खेतों में इन दिनों खड़ी सोयाबीन व उड़द मूंग की फसल वर्षा से खराब होने लगी है। ऐसे में अब किसानों में खराब होती फसल को देखकर किसानों में मायूसी छाने लगी है। वर्षा के चलते शुक्रवार को सुबह से ही पड़ोसी राज्य में स्थित मध्य प्रदेश के बॉर्डर पर सूरथाक पुलिया पर करीब 5 फुट पानी होने से बारां श्योपुर हाईवे राजमार्ग पर आवागमन बंद है।

गणेशगंज. क्षेत्र में पिछले 2 दिनों से हो रही लगातार बारिश से उड़द की फसल पूर्ण रूप से चौपट हो चुकी है। किसानों का कहना है कि पानी रुके तो फसल की कटाई की जाए लेकिन अब फसल में कुछ बचने वाला नहीं है। फलियांे से दाना गिरने की शिकायत रहेगी क्योंकि तेज धूप में यह फसल का दाना गिरेगा। किसानों के सारे अरमानों पर पानी फेर दिया। किसान लोग सरकारी अधिकारियों से मुआवजा लेने की आस में बैठे हैं। किसानों ने सरकार द्वारा मुआवजा दिलाने की मांग की।

गणेशगंज. काली सिंध नदी में बहता पानी।

Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
X
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
Itawah News - rajasthan news clashes in kali sindh parvati and chambal kota etawa sheopur route closed
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना