तीज-त्योहार / 16 फरवरी को है जानकी जयंती, पति की लंबी उम्र के लिए होती है सीताजी की पूजा

Janaki Jayanti is on 16 February, Sitaji is worshiped for the long life of her husband
X
Janaki Jayanti is on 16 February, Sitaji is worshiped for the long life of her husband

  • इस दिन श्रीराम और माता सीता की पूजा करने से मिलता है 16 महान दानों का फल

Dainik Bhaskar

Feb 11, 2020, 03:52 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क. जानकी जंयती का त्योहार फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि के दिन मनाया जाता है। इस दिन माता सीता की विशेष रूप से पूजा की जाती है। इस बार यह त्योहार 16 फरवरी को है। जानकी जंयती को सीता अष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। यह दिन सुहागन स्त्रियों के लिए अत्यंत ही विशेष होता है। जानकी जयंती के दिन सुहागन स्त्रियां अपने पति की लंबी उम्र के लिए माता सीता की पूजा-अर्चना करती है। 

मिलता है 16 महादान का फल 

  1. इस दिन को माता सीता के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। इस दिन सुहागिन स्त्रियां अपने घर की सुख शांति और अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं। 
  2. इस दिन मंदिरों में भगवान श्री राम और माता सीता की पूजा के लिए भक्तों का तांता लग जाता है। इस दिन जो भी व्यक्ति भगवान श्री राम और माता सीता की पूजा करता है उसे सोलह महा दान का फल और पृथ्वी दान का फल प्राप्त होता है। 
  3. जानकी जंयती का व्रत सौभाग्यशाली स्त्रियां अपने पति की लंबी आयु के लिए रखती हैं। 
  4. इस दिन व्रत रखने वाले व्यक्ति को माता सीता के शुक्रमय नाम ऊं श्री सीताय नम: का उच्चारण करना चाहिए। इससे बहुत अधिक लाभ प्राप्त होता है। 
  5. इस दिन जो व्यक्ति भगवान श्री राम और माता सीता की विधि विधान से पूजा करता है। उसे 16 महान दानों का फल मिलता है। जिसमें पृथ्वी दान का फल तथा समस्त तीर्थों का फल मिलता है। 
  6. माता सीता जन्म पुष्य नक्षत्र में मंगलवार दिन हुआ था। माता सीता राजा जनक की पुत्री थी। इसलिए माता सीता को जानकी नाम से भी जाना जाता है।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना