--Advertisement--

नॉलेज / कान छिदवाने के पीछे है वैज्ञानिक कारण, इससे कम होता है बीमारियों का खतरा



ear piercing benefits according to science
X
ear piercing benefits according to science

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 07:47 PM IST

रिलिजन डेस्क. हिंदू धर्म में किए जाने वाले 16 संस्कारों में से कर्णवेध भी एक है। कर्णवेध संस्कार के अंतर्गत बच्चों के कान छिदवाए जाते हैं। आजकल भले ही कान छिदवाना एक फैशन के रूप में देखा जाता है, लेकिन कभी ये सभी लोगों के लिए अनिवार्य हुआ करता था। क्योंकि इसके पीछे न सिर्फ धार्मिक बल्कि वैज्ञानिक तथ्य भी छिपे हैं। आयुर्वेद ने भी माना है कि कान छिदवाने से कई तरह की बीमारियां होने का खतरा कम हो जाता है। आगे जानिए कर्णवेध संस्कार से जुड़ी खास बातें…
 

कर्णवेध संस्कार से जुड़ी खास बातें

  1. पहले के समय में शुभ मुहूर्त में बच्चों के कान में मंत्र बोलकर कर्णवेध संस्कार किया जाता था-


    भद्रं कर्णेभि: श्रृणुयाम देवा भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्रा:।
    स्थिरैरंगैस्तुष्टुवां सस्तनूभर्व्यशेमहि देवहितं यदायु:।।


    - मंत्र बोलने के बाद लड़कों के दाएं कान में पहले और बाएं कान में बाद छेद किया जाता था। लड़कियों के बाएं कान में पहले और दाएं कान में बाद में छेद कर सोने के आभूषण पहनाए जाते थे।

  2. कान छिदवाने से होते हैं ये 5 फायदे

    आयुर्वेद के अनुसार कान के निचले हिस्‍से (ear lobes) में एक प्‍वाइंट होता है, जब इस प्‍वाइंट पर छेद किये जाते हैं तो यह दिमाग के हिस्‍से को एक्‍टिव बनाते हैं।

     

    • एक्यूपंक्चर के अनुसार, कान के निचले हिस्‍से के आस-पास आंखों की नसें होती हैं। इसी बिंदु को दबाने पर आंखों की रोशनी में सुधार होता है। 
    • एक्यूपंक्चर के अनुसार, जब कान छिदवाए जाते हैं तो, केंद्र बिंदु पर दबाव पड़ने की वजह से ओसीडी (किसी बात की जरुरत से ज्‍यादा चिंता करना), घबराहट और मानसिक बीमारी को दूर करने में मदद मिलती है। 
    • इयर लोब्‍स के बीच में कई ऐसे प्रेशर प्‍वाइंट्स हैं, जो प्रजनन अंगों को स्‍वस्‍थ बनाने में मददगार साबित होते हैं। पुरुषों के अंडकोष और वीर्य के संरक्षण में भी कान छिदवाने से लाभ मिलता है।
    • लड़कियों के कान छिदवाने से उनका मासिक धर्म नियमित रहता है। कान छिदवाने से हिस्टीरिया रोग में लाभ होता है।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..