रहीम के दोहे / सेहत, खांसी, प्रेम सहित 7 बातें कोई भी ज्यादा समय तक छिपा नहीं सकता

rahim ke dohe, we should remember these tips according to rahim ke dohe, motivational quotes,
X
rahim ke dohe, we should remember these tips according to rahim ke dohe, motivational quotes,

Jun 24, 2019, 04:47 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। रहीम के दोहों में जीवन प्रबंधन के सूत्र छिपे होते हैं। अगर इन सूत्रों को जीवन में उतार लिया जाए तो हम कई परेशानियों से बच सकते हैं। रहीम मुगल बादशाह अकबर के खास लोगों में से एक थे। उनके दोहे आज भी काफी चर्चित हैं। रहीम ने एक दोहे में सात ऐसी बातें बताई हैं, जिन्हें कोई भी ज्यादा समय तक छिपा नहीं सकता है। जानिए ये बातें कौन-कौन सी हैं...
रहीम कहते हैं-
खैर, खून, खांसी, खुशी, बैर, प्रीति, मदपान।
रहिमन दाबे न दबै, जानत सकल जहान॥

> इस दोहे के अनुसार पहली बात है खैर यानी खैरियत या सेहत ज्यादा दिनों तक छिपा नहीं सकता। अगर कोई व्यक्ति बीमार है तो दूसरों को ये बात मालूम हो ही जाएगी। दूसरी बात है खून यानी कत्ल। कोई भी व्यक्ति कितनी भी चालाकी से किसी की हत्या करे, वह एक दिन जरूर पकड़ा जाएगा। तीसरी बात है खांसी। अगर किसी व्यक्ति को खांसी हो रही है तो वह इस बीमारी को ज्यादा समय तक छिपा नहीं सकता।
> दोहे के अनुसार चौथी बात है खुशी। कोई व्यक्ति बहुत ज्यादा खुश है तो ये बात भी छिप नहीं सकती है। पांचवीं बात है बैर भाव। अगर हमारे मन में किसी के प्रति बैर भाव है, हम किसी पसंद नहीं करते हैं तो ये भी बहुत दिनों तक छिप नहीं सकता है। छठी बात है प्रीति यानी प्रेम। जो लोग प्रेम करते हैं, उनका प्रेम प्रकट हो ही जाता है।
> सातवीं और अंतिम बात है मदपान यानी नशा। नशा किसी भी सूरत में छिप नहीं सकता है। अगर कोई व्यक्ति नशे में है तो वह ये बात छिपा नहीं सकता।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना