अंतरजातीय विवाहों से ही सशक्त बनेगा भारत

Zila News News - दूसरों को नसीहत देना आसान होता है स्वयं पर लागू करना मुश्किल होता है। ऐसे ही प्रागपुरा कस्बे के एक परिवार ने...

Dec 04, 2019, 11:31 AM IST
दूसरों को नसीहत देना आसान होता है स्वयं पर लागू करना मुश्किल होता है। ऐसे ही प्रागपुरा कस्बे के एक परिवार ने क्षेत्र में अनोखी छाप छोड़ी है। कस्बे के भैंसलाना रोड हाडिया नगर निवासी रामनिवास हाडिया ने अपने दो पुत्रों की शादी जातिधर्म से हटकर अन्तरजातीय विवाह तथा दूसरा लड़का क्रिश्चियन लड़की के साथ हिंदू रीति रिवाज से शादी की। शादी समारोह में वधू पक्ष से दहेज के रूप में एक रुपया भी नहीं लेकर सिर्फ नारियल भेंट स्वरूप लिया।

सामाजिक कार्यकर्ता राजेश हाडिया ने बताया कि दोनों युवक सगे भाई है तथा अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखते है। बड़ा बेटा दीपक आयकर विभाग में निरीक्षक है व वधू साक्षी सीए है जोकि झज्जर हरियाणा की रहने वाली तथा जाट समाज से है। छोटा लड़का संदीप मल्टीनेशनल कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है व वधू प्रिया ब्राह्मण है और चेन्नई की रहने वाली है। प्रिया ने एमबीए की डिग्री पूरी कर चेन्नई की ही एक मल्टीनेशनल कंपनी के एचआर विभाग में कार्यरत है। दोनों वधु सम्पन्न परिवार से है।

कोटपूतली तहसीलदार अनूप सिंह व सामाजिक कार्यकर्ता नित्येन्द्र मानव ने कहा कि जब तक देश में अंतरजातीय विवाह आम नहीं होंगे तब तक सशक्त राष्ट्र की अवधारणा को मजबूती नहीं मिलेगी। इसलिए राष्ट्रहित में अंतरजातीय विवाह की अवधारणा को मजबूती प्रदान करना होगा।

वेटेनरी विश्वविद्यालय बीकानेर फार्मा मैनेजर महेश चन्द आर्य, राजेश हाड़िया, पूर्व सीबीईओ जौहरीमल वर्मा, डॉ. दिनेश हाडिया, एडवोकेट सतीश हाडिया, एडवोकेट सतीश निमोरिया, समाजसेवी शिम्भूदयाल हाडिया, पुलिस निरीक्षक महेश कुमार व अमीचन्द, सुनील आदि ने देश में प्रथम बार अंतरजातीय विवाह करने वाली समाजसेविका पण्डिता रमा बाई की प्रतिमा भेंट कर वर वधुओं के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

पावटा | अंतरराज्यीय विवाह में पण्डिता रामबाई की प्रतिमा भेंट कर वर वधु को आशीर्वाद देते अतिथि।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना