सीख / कभी भी अशांत मन से कोई निर्णय नहीं लेना चाहिए, मन शांत होने की प्रतिक्षा करें



gautam buddha, motivational story, inspirational story, mahatma buddha story, prerak prasang
X
gautam buddha, motivational story, inspirational story, mahatma buddha story, prerak prasang

  • पत्नी से तंग आकर एक व्यक्ति गौतम बुद्ध का शिष्य बन गया, कुछ दिन बाद बुद्ध ने उसे पानी लाने के लिए भेजा

Dainik Bhaskar

Jul 17, 2019, 03:28 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। गौतम बुद्ध के जीवन के कई ऐसे प्रसंग हैं, जिनमें छिपी सीख को जीवन में उतार लिया जाए तो हम कई समस्याओं को दूर कर सकते हैं। यहां जानिए ऐसा ही एक प्रसंग...

  • चर्चित प्रसंग के अनुसार एक व्यक्ति का वैवाहिक जीवन सही नहीं चल रहा था। बार-बार उसका पत्नी से झगड़ा होता था। एक दिन तंग आकर वह जंगल में चला गया। जंगल में उसे महात्मा बुद्ध अपने शिष्यों के साथ दिखाई दिए। बुद्ध शिष्यों के साथ उसी जंगल में रुके हुए थे। दुखी व्यक्ति भी बुद्ध के साथ रहने लगा और उनका शिष्य बन गया।
  • कुछ दिन बाद बुद्ध ने उस व्यक्ति से कहा कि मुझे प्यास लगी है, पास की नदी से पानी ले आओ। गुरु की आज्ञा मानकर वह पानी लेने नदी किनारे गया। नदी पहुंचकर उसने देखा कि जंगली जानकरों की उछल-कूद की वजह से पानी गंदा हो गया है। नीचे जमी हुई मिट्टी ऊपर आ गई है। व्यक्ति गंदा पानी देखकर वापस आ गया।
  • उसने तथागत को पूरी बात बता दी। कुछ देर बाद बुद्ध ने फिर से उसे पानी लाने के लिए भेजा। वह फिर से नदी की ओर चल दिया। जब वह नदी किनारे पहुंचा तो उसने देखा कि पानी एकदम साफ था, नदी की गंदगी नीचे बैठ चुकी थी। ये देखकर वह हैरान हो गया।
  • पानी लेकर वह बुद्ध के पास पहुंचा। उसने पूछा कि तथागत आपको कैसे मालूम हुआ कि अब पानी साफ मिलेगा। बुद्ध ने उसे समझाया कि जानवर पानी में उछल-कूद कर रहे थे, इस वजह से पानी गंदा हो गया था। लेकिन कुछ देर जब सभी जानवर वहां से चले गए तो नदी का पानी शांत हो गया, धीरे-धीरे पूरी गंदगी नीचे बैठ गई।
  • बुद्ध ने कहा कि जब हमारे जीवन में बहुत सी परेशानियां आ जाती हैं तो हमारे मन में उथल-पुथल होने लगती है, शांति भंग हो जाती है। ऐसी स्थिति में ही हम गलत निर्णय ले लेते हैं। हमें मन की उथल-पुथल शांत होने का इंतजार करना चाहिए। धैर्य बनाकर रखना चाहिए। शांत मन से कोई निर्णय लेते हैं तो हम सही निर्णय ले पाते हैं।
  • उस व्यक्ति को समझ आ गया कि उसने घर छोड़ने का निर्णय अशांत मन से लिया था, जो कि गलत है। उसने बुद्ध से घर लौटने की आज्ञा ली और वह अपनी पत्नी के पास चला गया।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना