कटी बाजरे की फसलें पानी में डूबी, किसानों के अरमानों पर तुषारापात, मुआवजे की मांग

Zila News News - जिले में कई स्थानों पर रविवार को दोपहर में कहीं झमाझम तो कहीं हल्की बरसात हुई। हालांकि इससे गर्मी व उमस से तो लोगों...

Sep 30, 2019, 07:55 AM IST
जिले में कई स्थानों पर रविवार को दोपहर में कहीं झमाझम तो कहीं हल्की बरसात हुई। हालांकि इससे गर्मी व उमस से तो लोगों को राहत मिली, वहीं खेतों में फसलों के खराब होने के अंदेशे से किसान मायूस नजर आए। शहर सहित आसपास के कई गांवों में दोपहर करीब दो बजे झमाझम बरसात हुई। तहसीलदार ओमप्रकाश वर्मा ने बताया कि चौमू में रविवार को 5 एमएम बरसात दर्ज हुई है।

जोबनेर में 11 मिमी बारिश

जोबनेर | क्षेत्र में बारिश ने एक बार फिर से रुख किया और तेज हवा के साथ हुई बारिश ने मौसम को तो ठण्डा कर दिया, लेकिन किसानों के अरमानों पर पानी फेर दिया। इससे किसान चिंतित नजर आए। बारिश भी ऐसी हुई जिसका किसी को अनुमान भी नहीं था। दोपहर बाद अचानक मौसम बदला और तेज हवा के साथ आधा घंटा जोरदार बारिश का दौर चला। तापमान में गिरावट हुई, लेकिन फसलों का नुकसान होने का अनुमान है। इस समय खेतों में मूंग व बाजरे की कटी फसल पडी़ है। तेज हवा व बारिश ने कटी फसल को बरबाद करने में कोई कसर नहीं छोडी़। किसानों ने बताया कि 10-15 दिन बाद आती तो आगे वाली फसल के लिए बारिश का फायदा होता। कुछ दिन में बढ़ रहे तापमान में गिरावट हुई और न्यूनतम तापमान 24.2 डिग्री दर्ज हुआ। जबकि पिछले कुछ दिन तापमान 34 डिग्री से ऊपर चला गया था। कृषि विवि मौसम वैधशाला पर्यवेक्षक सोहन लाल जाखड़ ने बताया कि 11.6 एमएम बारिश दर्ज की गई है। न्यूनतम तापमान 24. 6 व अधिकतम 31.2 डिग्री दर्ज किया गया है।

हिरनोदा | कस्बे सहित क्षेत्र में रविवार को बारिश हुई है। रूक-रूक कर बारिश का दौर चलने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। किसानों ने बताया कि इस समय हुई बारिश से बाजरा, मूंग, ग्वार व मूंगफली की फसलों को नुकसान हो रहा है।

बाघावास | कस्बे सहित आसपास के गांवों में रविवार को दोपहर बाद मेघ गर्जन के साथ बारिश होने से लोगों को उमस व गर्मी रहने से राहत मिली। मौसम सुहाना हो गया। किसानों के चे हरो पर फसलों की बर्बादी होने से मायूसी देखने को मिली। सड़क मार्गों व बाजारों में बारिश का पानी भरने से दुपहिया वाहन चालकों व राहगीरों को परेशानियों का सामना करना पडा।

भैसावा | कस्बे सहित आसपास के गांवों में रविवार को बारिश होने से पकी पकाई फसलों में खराबा होने से किसानों की आंखों में आंसू आ गए व चे हरो पर उदासी छा गई। किसान श्रवण लाल कडवाल ने बताया कि बारिश से बाजरा, मूंग, मोठ व गवार आदि फसलों की खराबी होने से पशुओं के चारे के साथ ही अनाज भी खराब हो गया है। किसानों ने राज्य सरकार व कृषि विभाग से फसलों में हुए नुकसान की खेतों में गिरदावरी रिपोर्ट कराकर मुआवजा दिलाने की मांग की है।

खेतों में पकी फसलों को बचाना टेढ़ी खीर

चाकसू | क्षेत्र में लगातार हो रही बरसात से किसानों की परेशानियां बढ़ती जा रही है। चाकसू में रविवार को भी बरसात से खेत खलिहानों में पड़ी फसलें खराब होने लगी है। इस समय बाजरा ज्वार गवार एवं मूंगफली की फसलें पूरी तरह पक चुकी है। बाजरे की अधिकांश जगह फसल कटकर खलियान में पड़ी है। रोजाना हो रही बरसात से पहले ही फसलें खराब हो चुकी हैं। अधिकांश बाजरा कैटल फीड हो गया है। इससे किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ेगा।

चौमू क्षेत्र में बाजरा-मूंग-ग्वार-मूंगफली की फसल को नुकसान

शाहपुरा। पिलपोद ग्राम में बारिश होने से खेतों में पानी में डूबी कटी कटाई बाजरे की फसल।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना