• Hindi News
  • National
  • REET 2021 Hindi Expert Dr Raghav Prakash, How To Study In 30 Days What Will Get You A Job, Latest News Update

REET में हिंदी महत्वपूर्ण, 3 बातों का रखें ख्याल:हिंदी विशेषज्ञ डॉ. राघव प्रकाश से समझें कैसे करें इसकी पढ़ाई, 60% तक संस्कृत की भी हो जाती है तैयारी

जयपुर9 महीने पहलेलेखक: स्मित पालीवाल
शिक्षाविद डॉ. राघव प्रकाश।

रीट परीक्षा में अब सिर्फ 30 दिन बचे हैं। ऐसे में पूरा सिलेबस पढ़ना अब नामुमकिन है। लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है। क्योंकि 30 दिनों की पढ़ाई से भी रीट परीक्षा पास की जा सकती है। यह कहना है जाने-माने हिंदी विशेषज्ञ डॉक्टर राघव प्रकाश का। जिन्होंने ने बताया कि सही तरीके और समय पर पढ़ने से अब भी रीट परीक्षा को पास किया जा सकता है। इसके लिए परीक्षा तक पूरी मेहनत के साथ पढ़ाई करनी होगी। साथी टेस्ट सीरीज के माध्यम से हर दिन खुद का मूल्यांकन भी करना होगा। तभी वक्त रहते खुद की कमियों को दूर कर रीट परीक्षा पास की जा सकती है।

कमजोरी सुधारने के लिए एक महीना काफी
डॉ. राघव प्रकाश ने बताया कि रीट परीक्षा को पास करने के लिए आखिरी महीना सबसे महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि इस महीने में की गई मेहनत ही आपका भविष्य तय करती है। ऐसे में इस वक्त सबसे महत्वपूर्ण टेस्ट सीरीज सॉल्व करना है। क्योंकि टेस्ट सीरीज आपकी कमजोरी समय से पहले ही आपको बता देती है। जिससे आप अपनी कमजोरियों में सुधार कर परीक्षा में अच्छे अंक हासिल कर सकते हैं। लेकिन इस दौरान हमेशा अच्छी क्वालिटी की टेस्ट सीरीज का चयन करना जरूरी होता है। क्योंकि वहीं आपकी वास्तविक स्थिति से बता सकती है।

हिंदी से हासिल होंगे अच्छे अंक
डॉ. राघव ने बताया कि रीट परीक्षा में हिंदी काफी महत्वपूर्ण विषय है। क्योंकि हिंदी की तैयारी करने से 60% तक संस्कृत की भी तैयारी हो जाती है। जो हमें परीक्षा में काफी मदद करती है। हिंदी में सबसे महत्वपूर्ण संधि होती है। इसे तैयार करने से शब्द शुद्धि भी तैयार हो जाती है। जबकि 75% तक उपसर्ग भी तैयार हो जाते हैं। 25% प्रत्यय और 25% समास भी सिर्फ संधि तैयार करने से हमें समझ में आ जाते हैं। ऐसे में आखिरी वक्त में संधि को मजबूत करना सबसे ज्यादा जरूरी है।

अच्छे नंबर हासिल करने के लिए बस तीन बातों का रखें ख्याल

डॉ. राघव ने बताया कि रीट परीक्षा की तैयारी के दौरान हिंदी में अर्थ, नियम और अपवाद को समझना में सबसे ज्यादा जरूरी है। क्योंकि हिंदी में संधि, उपसर्ग, प्रत्यय, समास, विलोम शब्द हो या फिर पर्यायवाची सभी में अर्थ समझना महत्वपूर्ण होता है। इसके बाद हमें हिंदी में नियमों की जानकारी भी होनी चाहिए। क्योंकि यह समास, उपसर्ग और संधि में नियमों की जानकारी काफी जरूरी होती है। साथ ही हमें अपवाद की भी तैयारी होनी चाहिए। क्योंकि अपवाद से ही काफी प्रश्न उठते हैं। ऐसे में अगर आप इन तीन बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए आखिरी वक्त में हिंदी की तैयारी करेंगे। तो रीट परीक्षा के दौरान काफी अच्छे अंक हासिल कर सकते हैं।

फर्जी पाठ्य सामग्री से बचें

रीट परीक्षा के दौरान कई पाठ्य पुस्तकें और ऑनलाइन कोचिंग शुरु कर दी जाती है। जहां काफी गलतियां और अशुद्धियां लिखने के साथ ही पढ़ाई भी जाती है। लेकिन इस वक्त हमें बोर्ड द्वारा निर्धारित अच्छे लेखकों द्वारा लिखी गई किताबों को ही पढ़ना चाहिए। इसके साथ ही बाजार में चल रहे रीट के नोट्स को नहीं पढ़ना चाहिए। क्योंकि वह आपको फायदे से ज्यादा नुकसान पहुंचा सकते हैं। ऐसे में आखिरी वक्त पर फर्जी किताब और फर्जी नोट से बचना चाहिए।

नौकरी की टेंशन भूल सिर्फ पढ़ाई पर रखे फोकस

डॉ राघव ने बताया कि आखिरी के वक्त बच्चों के दिमाग में नौकरी की काफी चिंता रहती है। लेकिन हमें परीक्षा के दौरान नौकरी के बारे में नहीं सोचना चाहिए। क्योंकि सोचने से नौकरी नहीं लगती। हमें सिर्फ पूरी मेहनत से पढ़ाई करनी चाहिए। इस वक्त हमें जो चीज समझ आ गई। उसे छोड़कर जो चीज नहीं समझ आई उसकी तैयारी करनी चाहिए। बिना टेंशन परीक्षा तक खुद को खुश रखना चाहिए। क्योंकि ज्यादा टेंशन लेने से कुछ समझ में भी नहीं आएगा ना ही याद होगा। आखिरी वक्त में जो भी आपके सामने हैं। बस उसे पढ़े और तैयारी करें। ऐसा करने से आपकी नौकरी आपके पास होगी।

हिंदी, संस्कृत और शिक्षा मनोविज्ञान सबसे महत्वपूर्ण

रीट परीक्षा के दौरान ज्यादातर बच्चों के पास हिंदी और संस्कृत होती है। दोनों काफी मिली जुली भाषा है। ऐसे में हमें दोनों पर फोकस के साथ शिक्षा मनोविज्ञान का भी अध्ययन करना चाहिए। ऐसा करने से छात्र की आखिरी वक्त में काफी मजबूत तैयारी हो जाएगी। जिससे छात्र आसानी से 150 में से 90 अंक तक हासिल कर सकता है। इसके साथ ही 60 अंकों के लिए विज्ञान और समाज विज्ञान अभी पढ़ना जरूरी है। लेकिन अगर आप हिंदी अच्छे से पढ़ लेते हैं और 90 अंकों में से अच्छे अंक हासिल कर लेते हैं। तो आपको विज्ञान और मनोविज्ञान में सिर्फ पासिंग मार्क्स ही लाने पड़ेंगे।

आखिरी सप्ताह में कुछ नया नहीं पढ़ें

विशेषज्ञ डॉक्टर राघव प्रकाश ने बताया कि आखिरी सप्ताह में हमें कुछ भी नया नहीं पढ़ना चाहिए। हमें कोशिश करनी चाहिए कि अब तक हम जो भी पढ़ते आए हैं। उसे आखिरी के सप्ताह में बार-बार रिवाइज कर सकें। ऐसा करने से आपमें आत्मविश्वास आ जाएगा और परीक्षा में आप ज्यादा से ज्यादा नंबर ला पाएंगे। जिससे आप आसानी से परीक्षा पास कर लेंगे।

ये भी पढ़ें...

REET तैयारी में स्कोरिंग कैसे होगी बेहतर:कट ऑफ के कंपिटीशन को फाइट करें स्ट्रैटेजी के साथ, इन बातों पर करेंगे फोकस तो परसेंटेज आएगी शानदार

30 दिन में कैसे करें REET की तैयारी:कौन-कौन से टॉपिक हैं स्कोरिंग, कमजोर सब्जेक्ट को कैसे करें तैयार, जानिए एक्सपर्ट जितेन्द्र सिंह चौहान से

REET- 2021 के सक्सेस मंत्र:दैनिक भास्कर ऐप पर आज से स्पेशल सीरीज, सब्जेक्ट एक्सपर्ट की टीम देगी हर सवाल का जवाब, एक्सपर्ट से जानिए कैसे करें तैयारी

REET 2021:26 सितंबर को हुए एग्जाम तो नवंबर में जारी हो सकता है रिजल्ट, 16 लाख से ज्यादा अभ्यर्थी देंगे परीक्षा

REET के लिए ऐसे करें मनोविज्ञान कोर्स की तैयारी:बाल विकास शास्त्र और टीचिंग मैथड्स पर विशेष ध्यान दें; अनुभवी टीचर डॉ मंगल यादव दे रहे हैं खास टिप्स

REET भर्ती परीक्षा 2016 के अभ्यर्थियों को बड़ी राहत:2018 में पोस्टेड अभ्यार्थियों से मांगी जाएगी सहमति-असहमति, राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ ने रखी थी मांग

खबरें और भी हैं...