--Advertisement--

चाणक्य नीति: जॉब या बिजनेस में काम छोटा हो या बड़ा हमेशा ध्यान रखनी चाहिए ये बात

Chanakya Niti: चाणक्य नीति में छठे अध्याय के सौलहवें श्लोक में जॉब और बिजनेस में सफलता का सूत्र बताया गया है।

Danik Bhaskar | Sep 10, 2018, 05:40 AM IST

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में सफलता के लिए कई सूत्र बताएं हैं। जो आज के समय में नौकरी और बिजनेस में तो सफलता देते ही हैं। साथ ही अन्य मामलों में भी काम आते हैं। आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में चौथे अध्याय के आठ्ठारहवें श्लोक में सफलता का सूत्र दिया है। इसके अलावा एक और सूत्र छठे अध्याय के सौलहवें श्लोक में बताया है। आचार्य चाणक्य के अनुसार किसी भी काम की शुरुआत में कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो सफलता मिलने की संभावनाएं काफी बढ़ जाती हैं। आपकी सफलता इस बात पर निर्भर होती है कि आपका प्रयास कैसा है? लक्ष्य प्राप्त करने के लिए आप किस प्रकार कार्य कर रहे हैं? जीवन में हर कदम कामयाबी चाहिए तो आचार्य चाणक्य की ये नीति अपनाना चाहिए।

आचार्य कहते हैं-

प्रभूतं कार्यमल्पं वा यन्नरः कर्तुमिच्छति ।
सर्वारम्भेण तत्कार्यं सिंहादेकं प्रचक्षते ॥१६॥

अर्थ -

यदि किसी व्यक्ति को अपना लक्ष्य प्राप्त करना है तो उसे हर तरह और पूरी ताकत के साथ लगन से काम करना चाहिए। ठीक उसी तरह जैसे कोई शेर अपना शिकार करता है। आचार्य चाणक्य कहते हैं हमें जो भी काम करना है वह पूरी ताकत से करना चाहिए। काम चाहे जितना छोटा या बड़ा हो हमें पूरी शक्ति लगाकर ही करना चाहिए। तभी हमारी कामयाबी पक्की हो जाती है।
जिस प्रकार कोई शेर अपने शिकार पर पूरी शक्ति से झपटता है और शिकार को भागने का मौका नहीं देता, इसी गुण के कारण वह कभी असफल नहीं होता है। हमें शेर की तरह ही अपने लक्ष्य की पर झपटना चाहिए और आगे बढ़ना चाहिए। कार्य में किसी प्रकार का ढीलापन हुआ तो कामयाबी दूर हो जाएगी। सफलता प्राप्त करने के लिए यही आचार्य चाणक्य का अचूक उपाय है।