दो लड़के एक गांव से दूसरे गांव जा रहे थे, रास्ते में उन्हें थकान होने लगी तो एक पेड़ के नीचे आराम करने के लिए रुक गए, तभी एक लड़के ने कहा कि ये पेड़ तो बेकार है, इसमें फल नहीं लगते, जबकि दूसरे लड़के की सोच सकारात्मक थी

dainikbhaskar.com

Apr 15, 2019, 08:24 PM IST

हर व्यक्ति में अच्छाई होती है, बस हमें अलग नजरिए से देखने की जरूरत होती है

motivational story for kids, inspirational story for kids, kids moral story, prerak prasang

रिलिजन डेस्क। एक लोक कथा के अनुसार पुराने समय में दो लड़के एक गांव से दूसरे गांव जा रहे थे। रास्ते में थकान दूर करने के लिए दोनों एक पेड़ के नीचे आराम करने लगे। तभी एक लड़के ने पेड़ को ध्यान से देखा और कहा कि ये पेड़ को किसी काम का नहीं है। इसमें तो एक भी फल नहीं लगते।

ये बात सुनकर दूसरे लड़के ने कहा कि ये बात बिल्कुल गलत है कि ये पेड़ किसी काम का नहीं है। दूसरे लड़के की सोच सकारात्मक थी। उसने कहा कि थकान होने पर हम इसी पेड़ के नीचे आराम कर रहे हैं। इस पेड़ की छाया हमें सूर्य की तेज किरणों से बचा रही है। इसी पेड़ की वजह से हमें दोपहर में बड़ी राहत मिली है। ये बाद तुम समझ नहीं सके और तुमने पेड़ की कमी देखी, इसे बेकार घोषित कर दिया। जबिक इस पेड़ की अच्छाइयां भी हैं।

प्रसंग की सीख

इस छोटे से प्रसंग की सीख यह है कि हर इंसान में अच्छाइयां होती हैं। बस हमें एक अलग नजरिए से देखने की जरूरत है। अधिकतर लोग नकारात्मक सोच की वजह से दूसरों में सिर्फ बुराइयां ही देखते हैं। जबकि ये गलत है। हमें हमारी सोच सकारात्मक रखनी चाहिए, तभी हम दूसरों की अच्छाइयां देख सकते हैं।

X
motivational story for kids, inspirational story for kids, kids moral story, prerak prasang
COMMENT

Recommended News