• Hindi News
  • National
  • No Student Gets Zero In Hindi, He Can Become A Hero By Solving The Paper

REET 2021 मॉडल टेस्ट पेपर:'हिन्दी व्याकरण व शिक्षण विधियां' के प्रश्न करके देखें सॉल्व, चेक करें कितनी है तैयारी

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रीट परीक्षा की तैयारी कर रहे आप सभी स्टूडेंट्स के लिए दैनिक भास्कर रोज़ाना कुछ न कुछ नया स्टडी मैटेरियल लेकर आ रहा है। हमने बेहद क्वालिफाइड, अनुभवी शिक्षकों और छात्रों को एक जगह जोड़ने और परीक्षा की तैयारी के लिए जो प्लेटफॉर्म तैयार किया है। उसकी उपयोगिता इसी बात से समझी जा सकती है, कि दैनिक भास्कर ऐप के माध्यम से आप सभी स्टूडेंट्स एजुकेशन और परीक्षा के लिए ज़रूरी टिप्स तो ले ही रहे हैं। साथ ही लेटेस्ट न्यूज अपडेट्स, करंट अफेयर्स, जनरल नॉलेज, राजनीति, शिक्षा, साइंस-टेक्नोलॉजी, हेल्थ और अवेयरनेस, सरकार के निर्णय, मौजूदा हालातों को लेकर ताजा खबरें भी मिल रही हैं। जोकि आपके अपडेट रहने के लिए जरूरी है।

इसके साथ ही अपने मॉडल टेस्ट पेपर की ख़ास सीरीज़ में आज हम आपके लिए ‘हिन्दी व्याकरण व शिक्षण विधियां‘ विषय का पेपर लाए हैं। उम्मीद है कि इस टेस्ट सीरीज को आप अच्छे से पढ़ और समझकर उत्तर देंगे। इससे आपकी अब तक की तैयारी के बारे में आपको जानकारी मिलेगी। साथ ही अंक भी चेक हो जाएंगे। आपको हिन्दी व्याकरण और शिक्षण विधियां परीक्षा के पैटर्न का भी पता चलेगा। इस पेपर की उत्तर कुंजी भी हम आपके लिए प्रकाशित करेंगे। लेकिन आज हम आपके लिए साथ में लाए हैं सामान्य ज्ञान विषय के ‘कला व संस्कृति’ विषय की उत्तर कुंजी। जो टेस्ट आप दे चुके हैं। हमारी एक्सपर्ट टीम रीट स्टूडेंट्स के लिए दिन-रात मेहनत कर रही है।

रीट परीक्षा/ मॉडल टेस्ट पेपर/ हिंदी व्याकरण एवं शिक्षण विधियां

1. निम्न में से अशुद्ध शब्द का चयन कीजिए?

(अ) कलाई

(ब) हलवाई

(स) स्थाई

(द) रुलाई

2. गोस्वामी जी ने ’रामचरितमानस की रचना अवधी भाषा में की। उक्त वाक्य में रेखांकित पद है?

(अ) विशेषण शब्द

(ब) भाववाचक संज्ञा

(स) जातिवाचक संज्ञा

(द) व्यक्तिवाचक संज्ञा

3. किस विकल्प में ’निजवाचक सर्वनाम’ का प्रयोग नहीं हुआ है?

(अ) लड़का अपने आप घर चला गया।

(ब) हमें अपना कार्य खुद करना चाहिए।

(स) आप यहां बैठिए।

(द) वह स्वतः समझ जाएगा।

4. कौन-सा शब्द संज्ञा से निर्मित विशेषण नहीं है?

(अ) रंगीन

(ब) दैनिक

(स) अनुभवी

(द) भुलक्कड़

5. क्रिया के संबंध में असंगत विकल्प का चयन कीजिए

(अ) मैंने पिता जी को पत्र लिखा- एककर्मक क्रिया

(ब) वह अनेक बोलियां बोलता है- सजातीय क्रिया

(स) रमेश मज़दूर से पेड़ कटवाता है- प्रेरणार्धक क्रिया

(द) वह कॉलेज से आकर सो गया- पूर्वकालिक क्रिया

6. शिक्षण की परिभाषाओं के संदर्भ में कौन-सा युग्म असंगत है ?

(अ) शिक्षण उद्देश्य केन्द्रित क्रिया है- बी.ओ स्मिथ

(ब) अधिगम में वृद्धि करना ही शिक्षण है- थाइन

(स) बालक का मस्तिष्क कोरे काग़ज़ के समान होता है- रायबर्न

(द) शिक्षण वह प्रक्रिया है जिसमें एक परिपक्व व्यक्ति दूसरे अपरिपक्व व्यक्ति को अन्तः क्रिया के माध्यम से सिखाने का प्रयास करता है- जैक्सन

7. शिक्षा का अधिकार अधिनियम-2009 में कुल अध्याय एवं धाराएं है?

(अ) 10 अध्याय एवं 35 धाराएं

(ब) 15 अध्याय एवं 25 धाराएं

(स) 35 अध्याय एवं 10 धाराएं

(द) 7 अध्याय एवं 38 धाराएं

8. शिक्षण विधि एवं उनके प्रवर्तक के संबंध में कौन-सा युग्म अनुचित है ?

शिक्षण विधि प्रवर्तक

(अ) किण्डरगार्टन विधि फ्रॉबेल

(ब) विनेटिका विधि रॉबर्ट बुश

(स) मस्तिष्क उद्वेलन विधि आसवर्न

(द) डाल्टन विधि हेलन पार्क हर्स्ट

9. राजस्थान में CCE का संचालन किस कार्यक्रम के तहत होता है ?

(अ) सर्व शिक्षा अभियान

(ब) समग्र शिक्षा अभियान

(स) राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान

(द) उपर्युक्त सभी

10. सम्भाषण कौशल की आवश्यकता होती हैं?

(अ) स्पष्ट एवं शुद्धोच्चारण हेतु

(ब) भावाभिव्यक्ति हेतु

(स) भावानुरूप आरोह-अवरोह के ज्ञान हेतु

(द) उपर्युक्त सभी

(मॉडल टेस्ट पेप- डॉ. के.आर.महिया, रीट एक्सपर्ट)

नोट- इस मॉडल पेपर की आंसर की अगले मॉडस टेस्ट पेपर के साथ पब्लिश की जाएगी ​​​​​।

REET 2021 SST में कला-संस्कृति का मॉडल टेस्ट:पेपर में हैं परीक्षा के लिए Important प्रश्न, परखें कितनी है आपको राजस्थान की जानकारी, देखें साइंस-मैथ में टीचिंग मैथड की आंसर की

कला व संस्कृति उत्तर कुंजी (Answer Key)
1. D - राजस्थान की मानक बोली मारवाड़ी है। इस स्टैंडर्ड बोली का प्राचीन नाम मरुभाषा भी है। पश्चिम राजस्थान के साथ ही यह राज्य के सर्वाधिक क्षेत्र में बोली जाती है। मारवाड़ी के साहित्यिक रूप को डिंगल कहा जाता है।
2. C- ब्लू पॉटरी जयपुर के सांगानेर की प्रसिद्ध है। इसमें परम्परागत रूप से नीले और हरे रंग का प्रयोग होता है। यह अकबर के समय ईरान से लाहौर आयी। इसके बाद राम सिंह प्रथम लाहौर से इसे जयपुर लाये। इस कला का सर्वाधिक विकास राम सिंह द्वितीय के समय में हुआ।
3. A, कच्ची घोड़ी नृत्य राजस्थान के शेखावाटी क्षेत्र और कुचामन, डीडवाना,परबतसर सहित आसपास के क्षेत्रों में किया जाने वाला लोकप्रिय वीर नृत्य हैं। यह नृत्य कमल के फूल की पैटर्न बनाने की कला के लिए प्रसिद्ध हैं। चार-चार व्यक्तियों की आमने-सामने खड़ी पंक्तियां पीछे हटने, आगे बढ़ने की क्रिया तेज गति से करती हुईं इस प्रकार मिल जाती है कि आठों व्यक्ति एक ही लाइन में आ जाते हैं। इस पंक्ति का बार-बार बनना, बिगड़ना ठीक उस कली के फूल की तरह होता है, जो पंखुड़ियां के रूप में खुलती हैं। इसमें लसकरिया, बींद, रसाला और रंग मारिया गीत गाए जाते हैं।
4. B - मुहर्रम के मौके पर मुस्लिम समाज के लोग ताशा बजाते हैं। ताशा वाद्य यंत्र लकड़ी, धातु, पीतल, चमड़े, कपड़े और चर्मपत्र से बना एक ताल का लोक वाद्य यंत्र है। यह वैसे तो भारत में मुस्लिम समाज के लोग सभी जगह बजाते हैं। लेकिन मुख्य रूप से जम्मू और कश्मीर सहित उत्तर भारत के अनेक हिस्सों में भी पाया जाता है। जम्मू और कश्मीर के लोक और पारंपरिक संगीत, नृत्य में मुख्य रूप से इसका उपयोग किया जाता है।
5. B, श्रीनाथजी मंदिर में अलग अलग भाव से केले के पत्तों पर सांझी उकेरी जाती है। राजस्थान में सांझी बनाने की परम्परा वृंदावन से आई है। जब श्रीनाथजी नाथद्वारा पधारे,तो उनके पुजारी वृन्दावन के मंदिरों की तरह ही नाथद्वारा में भी सांझी बनाने लगे। वृन्दावन के पुजारी जहां जहां गए वहां सांझी बनाने की परम्परा को साथ ले गए। नाथद्वारा में सांझी पितृ पक्ष या श्राद्ध पक्ष में बनाई जाती है। केले के पत्ते पर सांझी में मथुरा और वृंदावन के दृश्य बनाए जाते हैं।
6. D, दिलवाड़ा जैन मंदिर के विभिन्न मंदिरों के समूह में लाल वसही मंदिर सम्मिलित नहीं है।
7. B, ऐतिहासिक प्रमाणों, दस्तावेजों, पत्रों, मुगल फरमानों एवं हस्तचित्रित, तस्वीरों के एल्बम के अध्ययन हेतु संग्रहण राजस्थान राज्य अभिलेखागार, बीकानेर में है।
8. B, मेवाड़ में स्थित एकलिंग नाथ जी का मंदिर लकुलीश संप्रदाय से संबंधित है। लकुलीश शैव मंदिरों में प्रमुख देव के रूप में माने जाते थे। इनके मंदिरों में गर्भगृह का प्रमुख पूजा प्रतीक शिवलिंग ही है। एकलिंग मंदिर के 971 ईसवी और 1276 ईसवी के अभिलेखों,उदयपुर के वामेश्वर मंदिर के 1116 ईसवी के अभिलेख और चित्तौड़गढ़ एकलिंग में मिले 8वीं शताब्दी की लकुलिश प्रतिमाएं प्रमाणित करती हैं, कि 8वीं शताब्दी में भी लकुलीश की पूजा की जाती थी।
9. C, इलोजी का मंदिर इलोजी जैसलमेर में स्थित है। पश्चिमी राजस्थान में यह मंदिर लोकप्रिय है। इलोजी का उपनाम छेड़छाड़ वाले देवता हैं। इलोजी एक लोकदेवता हैं। वैसे इनकी प्रतिमाएं मारवाड़ में बहुत से गांवों में पाई जाती हैं। माना जाता है कि ये हिरण्यकश्यप की बहन होलिका के प्रेमी थे। इन्हें किसी चौक या ढाणी के मध्य में मूंछों वाले एक बलवान पुरुष के रूप में पौरूषत्व के प्रतीक के साथ चेहरे पर अभिमान की मुद्रा में प्रतिमा में दिखाया जाता है।किसी पवित्र अवसर पर गांव के लोग गैर नृत्य और चंग की थाप पर इलोजी की यौन शक्ति की प्रशंसा के गीत गाते हैं।
10. C- कपिल मुनि का मेला कोलायत में कार्तिक पूर्णिमा पर भरता है। कोलायत कपिल मुनि की तपोस्थली रही है। कार्तिक पूर्णिमा पर कपिल सरोवर में स्नान का विशेष महत्व है।

इस लिंक पर क्लिक कर हमें भेजें आपके सवाल

ये भी पढ़ें...

REET की तैयारी के साथ खुद को रखें फिट:चुस्त-दुरूस्त रहने और तनाव भगाने के टिप्स खास आपके लिए, रोज करें योगासन और मुद्राएं

REET में ये सूत्र करेगा आपको सफल:30 साल RAS रहे एक्सपर्ट से जानिए मुश्किलें कभी बाधा नहीं बनतीं, कंपीटिटिव एग्जाम दे रहे तो सीखिए दिमाग की सवारी करना

REET में इंग्लिश लैंग्वेज-1 और लैंग्वेज-2 की तैयारी:केवल ग्रामर पर ही नहीं कॉम्प्रिहेंशन और टीचिंग मेथड पर भी करें फोकस, 150 में से 30 नंबर होंगे पक्के, एक्सपर्ट बता रहे ये 11 टिप्स

REET 2021 में SST-इतिहास की तैयारी:रटने की बजाय उपन्यास की तरह दिमाग में उतारें हिस्ट्री, क्रोनोलॉजिकल ऑर्डर में करें तैयारी, एक्सपर्ट बनने की जगह सिलेबस के टॉपिक पर करें फोकस

REET क्लियर करने का सबसे महत्वपूर्ण टिप्स:आज टीचिंग मेथड से जुड़े सवालों के जवाब पढ़िए, इनको समझ लिया तो 33 हजार शिक्षकों की लिस्ट में हो सकता है आपका नाम

खबरें और भी हैं...