फागी की 18 पंचायतों में से 11 सामान्य, 4 ओबीसी, चार एससी और एक एसटी वर्ग का बनेगा सरपंच

Zila News News - पंचायतीराज चुनाव प्रक्रिया के तहत जिले के फागी तहसील की फागी पंचायत समिति के अधीन 19 ग्राम पंचायतों के आरक्षण...

Dec 20, 2019, 10:35 AM IST
पंचायतीराज चुनाव प्रक्रिया के तहत जिले के फागी तहसील की फागी पंचायत समिति के अधीन 19 ग्राम पंचायतों के आरक्षण लॉटरी निकाली गई। 18 पंचायतों में 11 सामान्य, 4 ओबीसी, 4 एससी व एक एसटी वर्ग के उम्मीदवार सरपंच पद के लिए अपना भाग्य आजमाएंगे। इसके साथ ही पिछले पांच साल से सरपंच के सपने संजोये युवा नेताओं की लॉटरी लगी है तो कइयों के सपनों पर पानी फिर गया। आरक्षण लॉटरी में जयसिंहपुरा ओबीसी महिला, मांदी ओबीसी महिला, पचाला ओबीसी पुरूष, कांसेल ओबीसी पुरूष, नारेडा एससी पुरूष, किशोरपुरा एससी महिला, कुडली एससी पुरूष, सुलतानिया एससी महिला, निमेड़ा एसटी पुरुष, मंडोर समान्य महिला, रोटवाड़ा सामान्य पुरूष, चौरू समान्य पुरूष, लसाङिया सामान्य महिला, फागी सामान्य पुरूष, मंडावरी सामान्य महिला, मेंदवास सामान्य पुरूष, लदाना सामान्य महिला, चकवाड़ा सामान्य महिला व परवण सामान्य पुरूष के लिए आरक्षित की गई है।

फागी| पंचायत समिति सभागार में अधिकारी लाॅटरी निकालते हुए।

प्रधान, जिला परिषद व पंचायत समिति सदस्यांे के आरक्षण की लॉटरी आज

भास्कर न्यूज | कोटपूतली

ग्राम पंचायताें के सरपंच पद के लिए जैसे ही आरक्षित पदों की घोषणा हुई। इसी के साथ कुछ पंचायतों में वर्तमान सरपंच अब अपनी प|ियों पर दांव खेलने की कोशिश में लग गए है। दूसरी और जयपुर जिले में प्रधान, जिला परिषद सदस्य एवं पंचायत समिति के सदस्यों के पदों को एससी, एसटी, ओबीसी एवं महिलाओं के लिए श्रेणीवार आरक्षण एवं आवंटन के लिए शुक्रवार को जयपुर कलेक्ट्रेट में सायं 4 बजे बैठक होगी। इमें इन पदों के लिए लॉटरियां निकाली जाएगी।

इस बार की लॉटरी के आधार पर तो कई वर्तमान सरपंचों पर नजर डाली जाए तो अनेक पंचायतों में अब वर्तमान सरपंच चुनाव नहीं लड़ सकते है। चिमनपुरा में वर्तमान में ओबीसी वर्ग के पुष्करमल रावत सरपंच है जो सरपंच संघ के अध्यक्ष भी है। इस बार यह पंचायत एसटी के लिए आरक्षित हो गई है। ऐसे में वर्तमान सरपंच रावत चुनाव नहीं लड़ सकते। इसी प्रकार खेड़की वीरभान में वर्तमान में एससी के सरपंच आेमसिंह आर्य है। इस बार यह पंचायत ओबीसी महिला वर्ग के लिए आरक्षित हो गई। इस बार ये भी दौड़ से बाहर हो गए।

कई दावेदारों के अरमानों पर पानी फिरा तो कइयों ने चुनाव लड़ने की ठानी

कार्यालय संवाददाता | शाहपुरा

पंचायतीराज चुनाव के लिए निकाली गई लाटरी ने शाहपुरा ब्लॉक की ग्राम पंचायतों में सरपंच बनने के कई दावेदारों के अरमानों पर जहां पानी फेर दिया वही कइयाें को खुशी के पंख भी लगा दिए। शाहपुरा ब्लॉक की 36 ग्राम पंचायतों की बुधवार को उपखंड कार्यालय में लाटरी निकाली गई थी जिसमें 2 एसटी, 6 एससी, 8ओबीसी, 20 जनरल की सीट निकली। महिलाआें की इस बार पिछली बार की तुलना में 17% बढ़कर 50 फ़ीसदी आरक्षण कर देने से गांव की सरकार में महिलाओं की भागीदारी पुरुष के बराबर रहेगी। गत बार शाहपुरा ब्लॉक में 33 ग्राम पंचायती थी जिन्हें परिसीमन में बढ़ाकर 36 ग्राम पंचायतें कर दी गई। लॉटरी के बाद अब गांव की सरकार में भागीदार बनने का सपना सजाने के लिए कई नई दावेदार उभर रहे हैं वहीं कई दिनों से सरपंच बनने की उम्मीद पाले बैठे लोगों को आरक्षण बदल जाने से आशा निराशा में बदल गई। लेटकाबास पंचायत के सरपंच दीपशिखा चौधरी के पिता सुगन चंद बड़बड़वाल ने बताया कि उन्हें सामान्य या ओबीसी की लॉटरी आने की उम्मीद थी लेकिन अजजा की लॉटरी खुलने से उनके उम्मीदों पर पानी फिर गया। उनकी सरपंच पुत्री दीपशिखा ने ग्राम पंचायत का विकास भी खूब करवाया था ताकि अगली बार उनको फायदा मिल सके लेकिन आरक्षण की लॉटरी ने सारा खेल बिगाड़ दिया।

लेटकाबास पंचायत में पहली बार पुनर्गठन में लाखनी गांव को जोड़ा गया था जो कांट ग्राम पंचायत में आता था। इसी प्रकार गांव के संदीप शर्मा, ओम प्रकाश शर्मा, पंचायत समिति सदस्य रामकुमार कटारिया, सीताराम भी अपनी-अपनी प|ियों को सरपंच बनाने की तैयारी में जुटे थे लेकिन लॉटरी ने सपनों को चकनाचूर कर दिया। एसटी की सीट की उम्मीद पाले भोलाराम धानका, रामजी लाल मीणा, लालाराम मीणा ने अपनी प|ियों को चुनाव लड़ने के लिए तैयारी शुरू कर दी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना