आज सोमवार और एकादशी के योग में भगवान विष्णु के साथ ही तुलसी की भी पूजा करनी चाहिए

15 अप्रैल को एकादशी पर सूर्यास्त के बाद तुलसी के पास जलाएं दीपक और बोलें एक मंत्र

dainikbhaskar.com

Apr 15, 2019, 11:46 AM IST
ekadashi on 15th april, vishnu and tulsi puja, tulsi puja vidhi, tulsi mantra jaap

रिलिजन डेस्क। सोमवार, 15 अप्रैल को चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी है। इसे कामदा एकादशी कहा जाता है। इस तिथि पर भगवान विष्णु और उनके अवतारों की विशेष पूजा की जाती है। एकादशी पर श्रीहरि के साथ ही तुलसी की भी पूजा करने की परंपरा है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार श्रीकृष्ण की पूजा में तुलसी का विशेष महत्व है। तुलसी को देवी लक्ष्मी का स्वरूप भी माना गया है। इसलिए एकादशी पर तुलसी पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है। एकादशी की शाम तुलसी के दीपक जलाकर मंत्र जाप करना चाहिए। ध्यान रखें सूर्यास्त के बाद तुलसी को जल नहीं चढ़ाना चाहिए और स्पर्श भी नहीं करना चाहिए। तुलसी पूजा करते समय तुलसी नामाष्टक मंत्र का जाप करना चाहिए...

मंत्र

वृंदा वृंदावनी विश्वपूजिता विश्वपावनी। पुष्पसारा नंदनीय तुलसी कृष्ण जीवनी।।

एतनामांष्टक चैव स्त्रोतं नामर्थं संयुतम। य: पठेत तां च सम्पूज्य सौश्रमेघ फलंलभेत।।

ऐसे करें इस मंत्र का जाप

> स्नान के बाद तुलसी की पूजा और परिक्रमा करें। घी का दीप जलाएं। इसके बाद तुलसी के सामने बैठकर तुलसी की माला से इस मंत्र का जाप करें।

> मंत्र जाप करते समय मुंह पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। मंत्र जाप कम से कम 108 बार करें।

> मंत्र जाप के बाद भगवान से परेशानियां दूर करने की प्रार्थना करें और पूजा में हुई भूल-चूक की क्षमा प्रार्थना करें।

X
ekadashi on 15th april, vishnu and tulsi puja, tulsi puja vidhi, tulsi mantra jaap
COMMENT

Recommended News

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना