सफलता / गुरु की दी हुई सलाह पर गंभीरता से करना चाहिए काम, वरना नुकसान हो सकता है



motivational story, inspirational story, story about success, prerak prasang
X
motivational story, inspirational story, story about success, prerak prasang

  • एक आश्रम में गुरु-शिष्य खिलौने बनाते थे, शिष्य के खिलौने ज्यादा कीमत में बिकते थे, फिर भी गुरु कहते थे बेटा मन लगाकर काम करो

Dainik Bhaskar

Sep 06, 2019, 12:43 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। गुरु द्वारा दी गई सलाह हमें कई परेशानियों से बचा सकती है और हमें सफल इंसान बना सकती है। इसीलिए कभी भी गुरु की शिक्षा पर संदेह नहीं करना चाहिए। यहां जानिए गुरु-शिष्य की एक ऐसी कहानी, जिसका संदेश यह है कि हल हाल में गुरु का सम्मान करना चाहिए...

  • प्रचलित लोक कथा के अनुसार एक आश्रम में गुरु और शिष्य खिलौने बनाते थे। खिलौने बेचकर ही दोनों का जीवन चल रहा था। गुरु के मार्गदर्शन में शिष्य बहुत अच्छे खिलौने बनाने लगा था और उसके खिलौने ज्यादा कीमत में बिकते थे, जबकि गुरु के खिलौने के कम पैसे मिलते थे। फिर भी गुरु उसे रोज यही बात कहते थे कि बेटा और मन लगाकर काम करो। काम में अभी भी पूरी कुशलता नहीं आई है।
  • रोज-रोज गुरु की ये बातें सुनकर शिष्य को लगने लगा था कि गुरुजी के खिलौने मुझसे कम दाम में बिकते हैं, शायद इसीलिए ये मुझसे जलते हैं और ऐसी बातें करते हैं। लगातार कई दिनों तक गुरु ने उसे अच्छा काम करने की सलाह दी तो एक दिन शिष्य को गुस्सा आ गया। शिष्य ने गुरु से कहा कि गुरुजी मैं आपसे अच्छे खिलौने बनाता हूं, मेरे खिलौने ज्यादा कीमत में बिकते हैं, फिर भी आप मुझे ही अच्छे खिलौने बनाने की सलाह देते हैं।
  • गुरु विद्वान थे और वे तुरंत ही समझ गए कि शिष्य में घमंड हो गया है, इसी वजह से गुस्से में है।
  • गुरु ने शांत स्वर में कहा कि बेटा जब मैं तुम्हारी उम्र का था, तब मेरे खिलौने भी मेरे गुरु के खिलौनों से ज्यादा दाम में बिकते थे। एक दिन मैंने भी तुम्हारी तरह ही मेरे गुरु से भी यही बातें कही थीं।
  • उस दिन के बाद गुरु ने मुझे अच्छी सलाह देना बंद कर दिया और मेरी कला का विकास नहीं हो पाया। मैं नहीं चाहता कि तुम्हारे साथ भी वैसा ही हो जो मेरे साथ हुआ।
  • ये बातें सुनकर शिष्य को अपनी गलती का अहसास हो गया और उसने गुरु से क्षमा मांगी। इसके बाद वह गुरु की हर आज्ञा का पालन करता और धीरे-धीरे उसे अपनी कला की वजह से दूर-दूर तक ख्याति मिलने लगी।

प्रसंग की सीख
इस प्रसंग की सीख यह है कि हर हाल में गुरु का पूरा सम्मान करना चाहिए और गुरु की दी हुई सलाह को गंभीरता से समझना चाहिए और उसी के अनुसार काम करना चाहिए।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना