शारदीय नवरात्र / 21 रूपों में की जाती है देवी मां की आराधना, जाग्रत होती है मन की शक्ति और मिलते हैं मनचाहे फल



21 forms of Goddess
X
21 forms of Goddess

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 12:48 PM IST

धर्म डेस्क. शारदीय नवरात्र की शुरुआत हो चुकी है, जो 18 अक्टूबर को समाप्त होंगी। इस दौरान देवी मां के विभिन्न स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाएगी। योग कहता है, शक्ति हमारे भीतर मौजूद है, जरूरत है जगाने की। इन नौ दिनों में शक्ति को जगाया जा सकता है। अगर हम इन नौ दिनों में अपने भीतर स्थित परमात्मा के अंश को रत्तीभर भी पहचान पाएं तो समझिए, नवरात्र सफल हैं। सारे नियम-कायदे, व्रत-उपवास, मंत्र-जाप, बस इसी के लिए हैं कि हम उसके दर्शन भीतर कर सकें, जिसे बाहर खोज रहे हैं।

 

गीता में कृष्ण ने स्पष्ट कहा है, सबमें मेरा ही अंश है। फिर खोज बाहर क्यों, कोशिश करें कि इस नवरात्र मंदिरों के साथ थोड़ी यात्रा भीतर की भी हो। जब अपने अंतर में परमात्मा को देख सकेंगे, तो फिर बाहर चारों ओर उसे महसूस करेंगे। अगर हम जितना खुद के भीतर उतरेंगे, उतना परमात्मा को निकट पाएंगे। ये नवरात्र आपकी भीतरी यात्रा की शुरुआत हो सकती है।     

 

इसी संदर्भ में  हम आपको माता के उन 21 विशेष स्वरूपों के बारे में बता रहे हैं, जिनकी आराधना करना आपके लिए शुभ फल देने वाला हो सकता है।
 

COMMENT