पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Rawatbhata News Rajasthan News Teachers Should Always Keep The Flame Of Education Alive Only Then The Good Of The Country Site Director

शिक्षक हमेशा शिक्षा की ज्योति को जलाए रखें, तब ही देश का भला: स्थल निदेशक

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सत्रांरभ प्रधानाचार्य, प्रधानाध्यापक शैक्षिक संगोष्ठी उच्च माध्यमिक, माध्यमिक, उच्च प्राथमिक, प्राथमिक स्कूल, शिक्षाकर्मी स्कूल बालिका सहित निजी एवं मान्यताप्राप्त स्कूलों की बुधवार को उच्च माध्यमिक स्कूल रावतभाटा में संपन्न हुई। समापन समारोह के मुख्य अतिथि राजस्थान परमाणु बिजलीघर के स्थल निदेशक विजयकुमार जैन थे।

उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में जो ज्योति सभी प्रधानाचार्य, प्रधानाध्यापकों ने जला रखी है, उसे अनवरत जारी रखें। आरएपीपी के द्वारा शिक्षा के उन्नयन के लिए स्कूल में जो आवश्यकता होगी, उसे हर संभव सीएसआर के माध्यम से पूरा करने का प्रयास किया जाएगा। अध्यक्षता करते हुए मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी पन्नालाल बैरवा ने कहा कि सभी शिक्षकों की सहायता के लिए सदैव तत्पर हूं। आप सभी संस्थाप्रधान लगन से इस क्षेत्र को शिक्षा की नई ऊंचाईयों की ओर ले जाएंगे। राजस्थान ही नहीं इस देश में इस क्षेत्र का नाम रोशन आपके द्वारा किया जाएगा। संचालन उच्च माध्यमिक स्कूल झरझनी के ओमप्रकाश राठौर नैयर अफरोज ने किया। रेनखेड़ा प्रधानाचार्य माया बाडौलिया हरित राजस्थान पौधरोपण नामांकन से जोड़ते हुए, उच्च माध्यमिक स्कूल रावतभाटा व्याख्याता कलिका जैन शारीरिक शिक्षा योग एवं प्रभावी प्रार्थना सभा, केपीएस बोराव व्याख्याता अशफाक हुसैन ने एसआईक्यूई पर वार्ता प्रस्तुत की। प्रशासनिक सत्र शिक्षा अधिकारी की ओर से वार्ता प्रस्तुत की गई। प्रधानाचार्य लुहारिया अशोककुमार जैन अनुशासन पर वार्ता प्रस्तुत की। अर्जुनसिंह शक्तावत ने शिक्षा में नवाचार स्कूल में तकनीकी शिक्षा के युग में नवाचारों का होना अतिआवश्यक है। जैसे कम्प्यूटर शिक्षा का ज्ञान सभी बच्चों को आज के युग में आवश्यक हो गया है। ऐसा ही अनेक विधाओं को शिक्षा के नए प्रतिमान बनाने में सहायक होंगे।

शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाकर प्रतिभाअाें काे सामने लाएं

मोड़क स्टेशन.
हमें हर हाल में शिक्षा की गुणवत्ता को सुधारना है। बच्चों को स्कूल में वह सब सीखने को मिलना चाहिए जिसकी कल्पना उसके अभिभावक और सरकार करती है। हालांकि हमारे सामने चुनौती है, लेकिन इसे हम पहले से कर रहे हैं। अब समय के साथ हमें शिक्षा में बदलाव लाएंगे। बालिकाअाें काे प्राेत्साहन देना हाेगा अाैर प्रतिभाअाें का चयन कर उन्हें अागे लाना हमारा प्रयास हाेना चाहिए। यह संबाेधन मंगलम क्लब मोडक में अायाेजित 2 दिवसीय संस्था प्रधान वाकपीठ में विशेषज्ञाें ने दिया। ब्लॉक स्तरीय अायाेजन का समापन बुधवार को हुआ। जिसमें प्राथमिक, उच्च प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च माध्यमिक विद्यालयों के संस्था प्रधानों ने भाग लिया। ये आयोजन प्रथम बार जिला स्तर के स्थान पर ब्लॉक स्तर पर आयोजन किया गया। प्राथमिक, उच्च प्राथमिक के संस्था के संस्था प्रधान भी प्रथम बार प्रधानाचार्यो के साथ वाकपीठ में सम्मिलित हो रहे हैं। विशेषज्ञों ने महत्वपूर्ण विषयों पर अपनी बात कही। वाकपीठ कार्यकारिणी अध्यक्ष राजेश मीना, संयोजक हरीश गुगरवाल व समस्त कार्यकारिणी पदाधिकारियों की ओर से ये आयोजन हुआ। कार्यक्रम में मंगलम प्रेसीडेंट एसएस जैन, नवोदय विद्यालय के प्रिंसिपल पी. सेल्वम ने भी संबोधित किया। समापन सत्र में सभी ने पौधरोपण किया और जल संरक्षण की शपथ ली। इस सत्र में सेवानिवृत्त होने वाले संस्था प्रधान गोपाल कृष्ण शर्मा, सत्यनारायण कछावा को सम्मानित कर विदाई दी गई।

रावतभाटा। सत्रांरभ प्रधानाचार्य, प्रधानाध्यापक शैक्षिक संगोष्ठी के समापन पर मौजूद संस्थाप्रधान।

रावतभाटा। सत्रांरंभ प्रधानाचार्य, प्रधानाध्यापक शैक्षिक संगोष्ठी के समापन पर राजस्थान परमाणु बिजलीघर के स्थल निदेशक विजयकुमार जैन स्मृतिचिन्ह देते सीबीईओ।

सेवानिवृत्त होने वालों का किया सम्मान

इस मौके पर सेवानिवृत्त होने वाले उच्च माध्यमिक स्कूल भैंसरोडगढ़ प्रधानाचार्य महावीर प्रसाद विजयवर्गीय, उच्च माध्यमिक स्कूल राजपुरा प्रधानाचार्य रामवीरसिंह का माल्यार्पण, स्मृतिचिन्ह देकर सम्मान किया गया।

वाकपीठ कार्यकारणी का हुआ गठन

मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी भैंसरोडगढ़ पन्नालाल बैरवा की अध्यक्षता में वाकपीठ कार्यकारणी का गठन किया गया। जिसमें अध्यक्ष सत्तोलाल गुप्ता, उपाध्यक्ष भूपेंद्रसिंह चौधरी, सचिव अर्जुनसिंह शक्तावत, सहसचिव सलमा सय्यद, कोषाध्यक्ष अशोककुमार जैन, उपकोषाध्यक्ष मनोहरसिंह, महिला सदस्य राजबीरीदेवी, समिति सलाहकार ओमप्रकाश मीणा, ओमप्रकाश रेगर शामिल हैं।

खबरें और भी हैं...