दीपावली / 27 अक्टूबर की सुबह रहेगी चतुर्दशी तिथि और शाम को अमावस्या, इसी रात होगी लक्ष्मी पूजा

mythology about diwali, deepawali 2019, diwali kab hai, diwali 2019, laxmi puja 2019, deepawali kab hai
X
mythology about diwali, deepawali 2019, diwali kab hai, diwali 2019, laxmi puja 2019, deepawali kab hai

कार्तिक मास की अमावस्या पर समुद्र मंथन से प्रकट हुई थीं देवी लक्ष्मी, इसीलिए दीपावली की जाती है लक्ष्मी पूजा

दैनिक भास्कर

Oct 18, 2019, 12:56 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। रविवार, 27 अक्टूबर को देवी लक्ष्मी की पूजा का महापर्व दीपावली है। इस साल दीपावली पर तिथियों से संबंधित कुछ विशेष योग बन रहे हैं। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार जानिए दीपावली से जुड़ी खास बातें...
27 अक्टूबर की सुबह चतुर्दशी और शाम को रहेगी अमावस्या
रविवार, 27 अक्टूबर की सुबह चतुर्दशी तिथि रहेगी और शाम को अमावस्या रहेगी। इस वजह से रविवार को ही लक्ष्मी पूजन किया जाएगा। पं. शर्मा के अनुसार देवी लक्ष्मी की पूजा के लिए रात का समय ही श्रेष्ठ रहता है। इस वजह से अधिकतर लोग देर रात लक्ष्मी पूजन करते हैं। इस संबंध में मान्यता है कि जो लोग दीपावली की रात जागकर लक्ष्मी पूजा करते हैं, उनके घर में देवी लक्ष्मी का आगमन होता है और घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है।
शुक्रवार, 25 अक्टूबर की सुबह द्वादशी तिथि और शाम को धनतेरस रहेगी। पंचांग भेद से 26 अक्टूबर को रूप चौदस रहेगी। 27 अक्टूबर को भी सुबह रूप चौदस रहेगी और प्रदोष कालीन अमावस्या रात में होने से दीपावली 27 को ही मनाना श्रेष्ठ है। जो लोग अमावस्या तिथि पर पितरों के लिए श्राद्ध करना चाहते हैं, उन्हें सोमवार, 28 अक्टूबर की सुबह श्राद्ध कर्म करना चाहिए। श्राद्ध कर्म के लिए सुबह का समय श्रेष्ठ रहता है और 28 अक्टूबर की सुबह अमावस्या तिथि रहेगी। 
समुद्र मंथन से प्रकट हुई थीं देवी लक्ष्मीमान्यता है कि प्राचीन काल में देवताओं और दानवों ने मिलकर समुद्र मंथन किया था। इस मंथन में ही कार्तिक मास की अमावस्या तिथि पर देवी लक्ष्मी प्रकट हुई थीं। इसके बाद भगवान विष्णु ने लक्ष्मी का वरण किया था। इसलिए हर साल कार्तिक अमावस्या पर लक्ष्मी पूजन किया जाता है। समुद्र मंथन से देवताओं के वैद्य भगवान धनवंतरि भी प्रकट हुए थे। इनकी पूजा धनतेरस पर की जाती है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना