नीति / सुख के दिनों में अपने मन को रखें वश में, बुरे समय में धैर्य रखें



mahabharata quotes, mahabharata niti, motivational tips, inspirational tips
X
mahabharata quotes, mahabharata niti, motivational tips, inspirational tips

  • महाभारत में बताई गई हैं परेशानियों से बचने की नीतियां

Dainik Bhaskar

Jul 10, 2019, 05:27 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। महाभारत में कौरव और पांडवों के बीच हुए युद्ध के माध्यम से ये बताया गया है कि हमें किन कामों से बचना चाहिए। महाभारत के भीष्म पर्व की एक नीति में सुख और दुख के दिनों में ध्यान रखने योग्य बातें बताई गई हैं। इन परिस्थितियों में हम कई बार मन को काबू में नहीं रख पाते हैं। जिससे हमारा ही नुकसान हो जाता है। इसलिए इन दो स्थितियों में समझदारी से काम लेना चाहिए।
महाभारत में लिखा है कि
न प्रह्दष्येत प्रियं प्राप्त नोद्विजेत् प्राप्य चाप्रियम्।
स्थिरबुद्धिरसम्मूढो ब्रह्मविद् ब्रह्मणि स्थितः।।

इस श्लोक के अनुसार जब भी कोई व्यक्ति सुख में होता है, तब वह अपने मन को वश में नहीं रखता, बल्कि खुद उसके वश में हो जाता है। अच्छे दिनों में कई बार हम ऐसी कुछ बातें कह जाते हैं, जो भविष्य में हमारे लिए पूरा कर पाना संभव न हो या ऐसा कुछ कर जाते हैं, जिसके बुरे परिणाम हमें भविष्य में झेलना पड़ सकते हैं। ये बात हमेशा ध्यान रखनी चाहिए कि अच्छे दिन हर समय नहीं रहते, इसलिए सुख के समय अपने मन को अपने वश में रखें। साथ ही अपने शब्दों और कार्यों का चयन सोच-समझ कर करें।
कई लोग अपने बुरे समय से अपना धैर्य खो देते हैं और अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए ऐसे काम करने लगते हैं, जो उन्हें कभी नहीं करना चाहिए। दुख ही एक ऐसा समय होता है, जब भी मनुष्य आसानी से गलत रास्ते पर चलने को मजबूर हो जाता है। हमें ये बात समझनी चाहिए कि कैसा भी समय हो, वह हमेशा नहीं टिकता। अगर अपने बुरे समय में समझदारी से काम लें और किसी भी रूप में अधर्म न करें तो जल्द ही अच्छा समय भी आ जाता है। दुख और परेशानी में हमें मन को वश में रखकर सूझ-बूझ के साथ काम करना चाहिए। धैर्य से काम करना चाहिए।

COMMENT