--Advertisement--

नॉलेज : डायनिंग टेबल-कुर्सी पर बैठकर या जमीन पर बैठकर करना चाहिए भोजन? खाने का कौन सा तरीका है स्वास्थ्य के लिए ज्यादा फायदेमंद

अपच और गैस जैसी परेशानियों से बचने के लिए खाते समय किन बातों का ध्यान रखें?

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 04:18 PM IST
old traditions about eating food, healthy tips about eating, parampara in hindi

रिलिजन डेस्क। आज के समय में अधिकतर लोग कुर्सी-टेबल पर बैठकर खाना खाते हैं, लेकिन ये स्वास्थ्य के लिए पूरी तरह से फायदेमंद नहीं है। पुराने समय से जमीन पर बैठकर खाना खाने की परंपरा प्रचलित है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य और भागवत कथाकार पं. मनीष शर्मा के अनुसार इस परंपरा से हमारे स्वास्थ्य को कई लाभ मिलते हैं। जबकि डायनिंग टेबल-कुर्सी पर बैठकर भोजन करने से स्वास्थ्य संबंधी कई परेशानियां हो सकती हैं। यहां जानिए पारंपरिक तरीके से जमीन पर बैठकर खाना खाने से क्या-क्या लाभ मिल सकते हैं...

> जमीन पर बैठकर खाना खाते समय हम एक विशेष योगासन की अवस्था में बैठते हैं, जिसे सुखासन कहा जाता है। सुखासन पद्मासन का ही एक रूप है। सुखासन से स्वास्थ्य संबंधी वे सभी लाभ मिलते हैं जो पद्मासन से प्राप्त होते हैं।

> बैठकर भोजन करने से हम ज्यादा अच्छे से खाना खा सकते हैं।

> इस आसन में बैठने से मन की एकाग्रता बढ़ती है।

> सुखासन से पूरे शरीर में रक्त-संचार समान रूप से होने लगता है। जिससे शरीर को ज्यादा ऊर्जा मिलती है।

> इस आसन से मानसिक तनाव कम होता है और मन में सकारात्मक विचारों का प्रभाव बढ़ता है।

> इस आसन में बैठने से हमारे पैर मजबूत बनते हैं।

> इस तरह खाना खाने से मोटापा, अपच, कब्ज, गैस आदि पेट संबंधी बीमारियों में भी राहत मिलती है।

> आलस्य दूर होता है और स्फूर्ति बनी रहती है। मांसपेशियों का खिंचाव कम होता है।

> जब हम जमीन पर बैठकर खाना खाते है तो इससे रीढ़ की हड्डी के निचले भाग पर जोर पड़ता है, जिससे आपके शरीर को आराम मिलता है।

> इस आसन में बैठने से कमर दर्द में राहत मिल सकती है।

X
old traditions about eating food, healthy tips about eating, parampara in hindi
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..