• Hindi News
  • National
  • This Is The Mantra To Stay Fit And Relieve Stress, Do Yoga And Postures Daily

REET की तैयारी के साथ खुद को रखें फिट:8 घंटे लगातार स्टडी कर सकती है परेशान, रोज पामिंग, ब्लिंकिंग, बगुला ध्यान और कोबरा पोज आपको रखेंगे टेंशन फ्री, एक्सपर्ट दे रहे खास टिप्स

जयपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्टूडेंट्स के लिए उपयोगी योग और मुद्राएं - Dainik Bhaskar
स्टूडेंट्स के लिए उपयोगी योग और मुद्राएं

रीट 2021 परीक्षा की तैयारी कर रहे स्टूडेंट्स को फिजिकली और मेंटली फिट रहने की बहुत जरूरत है। ताकि आप चुस्त-दुरुस्त और स्ट्रांग रह सकें। तनाव आप पर हावी न हो। आंखों, दिमाग और शरीर की मांसपेशियां तनाव मुक्त रहें। शरीर में अकड़न और जकड़न के साथ गर्दन में खिंचाव पैदा न हो। स्टूडेंट्स और उनकी परेशानियों के साथ लंबे समय तक जुड़े योगा प्रैक्टिशनर मनीष सैन बता रहे हैं जरूरी टिप्स। एक्सपर्ट बताते हैं एक ही पॉजिशन में लंबे समय तक स्टडी करने से बचें। हर एक घंटे के बाद 5 से 10 मिनट का रेस्ट लें। इस बीच आप कुछ आसान योग और योग मुद्राओं का सहारा ले सकते हैं। इनकी मदद से याददाश्त और एकाग्रता भी बढ़ती है। ये स्टूडेंट्स के लिए बहुत फायदेमंद हैं। आइए जानते हैं, कौनसे हैं वो योग आसन और मुद्राएं-

पामिंग
पामिंग

पामिंग- हथेलियां रगड़कर आंखों पर लगाना

योग की यह क्रिया बहुत ही आसान है। पामिंग को कहीं भी बैठ कर आसानी से किया जा सकता है। पामिंग करने के लिए एक जगह पर आप बैठ जाएं। फिर गहरी सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों की हथेलियों को आपस में रगड़ें और जब हथेलियां गर्म हो जाएं, तो उनसे दोनों आंखों को ढंक लें। हथेलियों को तब तक आंखों से लगाकर सिकाई करनी है, जब तक आंखों में गरमाहट न लगने लगे। दोनों आंखों को बंद रखकर कम से कम 3 बार इसे रिपीट करना है। इससे आंखों का तनाव दूर होता है। नजदीक से किताब या किसी भी गैजेट की स्क्रीन को देखने से पैदा हुआ तनाव दूर होकर आंखें रिलेक्स होती हैं। इससे आंखों की रोशनी भी बढ़ती है।

पलकें झपकाना
पलकें झपकाना

पलकें झपकाना या ब्लिंकिंग करना

लगातार घंटों तक पढ़ते रहने से स्टूडेंट्स की नजर तेजी से कमजोर होने लगती हैं। कई बार आंखों में पानी आने की समस्या भी हो जाती है। आंखें लाल रहने लगती हैं या सूजन होने लगती है। ऐसे में एक जगह बैठकर आंखों को जल्दी-जल्दी 10-10 के राउंड में 3 बार फटाफट झपकाएं। इसके बाद 20 सेकंड तक आंखों को आराम देने के लिए बंद रखें।

अनुलोम विलोम प्राणायाम
अनुलोम विलोम प्राणायाम

अनुलोम-विलोम प्राणायाम

योग की यह क्रिया पिछले कुछ सालों में बहुत तेजी से ट्रेंड में आई है। कारण है कि अगर नियमित तौर पर प्राणायाम की प्रैक्टिस करें, तो दिमाग में तनाव नहीं रहता है। पढ़ाई में मन लगता है और उसमें अच्छी तरह ध्यान केंद्रित हो सकता है। प्राणायाम करने के लिए सांस को धीरे-धीरे अंदर खींचकर, उसी तरह धीरे-धीरे ही वापस बाहर निकालते हैं। इससे रेस्पिरेटरी सिस्टम भी मजबूत होता है। ऑक्सीजन सेचुरेशन बढ़ता है।

क्षेपन या सेपना मुद्रा
क्षेपन या सेपना मुद्रा

क्षेपण या सेपना मुद्रा

क्षेपण या सेपना मुद्रा करने से डिप्रेशन और तनाव कम करने में सहायता मिलती है। यह शरीर की नेगेटिव एनर्जी को बाहर निकालकर पॉजिटिव विचारों को मन में लाने में हेल्प करती है। इस मुद्रा को करने के लिए सुखासन में बैठकर अपनी दोनों हाथों की हथेलियों को एक-दूसरे से इस तरह सटाना होता है, कि सभी अंगुलियां एक-दूसरी को टच करती रहें। फिर आपको अपने दोनों हाथों की पहली अंगुलियों को एक साथ रखना है। बाकी सभी अंगुलियां इस तरह से मोड़कर बांधें कि मुट्ठी का शेप बन जाए। इसके बाद अपने हाथ की पहली उंगलियों को जमीन की तरफ ले जाएं। 20-25 सेकंड तक इसी पॉजिशन में रहें। अपनी सांसों पर ध्यान दें, और धीरे-धीरे फिर से दोनों हाथों को आराम की पॉजिशन में लाना है।

ज्ञान मुद्रा
ज्ञान मुद्रा

ज्ञान मुद्रा योग

ज्ञान मुद्रा योग को करते वक्त आपको अपने हाथ के अंगूठे और उसके पास की तर्जनी अंगुली को एक साथ दबाना होता है। इससे मन को शांत करने में मदद मिलती है। यह पॉजिशन बनाते समय पद्मासन में बैठना है। अपने हाथ की हथेली को अपनी गोद के पास में आगे की ओर रखना है। फिर सभी अंगुलियों को आगे बढ़ाते हुए पहली अंगुली और अंगूठे को एक साथ मिलाना है। इस योग से तनाव और नींद नहीं आने की प्रॉब्लम दूर होती है। इस से आपको अपना गुस्सा कंट्रोल करने में भी मदद मिलेगी।

सुखासन
सुखासन

सुखासन यानी सुख से बैठने का योग

सुखासन योग की सबसे आसान क्रिया है। साथ ही यह बहुत फायदेमंद भी है। सुखासन में बैठने से शारीरिक और मानसिक ताजगी और स्फूर्ति मिलती है। सुखासन करने के लिए पैरों को आलथी- पालथी मार कर आराम से बैठ जाएं। रीढ़ और पीठ को बिल्कुल सीधा रखें। इस आसन को करते हुए हाथों की मुद्रा का विशेष ध्यान रखना होता है। इस आसन से मेन्टल पावर बढ़ती है और बॉडी रिलेक्स भी होती है।

दण्डासन
दण्डासन

दण्डासन

दण्डासन को करने से शरीर का पोश्चर ठीक होता है। रीढ़ की हड्डी सीधी रहती है। रीढ़ में लचीलापन रहता है। इस आसन को करने के लिए सबसे पहला स्टेप है, किसी योगा मैट या गार्डन की घास पर बैठ जाएं। फिर दोनों पैरों को फैलाते हुए पास-पास में रखें। दोनों पैरों की उंगलियां आपकी ओर खिंची रहनी चाहिए। फिर दोनों हाथों को सीधा और हथेलियों को ज़मीन पर कूल्हे के पास रखें। अपनी रीढ़ की हड्डी और गर्दन को भी सीधा रखने की कोशिश करें। इसके बाद सामने की तरफ देखते हुए सांस को नॉर्मल बनाये रखें । 20 से 25 सेकंड तक इसे करने के बाद अपनी रूटीन पॉजिशन में आना है।

एक पादासन
एक पादासन

एक पादासन या बगुला ध्यान योग

एक पादासन यानी बगुले की तरह एक पैर पर खड़े होकर योग आसन लगाना। इसे करने के लिए दाहिने पैर के घुटने को मोड़ कर बाएं पैर की जांघों पर रखना है। फिर दोनों हाथों को सिर के ऊपर लाकर प्रणाम करने की पोजिशन बनानी है। कुछ देर इसी पोजिशन में रहने के बाद फिर से आराम की स्थिति में आना है। इस योग से मानसिक तनाव से छुटकारा मिलता है। शरीर फुर्तीला होता है। स्टूडेंट्स के लिए यह एक अच्छा योग है।

भुजंगासन
भुजंगासन

भुजंगासन या कोबरा पोज़

शरीर में लचीलापन बनाए रखने और एक्स्ट्रा पेट की चर्बी घटाने में यह योग बहुत मदद करता है। पढ़ते वक्त बैठे-बैठे कई स्टूडेंट्स काफी कुछ स्नैक्स खा जाते हैं। जिससे वजन बढ़ने लगता है। शरीर में आलस आने लगता है। पढ़ने लिखने में मन नहीं लगता। थकावट भी होने लगती है। ऐसे में इस योग के बहुत से फायदे हैं। सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं। फिर अपनी हथेलियों को कंधों की सीध में रखें। दोनों पैरों के बीच में गैप नहीं होना चाहिए और पैर सीधे रहने चाहिए। इसके बाद सांस लेते हुए शरीर के अगले हिस्से को ऊपर की ओर उठाएं। ध्यान रहे कमर पर ज्यादा खिंचाव न आने दें। 20 सेकेंड तक इसी पोजिशन में रहकर गहरी सांस छोड़ते हुए सामान्य पोजिशन में फिर से आना है।

इस लिंक पर क्लिक कर हमें भेजें आपके सवाल

ये भी पढ़ें...

REET में ये सूत्र करेगा आपको सफल:30 साल RAS रहे एक्सपर्ट से जानिए मुश्किलें कभी बाधा नहीं बनतीं, कंपीटिटिव एग्जाम दे रहे तो सीखिए दिमाग की सवारी करना

REET में इंग्लिश लैंग्वेज-1 और लैंग्वेज-2 की तैयारी:केवल ग्रामर पर ही नहीं कॉम्प्रिहेंशन और टीचिंग मेथड पर भी करें फोकस, 150 में से 30 नंबर होंगे पक्के, एक्सपर्ट बता रहे ये 11 टिप्स

REET 2021 में SST-इतिहास की तैयारी:रटने की बजाय उपन्यास की तरह दिमाग में उतारें हिस्ट्री, क्रोनोलॉजिकल ऑर्डर में करें तैयारी, एक्सपर्ट बनने की जगह सिलेबस के टॉपिक पर करें फोकस

REET क्लियर करने का सबसे महत्वपूर्ण टिप्स:आज टीचिंग मेथड से जुड़े सवालों के जवाब पढ़िए, इनको समझ लिया तो 33 हजार शिक्षकों की लिस्ट में हो सकता है आपका नाम

खबरें और भी हैं...