मान्यता / पितृ पक्ष में रोज तर्पण करना चाहिए, पितरों को अंगूठे से जल चढ़ाने की है परंपरा

pitru paksha 2019, pitru paksha kab se hai, shraddha paksha 2019
X
pitru paksha 2019, pitru paksha kab se hai, shraddha paksha 2019

  • हस्तरेखा ज्योतिष में अंगूठे के पास वाले भाग को पितृ तीर्थ कहा जाता है

दैनिक भास्कर

Sep 17, 2019, 05:34 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। अभी पितृ पक्ष चल रहा है और इन दिनों में पितरों के लिए श्राद्ध तर्पण और अन्य शुभ कर्म किए जाते हैं। पितरों को प्रसन्न करने के लिए श्राद्ध पक्ष में रोज तर्पण करना चाहिए। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार तर्पण करते समय हाथ में जल लेकर अंगूठे की ओर से पितरों को चढ़ाया जाता है। जानिए इस परंपरा से जुड़ी खास बातें...

  • अंगूठे से जल चढ़ाने पर मिलती है पितरों को तृप्ति

श्राद्ध कर्म करते समय पके हुए चावल, दूध और काले तिल मिलाकर पिंड बनाए जाते हैं। इन पिंडों को मृत व्यक्ति के शरीर का प्रतीक माना जाता है। पिंडों पर अंगूठे की मदद से धीरे-धीरे जल चढ़ाया जाता है। इस संबंध में मान्यता है कि अंगूठे से पितरों को जल देने से वे तृप्त होते हैं और उनकी आत्मा को शांति मिलती है।

  • अंगूठे के पास होता है पितृ तीर्थ

हस्तरेखा ज्योतिष के अनुसार हथेली में अंगूठा के पास वाले भाग के कारक पितर देवता होते हैं। इसे पितृ तीर्थ कहा जाता है। हथेली में जल लेकर अंगूठे से चढ़ाया गया जल पितृ तीर्थ से होता हुआ पिंडों तक जाता है। इस वजह से पितरों को तृप्ति मिलती है और वे आशीर्वाद देते हैं।

  • पितृ पक्ष में इन बातों का भी ध्यान रखें

पितृ पक्ष में श्राद्ध कर्म करने वाले व्यक्ति को अधार्मिक कर्मों से बचना चाहिए। जो लोग इन दिनों में गलत काम करते हैं, उनकी पूजा-पाठ, श्राद्ध कर्म निष्फल हो जाते हैं। पितृ पक्ष में किसी पवित्र नदी में स्नान करें और स्नान के बाद गरीब व्यक्ति दान में अनाज और धन दें। घर-परिवार में सुख-शांति बनाए रखनी चाहिए। क्लेश न करें।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना