• Hindi News
  • Rajasthan
  • R.mandi News rajasthan news entry of cattle in the mangandra the tiger tigers are the victims of hunting

मुकंदरा में मवेशियों की एंट्री: बाघ-बाघिन के लिए अासान हुअा शिकार

Zila News News - भास्कर न्यूज | रामगंजमंडी/काेटा मुकंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व एरिया में बारिश के बाद मवेशियाें की चाेरी-छिपे...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 10:30 AM IST
R.mandi News - rajasthan news entry of cattle in the mangandra the tiger tigers are the victims of hunting
भास्कर न्यूज | रामगंजमंडी/काेटा

मुकंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व एरिया में बारिश के बाद मवेशियाें की चाेरी-छिपे एंट्री हाे रही हैं। मवेशी मालिक चराई के बहाने रिजर्व में बफर से सटे एरिया के अलावा काेर में भी मवेशियाें की घुसपैठ करवाना शुरू कर रहे हैं। एेसे में बाघ-बाघिन के लिए वन्यजीवाें की अपेक्षा मवेशियाें का शिकार अासान हाेने लगा है। वहीं दूसरी अाेर रिजर्व अधिकारियाें ने मवेशियाें की एंट्री राेकथाम के अलर्ट जारी कर दिया है। रेंजर की मीटिंग लेकर अावश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हैं। अधिकारियाें ने कहा कि रिजर्व एरिया में मवेशियाें की एंट्री नहीं रहेगी।

रिजर्व के काेटा, बूंदी, झालावाड़ एरिया में मवेशी पालकाें से पहले समझाईश करेंगी। यदि इसमें काेताही बरतने पर रिजर्व एक्ट के अनुसार कार्रवाई हाेगी। निगरानी के लिए हाेम गार्ड अाैर विलेज वाॅलियंटर लगाए जाएंगे। वहीं, दूसरी अाेर रिजर्व के बाहर घूम रहे एमटी-3 बाघ अाैर एमटी-4 बाघिन द्वारा मवेशियाें के शिकार की अधिक संभावना है। विभागीय जानकारी के अनुसार करीब अाधा दर्जन से अधिक मवेशियाें का शिकार का मुअावजा करीब 50 हजार से अधिक मवेशी मालिकाें काे विभाग दे चुका है।

रेंजर्स पाबंद: 21 हाेमगार्ड अाैर लाेकल विलेज वाॅलीयंटर लगेंगे

अधिकारियाें ने बताया कि रेंजर की इस मामले काे लेकर अलग-अलग मीटिंग ली है। बारिश के दिनाें में मवेशियाें की रिजर्व में एंट्री राेकने के लिए सख्त निर्देश दिए जा चुके हैं। विभाग की अाेर से कुल 21 हाेम गार्ड अाैर 20 से 25 लाेकल विलेज वाॅलीयंटर काे लगाया जाएगा। इनमें 10 काेटा, 5 बूंदी, 6 झालावाड़ एरिया में हाेम गार्ड अाैर दाे दर्जन लाेकल विलेज वाॅलियंटर रिजर्व के अलग-अलग एरिया में लगाए जाएंगे।

यूं करते हैं बारिश में बाघ-बाघिन मवेशियाें का शिकार: प्रदेश के अन्य टाइगर रिजर्व में बाघ-बाघिन बारिश में अधिकांश मवेशियाें का शिकार करते हैं। इनमें सबसे बड़ी बात है कि मवेशियाें का अासानी से शिकार हाे जाता है। बारिश में वन्यजीवाें अासानी से नजर नहीं अाते हैं। साथ ही बारिश में शिकार काे पकड़ने के लिए तेज दाैड़ने की जरुरत भी नहीं हाेती है।

हाेमगार्ड अाैर लाेकल विलेज वाॅलियंटर के रूप में गांव के युवा लगेंगे


भास्कर नाॅलेज

जंगली जानवराें के मुकाबले मवेशी में हाेती है डबल कैलाेरी

एक्सपर्ट बताते हैं कि बाघ-बाघिन द्वारा शिकार किए गए मामले में मवेशी में वन्यजीवाें के अपेक्षा दाेगुनी कैलाेरी हाेती है। यानी की मवेशी के 100 ग्राम शिकार में 250 कैलाेरी हाेती है। जबकि वन्यजीव में 100 से 125 कैलाेरी मिलती है।

भैंस अाैर बैल का है 20 हजार रुपए मुअावजा

वन विभाग की अाेर से 16 नवंबर 2017 काे जारी अादेश के अनुसार वन्यजीव द्वारा मवेशियाें के शिकार पर अलग-अलग मुअावजा दिए जाने के निर्देश जारी किए हैं। इनमें बैल अाैर भैंस के लिए 20 हजार, गाय के लिए 10 हजार, भैंस एवं गाय के बच्चे पर चार हजार, बकरी, बकरा अाैर भेड़ के लिए दाे हजार, ऊंट के जिए 20 हजार अाैर गधा-खच्चर के लिए दाे हजार रुपए का नियमानुसार मुअावजा के निर्देश मिले हैं।

X
R.mandi News - rajasthan news entry of cattle in the mangandra the tiger tigers are the victims of hunting
COMMENT