महाभारत / युद्ध के बाद श्रीकृष्ण लौट रहे थे द्वारिका, कुंती ने श्रीकृष्ण से उपहार में मांगा दुख



mahabharata prerak prasang, mahabharata niti, motivational tips, inspirational tips
X
mahabharata prerak prasang, mahabharata niti, motivational tips, inspirational tips

  • प्रसंग - युधिष्ठिर के राजा बनने के बाद पांडव श्रीकृष्ण को विदा करने करने नगर की सीमा तक आए

Dainik Bhaskar

Jul 11, 2019, 05:31 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। महाभारत का युद्ध खत्म हो गया था। युधिष्ठिर ने हस्तिनापुर की राजगादी संभाल ली थी। सब कुछ सामान्य हो रहा था। एक दिन वो घड़ी भी आई जो कोई पांडव नहीं चाहता था। भगवान श्रीकृष्ण द्वारिका लौट रहे थे। सारे पांडव दु:खी थे। श्रीकृष्ण उन्हें अपना शरीर का हिस्सा ही लगते थे, जिसके अलग होने के भाव से ही वे कांप जाते थे, लेकिन श्रीकृष्ण को तो जाना ही था।

  • पांचों भाई और उनका परिवार श्रीकृष्ण को नगर की सीमा तक विदा करने आया। सभी की आंखों में आंसू थे। कोई भी श्रीकृष्ण को जाने नहीं देना चाहता था। भगवान भी एक-एक कर अपने सभी स्नेहीजनों से मिल रहे थे। सबसे मिलकर उन्हें कुछ ना कुछ उपहार देकर श्रीकृष्ण ने विदा ली। अंत में वे पांडवों की माता और अपनी बुआ कुंती से मिले।
  • भगवान ने कुंती से कहा कि बुआ आपने आज तक अपने लिए मुझसे कुछ नहीं मांगा। आज कुछ मांग लीजिए। मैं आपको कुछ देना चाहता हूं। कुंती की आंखों में आंसू आ गए। उन्होंने रोते हुए कहा कि हे श्रीकृष्ण अगर कुछ देना ही चाहते हो तो मुझे दुख दे दो। मैं बहुत सारा दुख चाहती हूं। श्रीकृष्ण आश्चर्य में पड़ गए।
  • श्रीकृष्ण ने पूछा कि ऐसा क्यों बुआ, तुम्हें दुख ही क्यों चाहिए? कुंती ने जवाब दिया कि जब जीवन में दुख रहता है तो तुम्हारा स्मरण भी रहता है। हर घड़ी तुम याद आते हो। सुख में तो यदा-कदा ही तुम्हारी याद आती है। तुम याद आओगे तो मैं तुम्हारी पूजा और प्रार्थना भी कर सकूंगी।
  • प्रसंग छोटा सा है, लेकिन इसके पीछे संदेश बहुत गहरा है। अक्सर हम भगवान को सिर्फ दुख और परेशानी में ही याद करते हैं। जैसे ही परिस्थितियां हमारे अनुकूल होती हैं, हम भगवान को भूला देते हैं। जीवन में अगर प्रेम का संचार करना है तो उसमें प्रार्थना की उपस्थिति अनिवार्य है। प्रेम में प्रार्थना का भाव शामिल हो जाए तो वह प्रेम अखंड और अजर हो जाता है।
  • हम प्रेम के किसी भी रिश्ते में बंधे हों, वहां परमात्मा की प्रार्थना के बिना भावनाओं में प्रभाव उत्पन्न करना संभव नहीं है। इसलिए परमात्मा की प्रार्थना और अपने भीतरी प्रेम को एक कीजिए। जब दोनों एक हो जाएंगे तो हर रिश्ते में प्रेम की मधुर महक को आप महसूस कर सकेंगे।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना