नीतियां / महाभारत में शांति के सभी प्रयास हो गए थे असफल, धृतराष्ट्र इस बात से बहुत परेशान थे



vidur niti, mahabharata prerak prasang, mahabharata niti, motivational tips, inspirational tips
X
vidur niti, mahabharata prerak prasang, mahabharata niti, motivational tips, inspirational tips

  • विदुर ने धृतराष्ट्र को बताया धन, अच्छा स्वास्थ्य, आज्ञाकारी संतान, जिन लोगों के पास है, वे सुखी रहते हैं

Dainik Bhaskar

Jul 17, 2019, 07:18 PM IST

रिलिजन डेस्क। महाभारत युद्ध पहले श्रीकृष्ण ने युद्ध टालने की कोशिश की, लेकिन दुर्योधन ने श्रीकृष्ण की बातें नहीं मानी। शांति के सभी प्रयासों के असफल होने के बाद कौरव और पांडवों के बीच युद्ध शुरू होने वाला था। युद्ध के परिणाम को लेकर धृतराष्ट्र बहुत परेशान थे। तब उन्होंने विदुर को बुलाया और उनसे अच्छे-बुरे कर्मों का रहस्य पूछा। महाभारत में धृतराष्ट्र और विदुर के बीच हुए संवाद को ही विदुर नीति के नाम से जाना जाता है। जानिए विदुर की कुछ ऐसी नीतियां, जिनसे हमारी परेशानियां दूर हो सकती हैं...

  • धन लाभ, अच्छा स्वास्थ्य, आज्ञाकारी संतान, श्रेष्ठ जीवन साथी और इच्छाएं पूरी करने वाली विद्या, ये 5 जिन लोगों के पास हैं, वे सुखी होते हैं।
  • जो लोग भरोसेमंद नहीं हैं, उन पर भरोसा न करें, लेकिन जो लोग विश्वसनीय हैं, उन पर भी बहुत ज्यादा भरोसा नहीं करना चाहिए।
  • क्षमा को दोष नहीं मानना चाहिए, क्षमा बहुत शक्तिशाली होती है। क्षमा कमजोर लोगों का गुण है और शक्तिशाली लोगों के लिए आभूषण के समान है।
  • काम, क्रोध और लोभ, ये तीन प्रकार के नर्क हैं। ये दुखों की ओर ले जाने वाले रास्ते हैं। इसलिए इन बुराइयों से बचना चाहिए।
  • ईर्ष्या करने वाला, दूसरों से जलने वाला, असंतुष्ट रहने वाला, क्रोध करने वाला, शंका करने वाला और दूसरों पर आश्रित रहने वाला व्यक्ति हमेशा दुखी रहता है।
  • जो व्यक्ति अच्छे काम में विश्वास नहीं रखता है, अच्छे लोगों पर विश्वास नहीं करता, मित्रों को त्याग देता है, वह व्यक्ति हमेशा दुखी रहते हैं।

कौन है विदुर
वेद व्यास द्वारा रचित महाभारत में कई महान पात्र हैं, इन महान पात्रों में एक पात्र ऐसा है जो दासी का पुत्र था। दासी पुत्र होते हुए भी महाभारत में इस पात्र की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। दासी के ये पुत्र हैं कौरवों के महामंत्री विदुर। विदुर ने अपनी नीतियों के बल पर इतिहास में श्रेष्ठ स्थान हासिल किया है। महामंत्री विदुर ने विदुर नीति नामक एक ग्रंथ की रचना भी की है। इस ग्रंथ में दी गई नीतियां आज भी हमारे लिए बहुत उपयोगी हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना