सुख का मंत्र / हमेशा सही काम करें और दूसरों को देखकर अपने रास्ते नहीं बदलना चाहिए



motivational story, inspirational story, prerak prasang, we should remember these thing for happy life
X
motivational story, inspirational story, prerak prasang, we should remember these thing for happy life

  • शिष्य ने गुरु से पूछा कि दुखों को कैसे दूर कर सकते हैं, कोई उपाय बताएं

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2019, 04:29 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। एक प्रचलित लोक कथा के अनुसार पुराने समय में एक शिष्य ने अपने गुरु से कहा कि वह अपने जीवन से बहुत परेशान है, दुखों को कैसे दूर कर सकते हैं, इसका उपाय बताइए। गुरु ने सोचा कि ये प्रश्न बहुत छोटा है, लेकिन उत्तर समझा पाना बहुत मुश्किल है। उन्होंने शिष्य से कहा कि मैं तुम्हें इसका उपाय बता दूंगा, लेकिन पहले मेरा एक काम कर दो। गांव में से किसी ऐसे व्यक्ति के जूते ले आओ जो सबसे सुखी है। शिष्य ने सोचा कि ये तो छोटा सा काम है, मैं अभी कर देता हूं।
> शिष्य गांव में निकल गया और एक व्यक्ति से बोला कि आप मुझे गांव के सबसे सुखी इंसान दिख रहे हैं, क्या आप मुझे अपने जूते दे सकते हैं? ये सुनते ही वह आदमी भड़क गया और बोला कि भाई मैं अपनी पत्नी की वजह से बहुत दुखी हूं। वह मेरी कोई भी बात नहीं मानती है।
> शिष्य दूसरे व्यक्ति के पास पहुंचा। उसने वही बात बोली जो पहले व्यक्ति से कही थी। दूसरा व्यक्ति भी बोला कि वह अपने कामकाज की वजह से दुखी है। व्यापार में नुकसान हो रहा है।
> इसी तरह शिष्य तीसरे व्यक्ति के पास पहुंचा तो उसने कहा मेरे जीवन में बहुत संकट है। मैं बीमारियों की वजह से हमेशा दुखी रहता हूं। सुबह से शाम हो गई, लेकिन शिष्य को कोई सुखी व्यक्ति नहीं मिला।
> शाम को शिष्य गुरु के पास पहुंचा। गुरु ने पूछा कि तुम जूते ले आए? शिष्य ने कहा कि गुरुजी गांव में तो सभी दुखी हैं। सभी अलग-अलग वजहों से परेशान हैं। गुरु ने कहा कि हर व्यक्ति दूसरों को सुखी समझता है और खुद के लिए भी वैसा ही चाहता है, जब मन के अनुसार फल नहीं मिलते हैं तो वह दुखी होता है। सुखी जीवन का सूत्र यह है कि हमें कभी भी दूसरों को देखकर अपना रास्ता नहीं बदलना चाहिए, हमेशा काम करना चाहिए और अपने काम से और उसके फल से संतुष्ट रहना चाहिए। तभी हम सुखी रह सकते हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना