• Hindi News
  • Rajasthan
  • Shahpura News rajasthan news the lack of nafri patrols in villages are making friends

नफरी की कमी, गांवों में पुलिस मित्र बनाकर कर रहे हैं गश्त

Zila News News - पुलिस में नफरी की कमी के चलते संपूर्ण थाना इलाके में रात्रि गश्त करने में बाधा की स्थिति बनीं से निपटने के लिए...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 11:00 AM IST
Shahpura News - rajasthan news the lack of nafri patrols in villages are making friends
पुलिस में नफरी की कमी के चलते संपूर्ण थाना इलाके में रात्रि गश्त करने में बाधा की स्थिति बनीं से निपटने के लिए अजीतगढ़ एसएचओ सवाई सिंह ने नई पहल करते हुए गांवों में पुलिस मित्र बनाकर उनके सहयोग से रात्रि गश्त कर रहे है। थाना प्रभारी की नई पहल का ग्रामीण अंचल में लोगों ने सराहना करते हुए इसमें भागीदारी निभाने की रुचि दिखा रहे है।

जानकारी मुताबिक अजीतगढ़ थाने के अधीन दो चौकियां दिवराला तथा अजीतगढ़ कस्बा चौकी रिकॉर्ड के मुताबिक संचालित है, लेकिन हाल ही थाना और दोनों चौकियों में नफरी काफी कम होने से विस्तृत थाना इलाके में नियमित गश्त करने में समस्या आ रही थी।

सी एलजी और शांति समिति के सदस्यों से विचार विमर्श के बाद थाना प्रभारी सवाई सिंह ने नई पहल शुरू की। जिसमें ग्रामीण अंचल में रात्रि गश्त के लिए पुलिस मित्र लगाकर गांवों में रात्रि गश्त करने में जुटे हुए है।

गांवो के मंदिरों में चोरी पर इजाद की नई पहल

इलाके के हरिपुरा भैरव मंदिर और हरदासकाबास में जीणमाता मंदिर में चोरों ने एक ही रात में ताले तोड़कर सोने और चांदी के छत्र चुरा ले गए।

इसके बाद ग्रामीणों ने नियमित गश्त करने की मांग की थी। विस्तृत थाना इलाका होने तथा थाने पर मात्र एक सरकारी वाहन, कम नफरी के बावजूद एसएचओ, सी एलजी और शांति समिति सदस्यों ने इलाके के कानून और शांति व्यवस्था बनाएं रखने का लक्ष्य तय किया। इस मौके पर एसएचओ सवाई सिंह ने बताया कि नियमित गश्त की जाएगी, जिसमें पुलिस मित्रों का सहयोग लिया जाएगा।

अपराध घटे, रात में चोरों पर नजर, युवाओं ने उठाया बीड़ा

अजीतगढ़ | थाना प्रभारी पुलिस जाब्ते के साथ पुलिस मित्रों से सहयोग लेकर रात्रि गश्त करते हुए।

पुलिस को नए मित्रों की तलाश, पुलिस मित्र अपराध की रोकथाम के साथ कई कार्यों में कर सकते हैं मदद

कार्यालय संवाददाता | शाहपुरा

आमतौर पर लोगों से दूरी रखने वाला पुलिस विभाग अब जनता से जुड़ने के लिए नई पहल करने जा रहा है। अब आम लोग भी पुलिस से मित्रता का हाथ बढ़ा सकते हैं। इसके लिए विभाग ने पुलिस मित्र योजना शुरू की है। इसमें कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन आवेदन कर पुलिस का मित्र बन सकता है। आवेदन प्रक्रिया भी मुख्यालय से शुरू कर दी है। पुलिस की कार्य प्रणाली में बदलाव लाने को लेकर पुलिस मुख्यालय की ओर से यह योजना शुरू की गई है। विभाग का मानना है कि इससे पुलिस तंत्र को मजबूती मिलेगी और समाज को भी पुलिस का पूरा सहयोग मिलेगा। हालांकि इसमें पुलिस मित्र को किसी तरह का मानदेय या प्रोत्साहन नहीं मिलेगा। पुलिस मित्र बनने के लिए राज्य में निवास करने वाला कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन आवेदन कर सकता है। विषय भी निर्धारित किए गए हैं। इनमें आवेदक को रुचि के अनुरुप विषय चुनने होंगे। आ

पुलिस मित्र अपराध की रोकथाम के साथ ही जागरूकता अभियान, अपराध जागरूकता, अभियान यातायात सहायता, अतिक्रमण, महिला अधिकार, साइबर क्राइम, एंटी नारकोटिक्स, धार्मिक उत्सव-जुलूस में सहयोग, वैवाहिक विवाद, पीडि़त सहायता कार्यक्रम, पर्यावरण संरक्षण, साम्प्रदायिक सद‌्भाव सहित कई विषयों पर मदद कर सकते हैं।

दोस्ती की ये तीन शर्तें

आवेदनकर्ता आपराधिक, अवांछनीय गतिविधियों में लिप्त न हो। राजनीति में सक्रिय व्यक्ति न हो। आवेदक की उम्र 18 से अधिक हो, अपराधों को रोकने के लिए संकल्पित व सजग होना चाहिए।

रात में चार शराबियों को पकड़ा : थाना प्रभारी ने स्टाफ और पुलिस मित्र की टीम के साथ शुक्रवार रात को थाना इलाके के मण्डूस्या, मोदयाड़ी, हरिपुरा, पारोडा, हरदासकाबास, हरिपुरा मोड़, नारे, खटकड़ मोड़, अजमेरी समेत ग्रामीण अंचल में रात्रि गश्त की। इस दौरान संदिग्ध वाहनों की चैकिंग की गई तथा चार शराबियों को पकड़ा।

ऐसे करें आवेदन : आवेदक को पुलिस के वेबपोर्टल पर जाकर पुलिस मित्र के लिंक पर क्लिक करना होगा। आवेदन पत्र में विवरण भरने के बाद सेव करना होगा। सेव होते ही आवेदन पत्र स्वत: ही संबंधित थाने में पहुंच जाएगा। थाना प्रभारी पोर्टल पर अपनी लोग इन आईडी से आवेदन देखकर उसकी थाने के रिकॉर्ड से जांच करेंगे तथा विवरण का सात दिन में सत्यापन होने के बाद आवेदन स्वीकार होने पर स्वत: मैसेज पहुंचेगा।

शांति व्यवस्था होगी कायम


X
Shahpura News - rajasthan news the lack of nafri patrols in villages are making friends
COMMENT