परंपरा / घर में खंडित मूर्तियां क्यों नहीं रखनी चाहिए?



old traditions, parampara, aisa kyu, temple in home, vastu dosh about temple
X
old traditions, parampara, aisa kyu, temple in home, vastu dosh about temple

  • टूटी-फूटी मूर्तियों की पूजा से बढ़ती है नकारात्मकता, शिवलिंग को नहीं माना जाता खंडित

Dainik Bhaskar

May 30, 2019, 01:35 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। घर के मंदिर में भगवान की मूर्तियां रखने की परंपरा पुराने समय से चली आ रही है। इस संबंध में मान्यता है कि मूर्तियों की पूजा करने से और दर्शन करने से सकारात्मकता बढ़ती है। घर में सुखद वातावरण रहता है। मूर्तियों से जुड़ी ध्यान रखने योग्य एक बात ये है कि कभी भी टूटी-फूटी मूर्तियां घर में नहीं रखनी चाहिए। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार घर में ज्यादा बड़ी और खंडित मूर्तियां रखने से बचना चाहिए।

मूर्तियों से जुड़ी ये बातें ध्यान रखें

  1. नहीं मिल पाता है पूरा पुण्य

    खंडित मूर्तियों के संबंध में धार्मिक मान्यता है कि अगर ऐसी मूर्तियों की पूजा की जाती है तो पूरा फल नहीं मिल पाता है। मन को शांति नहीं मिलती है। टूटी मूर्ति की पूजा करते समय जैसे ही हमारी नजर मूर्ति के टूटे हिस्से पर जाती हैं, हमारा मन भटक जाता है और पूजा में एकाग्रता नहीं बन पाती है। एकाग्रता की कमी की वजह से विचारों की शुद्धि नहीं हो पाती है, मन अशांत रहता है।

  2. बढ़ते हैं वास्तु दोष

    वास्तु के अनुसार घर में टूटी-फूटी चीजें रखी रहती है तो वास्तु दोष बढ़ते हैं। ऐसे दोषों की वजह से घर में नकारात्मकता बढ़ती है। पूजा करते समय भगवान की मूर्तियों की ओर ध्यान लगाने से तनाव दूर होता है, लेकिन मूर्ति अगर खंडित होगी तो ध्यान नहीं लग पाता है। इसीलिए घर में अगर कोई मूर्ति टूटी हुई हो तो उसे तुरंत हटा देना चाहिए।

  3. सिर्फ शिवलिंग नहीं होता कभी खंडित

    मूर्तियों के संबंध में शिवपुराण के अनुसार शिवलिंग को निराकार माना गया है। शिवलिंग खंडित होने पर भी पूजनीय है और ऐसे शिवलिंग की पूजा की जा सकती है। शिवलिंग के अलावा अन्य सभी देवी-देवताओं की मूर्तियां खंडित अवस्था में पूजनीय नहीं मानी गई हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना