महाभारत / सुख हो या दुख, हर हाल में समभाव रहने वाला व्यक्ति समझदार होता है

mahabharata quotes, mahabharata niti, motivational story, inspirational tips
X
mahabharata quotes, mahabharata niti, motivational story, inspirational tips

  • महाभारत की नीतियों का पालन किया जाए तो हम कई परेशानियों से बच सकते हैं

दैनिक भास्कर

Jul 27, 2019, 04:18 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। द्वापर युग में कौरव और पांडवों की बीच महाभारत युद्ध हुआ था। कौरव अधर्मी थे, जबकि पांडव धर्म के मार्ग पर चल रहे थे, इसीलिए भगवान श्रीकृष्ण ने भी पांडवों का ही साथ दिया था। महाभारत में कई ऐसी नीतियां बताई गई हैं, जिनका पालन किया जाए तो हम कई परेशानियों से बच सकते हैं। यहां जानिए महाभारत की एक नीति और एक प्रचलित लोक कथा...
दु:खैर्न तप्येन्न सुखै: प्रह्रष्येत् समेन वर्तेत सदैव धीर:।
दिष्टं बलीय इति मन्यमानो न संज्वरेन्नापि ह्रष्येत् कथंचित्।।

ये महाभारत के आदिपर्व का श्लोक है। इसके अनुसार हमें बुरे समय में यानी कठिनाइयों से दुखी नहीं होना चाहिए। जब सुख के दिन हों तब भी हमें हर्षित नहीं होना चाहिए। सुख हो या दुख, हमें हर हाल में समभाव रहना चाहिए। जो लोग इस नीति का पालन करते हैं, वे ही धीर पुरुष यानी समझदार इंसान कहलाते हैं। ऐसे लोग भाग्य को प्रबल मानते हैं और किसी भी तरह का तनाव या प्रसन्नता के वशीभूत नहीं होते हैं।
इस नीति का महत्व बताती है ये कथा
एक प्रचलित लोक कथा के अनुसार एक आश्रम में किसी व्यक्ति गाय का दान किया। शिष्य बहुत खुश हुआ और उसने अपने गुरु को ये बात बताई तो गुरु ने सामान्य स्वर में कहा कि चलो अच्छा अब हमें रोज ताजा दूध मिलेगा।
कुछ दिन तक तो गुरु-शिष्य को रोज ताजा दूध मिला, लेकिन एक दिन वह दानी व्यक्ति आश्रम में आया और अपनी गाय वापस ले गया। ये देखकर शिष्य दुखी हो गया। उसने गुरु से दुखी होते हुए कहा कि गुरुजी वह व्यक्ति गाय को वापस ले गया है। गुरु ने कहा कि चलो अच्छा है, अब गाय का गोबर और गंदगी साफ नहीं करना पड़ेगी। ये सुनकर शिष्य ने पूछा कि गुरुजी आपको इस बात से दुख नहीं हुआ कि अब हमें ताजा दूध नहीं मिलेगा।
गुरु बोले कि हमें हर हाल में समभाव ही रहना चाहिए। यही सुखी जीवन का मूल मंत्र है। जब गाय मिली तब हम प्रसन्न नहीं हुए और जब चली गए तब भी हम दुखी नहीं हुए।

 

DBApp

 

 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना