• Hindi News
  • Reet 2021
  • Amidst The Netbandi, The Examination Of More Than 16 Lakh Candidates, Police Stationed Everywhere, 30 Thousand CCTVs Will Be Monitored At The Examination Center

राजस्थान की सबसे बड़ी परीक्षा REET:बस्सी में नकल पर हंगामा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज, अलवर में पूरी क्लास को करवाई नकल, राजधानी में कई जगह जाम

जयपुर2 महीने पहले

राजस्थान के इतिहास में प्रदेश की सबसे बड़ी राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा (REET) के लेवल-1 व लेवल-2 की परीक्षा खत्म हो गई है। परीक्षा सेंटर्स पर पुलिस की कड़ी निगरानी रही। पहली पारी में रीट लेवल-2 व दूसरी पारी में लेवल-1 में कड़ी सुरक्षा के बीच सभी अभ्यर्थियों को एंट्री दी गई। लेवर-2 की परीक्षा में अलवर के साथ-साथ जयपुर के बस्सी में भी जमकर हंगामा हुआ है। यहां पुलिस को लाठीचार्ज तक करना पड़ा है। फिलहाल तनाव की स्थिति बनी हुई है। जयपुर के बस्सी के अलावा राज्य के कई जिलों में नकल, पेपर आउट, परीक्षा में नहीं बैठने देने, पेपर देरी से देने और पेपर की सील खुली होने को लेकर कई जगह हंगामा हुआ, पुलिस और प्रशासन को पहुंचना पड़ा।

जयपुर की सड़कों पर उतरी REET स्टूडेंट की भीड़:सेंटर्स से छूटते ही बस स्टैंड की दौड़े, सीट नहीं मिलने पर खड़े होकर ही सफर किया; सीकर रोड, दिल्ली रोड पर लगा लंबा जाम

अभ्यर्थियों की परीक्षा भले ही पूरी हो चुकी है, लेकिन अब पुलिस की परीक्षा शुरू हो गई है। पुलिस कहीं हंगामे से निपट रही है तो कहीं नकल करने वाले गिरोहों काे पकड़ने में लगी है। राजधानी जयपुर से बाहर जाने वाले रास्तों पर जाम की स्थिति बन गई है। सीकर रोड, अजमेर रोड, टोंक रोड, मुरलीपुरा, विद्याधर नगर, दिल्ली रोड पर जाम की स्थिति बन चुकी है। सीकर रोड पर करीब 3 किलोमीटर लंबा जाम लगा है, जिसमें दुपहिया व चौपहिया वाहन फंसे हुए हैं।

सीकर रोड पर परीक्षा के बाद लौटते अभ्यर्थियों के कारण जाम की स्थिति बनी रही।
सीकर रोड पर परीक्षा के बाद लौटते अभ्यर्थियों के कारण जाम की स्थिति बनी रही।

सीकर व जयपुर के बस्सी में सील खुला पेपर, अलवर में नकल पर हंगामा, अजमेर-बीकानेर में पकड़ा
रीट के सेकंड लेवल के पेपर में कई जगह हंगामे, नकल और सील खुला पेपर देने की जानकारी सामने आ रही है। अलवर में बहरोड़ क्षेत्र के कमला देवी स्कूल में नकल को लेकर बड़ी संख्या में अभ्यर्थियों ने हंगामा कर दिया। असल में ठीक दस बजे तक सभी को कक्ष में बैठा दिया गया था।

एक कक्ष में बैठे अभ्यर्थियों ने बताया कि उन्हें 11 बजे तक पेपर नहीं दिया गया। जब इनमें से दो अभ्यर्थी टॉयलेट के लिए गए तो एक कमरे में किताबों के साथ नकल कराई जा रही थी। इन दोनों ने यह बात अपने कक्ष के अन्य साथियों को बताई तो वे सभी बाहर निकले और जमकर हंगामा किया। जिस कमरे में नकल कराई जा रही थी, उसमें 20 से ज्यादा स्टूडेंट थे।

इसके बाद कई स्टूडेंट्स उनकी OMR शीट लेकर बाहर आ गए। पेपर की अवधि पूरी होने से पहले ही करीब डेढ़ घंटा पहले ही पेपर और शीट्स के बाहर आने के बाद कलेक्टर व एसपी मौके पर पहुंचे। अब इस सेंटर पर लेवल-1 का पेपर चल रहा है, लेकिन लेवल-2 का सुबह हुआ पेपर फिर से हो सकता है। हालांकि कलेक्टर का कहना है कि जो बच्चे पढ़कर नहीं आए, उन्होंने बेवजह माहौल खराब किया है। सीकर के लोसल और जयपुर के बस्सी में भी पेपर लेट दिए गए। लोसल के शेखावाटी स्कूल में पेपर लेट दिया और वह भी खुला हुआ, जबकि OMR शीट पहले ही दे दी गई। नियमों के मुताबिक पेपर पर सील लगी होना चाहिए। बस्सी के तिलक पीजी कॉलेज में भी पेपर एक घंटा लेट दिया गया। सील खुली थी। हंगामा हुआ तो पुलिस मौके पर पहुंची।

अजमेर के राजकीय कन्या महाविद्यालय (सावित्री कॉलेज) में परीक्षा की पहली पारी समाप्त होने पर अभ्यर्थियों ने बाहर निकल कर हंगामा किया। उनका कहना था कि पेपर के दौरान कक्ष में घड़ी नहीं थी, इसलिए अंदाजा नहीं लग पाया कि कब ढाई घंटे हो गए। इसके कारण वे OMR शीट पूरी नहीं भर पाए।
अजमेर के राजकीय कन्या महाविद्यालय (सावित्री कॉलेज) में परीक्षा की पहली पारी समाप्त होने पर अभ्यर्थियों ने बाहर निकल कर हंगामा किया। उनका कहना था कि पेपर के दौरान कक्ष में घड़ी नहीं थी, इसलिए अंदाजा नहीं लग पाया कि कब ढाई घंटे हो गए। इसके कारण वे OMR शीट पूरी नहीं भर पाए।

सीकर, चूरू में पकड़ी नकल
सीकर के नीमकाथाना में गंगा बाल निकेतन में बीकानेर के परीक्षार्थी उदयराम को पकड़ा गया है। चप्पल में ब्लूटूथ के साथ, कान में ऑपरेशन लगाकर डिवाइस लगाई हुई थी। उदयराम को कोतवाली थाने लेकर गए हैं। किशनगढ़ के तेली मोहल्ला स्थित आचार्य धर्मसागर स्कूल में ब्लू टूथ डिवाइस के माध्यम से नकल का प्रयास करते एक नकलची पकड़ा है। चूरू निवासी आरोपी गणेशा राम के पास में जो ब्लूटूथ में सिम मिली है।

बीकानेर के एक सेंटर पर परीक्षा देकर निकली अभ्यर्थी बेहद खुश नजर आ रही थीं।
बीकानेर के एक सेंटर पर परीक्षा देकर निकली अभ्यर्थी बेहद खुश नजर आ रही थीं।

परीक्षा से बाहर निकल स्टूडेंट बोले- कट-ऑफ ज्यादा जाएगा
जैसे ही लेवल-2 का एग्जाम पूरा हुआ, सेंटर्स से बाहर निकले अभ्यर्थियों के कारण सड़कों पर खासी भीड़ हो गई। कई जगह जाम जैसी स्थिति बन गई। परीक्षा केंद्रों पर बाहर निकले स्टूडेंट्स ने कहा कि- तैयारी अच्छी थी, पेपर भी अच्छा रहा। हालांकि थोड़ा सरल था, इसलिए कट-ऑफ भी 150 में से 120 से 130 के बीच जा सकता है। ज्यादातर के चेहरे पर खुशी नजर आ रही थी।

सीकर में कुछ लड़कियां लेट हो गईं, प्रवेश नहीं मिला तो गेट खटखटाते हुए रोती रहीं, अजमेर में गुजरात से आई एक महिला का प्रवेश पत्र गुम होने से वह लेट हो गई और उसे प्रवेश नहीं दिया गया तो वह रोने लगी।
सीकर में कुछ लड़कियां लेट हो गईं, प्रवेश नहीं मिला तो गेट खटखटाते हुए रोती रहीं, अजमेर में गुजरात से आई एक महिला का प्रवेश पत्र गुम होने से वह लेट हो गई और उसे प्रवेश नहीं दिया गया तो वह रोने लगी।

लेट पहुंचीं तो रोती-चिल्लाती रहीं लड़कियां, बोलीं- सर गेट खोल दो, करियर खराब हो जाएगा
सीकर में तीन-चार युवतियां कुछ मिनट देरी से अपने परीक्षा केंद्र पर पहुंचीं। गेट बंद था। गेट खटखटाया तो अंदर से मना हो गया। वे रोने लगीं। बोलीं- सर गेट खोल दो, अभी तो परीक्षा शुरू होने में समय है। हमने सालों से इसके लिए सपने देखे हैं, तैयारी की है, गेट खोल दो प्लीज सर, हमारा करियर खराब हो जाएगा। अंदर से कोई रिएक्शन नहीं आया। फिर एक ट्रैफिककर्मी ने उन्हें गेट से भी दूर कर दिया।

अजमेर में गुजरात के दाहोद से आई एक महिला प्रवेश पत्र खो जाने पर दुबारा लाने के कारण लेट हो गई। उसे प्रवेश नहीं दिया तो रोने लगी। परीक्षा देने आई दमयंती तंवर शनिवार को ही अजमेर आ गई थी और अपने रिश्तेदार के यहां रुकी थी। सुबह ठीक नौ बजे से पहले सेन्ट्रल गर्ल्स स्कूल के केन्द्र पर पहुंच गई। तंवर ने बताया कि जब यहां प्रवेश के लिए लगी कतार के दौरान प्रवेश पत्र ढूंढा तो नहीं मिला। ऐसे में बिना प्रवेश पत्र के प्रवेश नहीं दिया। वह दूसरी कॉपी लेकर पहुंची भी, लेकिन समय होने के बाद भी प्रवेश नहीं दिया।

बांसवाड़ा में कलेक्टर के दखल के बाद 10:30 बजे 11 महिला अभ्यर्थियों को एंट्री
नियत समय पर बांसवाड़ा के भारतीय विद्या मंदिर सेंटर पर पहुंचीं 11 महिला अभ्यर्थियों को आधार कार्ड और प्रवेश पत्र में अभिभावक का नाम अलग-अलग होने पर केंद्र से बाहर निकाल दिया गया। आधार कार्ड में पति का नाम था और प्रवेश पत्र में पिता का। ऐसे में वे बाहर निकली तो रोने लगी। जिला प्रमुख मौके पर पहुंचे, कलेक्टर से बात की, इसके बाद कलेक्टर ने दखल देकर सभी को पुन: प्रवेश कराया, लेकिन तब तक परीक्षा शुरू हुए 30 मिनट निकल चुके थे।

लड़कियों के गहने, चुनरी उतरवाई
पहले और दूसरे लेवल की परीक्षा के दौरान केंद्रों पर प्रदेश के सभी सेंटर्स पर गाइडलाइन के अनुसार मंगवाई गई सामग्री के अलावा किसी भी अन्य सामग्री को नहीं ले जाने दिया गया। महिलाओं के गहने जैसे कान की बालियां, टॉप्स और मंगलसूत्र, बालों के रबरबैंड, क्लच व चुनरी आदि भी उतरवा लिए गए। अन्य सभी अभ्यर्थियों के हाथ में बंधे डोरे या ब्रासलेट को खुलवा लिया गया। कुछ लड़कियां जो फुल स्वीव्स के कुर्ते पहन कर आईं थीं, उनकी स्वीव्स को कैंची से काटा गया। यानी किसी भी सूरत में कोई भी ऐसी सामग्री अंदर नहीं ले जाने दी गई, जिससे नकल की जरा भी गुंजाइश पैदा हो। इस बीच बीकानेर में चप्पल से नकल का मामला सामने आया है। अलवर, जयपुर और सीकर में भी नकल या लेट पेपर देने के मामले आए हैं।

REET में नकल रोकने अलर्ट पर पुलिस और सायबर सेल

REET के लिए काटनी पड़ी कान की बालियां:जयपुर में नवजात को मामा की गोद में छोड़ मां ने दी परीक्षा, फुल आस्तीन के सूट वाली महिला अभ्यर्थियों को हुई परेशानी; मंगलसूत्र भी उतारने पड़े

एग्जाम सेंटर में एंट्री नहीं मिलने पर रोती-बिलखती रही:देरी से पहुंचने वाले गेट के बाहर हाथ जोड़कर मिन्नतें करते रहे, पर प्रबंधन नहीं पसीजा; गुजरात से आई महिला का एडमिट कार्ड खो गया

कैंडिडेट ने लेट कर दिया REET:बंदर के धक्का देने पर छत से गिरी माधवी की रीढ़ की हड्‌डी में आई है चोट; सेंटर में लेट कर पेपर देने की कराई गई व्यवस्था

खबरें और भी हैं...