गांव वालों ने संत से कहा कि वे उस स्त्री के घर न जाएं, क्योंकि उसका चरित्र अच्छा नहीं है, संत ने पूछा एक सवाल तो गांव के सभी पुरुषों ने शर्म के मारे सिर नीचे झुका लिया / गांव वालों ने संत से कहा कि वे उस स्त्री के घर न जाएं, क्योंकि उसका चरित्र अच्छा नहीं है, संत ने पूछा एक सवाल तो गांव के सभी पुरुषों ने शर्म के मारे सिर नीचे झुका लिया

प्रेरक प्रसंग : संत ने गांव के सभी पुरुषों को समझाया ताली एक हाथ से नहीं बजती

dainikbhaskar.com

Feb 13, 2019, 07:12 PM IST
motivational story about gautam buddha, inspirational story about buddha and a woman

रिलिजन डेस्क। बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध के जीवन से जुड़े कई ऐसे चर्चित प्रसंग हैं, जिनमें सुखी जीवन के सूत्र छिपे हैं। अगर इन प्रसंगों की सीख जीवन में उतार ली जाए तो हम कई बुराइयों से बच सकते हैं। जानिए बुद्ध से जुड़ा एक ऐसा प्रसंग, जिसमें एक स्त्री ने उनसे संन्यास लेने का रहस्य पूछा था...

> महात्मा बुद्ध अपने शिष्यों के साथ एक गांव में गए। सभी लोग बुद्ध के दर्शन करने और उनके प्रवचन सुनने पहुंच रहे थे। उसी गांव की एक स्त्री ने बुद्ध से पूछा कि आप तो किसी राजकुमार की तरह दिखते हैं, आपने युवावस्था में संन्यास क्यों धारण किया है?

> बुद्ध ने उस स्त्री को जवाब दिया कि मैंने जीवन से जुड़े रहस्यों को जानने के लिए संन्यास लिया है। हमारा शरीर युवा और आकर्षक है, लेकिन यह वृद्ध होगा, फिर बीमार होगा और अंत में यह मृत्यु को प्राप्त हो जाएगा। मुझे वृद्धावस्था, बीमारी और मृत्यु के कारण का ज्ञान प्राप्त करना है।

> बुद्ध की ये बात सुनकर वह स्त्री बहुत प्रभावित हो गई। महिला ने उन्हें भोजन के लिए आमंत्रित किया।

> गांव के पुरुषों के बात मालूम हुई कि बुद्ध उस स्त्री के घर भोजन करने जा रहे हैं।

> सभी पुरुष तुरंत ही बुद्ध के पास पहुंच गए। उन्होंने बुद्ध से कहा कि वे उस महिला के यहां न जाएं, क्योंकि उस स्त्री का चरित्र अच्छा नहीं है।

> बुद्ध ने गांव के सरपंच से पूछा कि क्या ये बात सही है? सरपंच ने भी गांव के पुरुषों की बात में सहमती जताई।

> तब बुद्ध ने सरपंच का एक हाथ पकड़ कर कहा कि अब ताली बजाकर दिखाओ। इस पर सरपंच ने कहा कि तथागत ये तो असंभव है, एक हाथ से ताली नहीं बज सकती।

> गौतम बुद्ध ने सभी लोगों से कहा कि ठीक इसी प्रकार कोई महिला अकेले चरित्रहीन नहीं हो सकती है। अगर इस गांव के पुरुषों का चरित्र अच्छा होता तो वह स्त्री चरित्रहीन नहीं होती। गांव के सभी पुरुष बुद्ध की ये बात सुनकर शर्मिदा हो गए और अपना सिर नीचे झुका लिया।

X
motivational story about gautam buddha, inspirational story about buddha and a woman
COMMENT

Recommended News