• Hindi News
  • Religion
  • Dharam
  • Raksha Bandhan 2019: Rakhi Puja Thali Items , Raksha Bandhan Rakhi Puja Thali Items, Raksha Bandhan Puja Items

रक्षाबंधन / पूजा की थाली में राखी और मिठाई के साथ अन्य 5 चीजें भी होनी जरूरी है



Raksha Bandhan 2019: Rakhi Puja Thali Items , Raksha Bandhan Rakhi Puja Thali Items, Raksha Bandhan Puja Items
X
Raksha Bandhan 2019: Rakhi Puja Thali Items , Raksha Bandhan Rakhi Puja Thali Items, Raksha Bandhan Puja Items

Dainik Bhaskar

Aug 14, 2019, 07:32 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क. भाई-बहन के निस्वार्थ प्रेम की अभिव्यक्ति का दिन रक्षाबंधन श्रावण माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस दिन बहनें अपने भाईयों की कलाई पर रक्षा-सूत्र बांधकर उनसे अपनी रक्षा का वचन लेती हैं। राखी पर अन्य त्यौहारों की तरह बहुत अधिक रस्में तो नहीं की जाती हैं, लेकिन कुछ वैदिक तरीके अपनाने पर जरूर ध्यान देना चाहिए। इस दिन बहन द्वारा पूजा की थाली में 7 महत्वपूर्ण चीजें होनी चाहिए। जो शास्त्रों के अनुसार बहुत महत्वपूर्ण मानी गई हैं। इस त्योहार पर बहन द्वारा पूजा की थाली में निम्न वस्तुएं सजाई जानी चाहिए।

 

01. चंदन

रक्षाबंधन पर पूजा की थाली में पहली सबसे जरूरी चीज चंदन या कुमकुम होती है। हिन्दू धर्म के अनुसार किसी भी शुभ काम की शुरुआत चंदन या कुमकुम का तिलक लगाकर ही की जानी  चाहिए। शास्त्रों के अनुसार चंदन का तिलक लगाने से पापों का नाश होता है और मनुष्य कई तरह के संकट से बच जाते हैं। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक तिलक लगाने से ग्रहों की शांति होती है। इसलिए भाई के माथे पर तिलक लगाते हुए बहन उसकी लंबी उम्र की कामना भी करती है।

 

02.अक्षत

तिलक लगाने के बाद माथे पर अक्षत लगाना भी अनिवार्य होता है। दरअसल अक्षत का अर्थ है पूर्ण  यानी जो अधूरा न हो। अक्षत को हविष्य अन्न कहा गया है यानी चावल देवताओं का भोजन हैं। इसलिए सिर पर चावल लगाने से सकारात्मकता आती है और समृद्धि बढ़ती है। इस प्रकार से तिलक पर चावल लगाने का भाव है कि भाई के जीवन पर तिलक का शुभ असर हमेशा बना रहे।

 

03. नारियल

नारियल को श्रीफल कहा जाता है, जिसमें ‘श्री’ से भाव है देवी लक्ष्मी का फल। यह फल देते हुए बहन यह कामना करती है कि भाई के जीवन में सुख और समृद्धि बनी रहे और वह उन्नति करता रहे। श्रीफल को पूर्ण फल भी कहा जाता है। यानी प्रेम और सद्भाव से रिश्ते की पूर्णता बनी रहे इसलिए श्रीफल दिया जाता है।

 

04. रक्षा सूत्र (राखी)

रक्षासूत्र बांधने से त्रिदोष शांत होते हैं। त्रिदोष यानी वात, पित्त और कफ। हमारे शरीर में कोई भी बीमारी इन दोषों के कारण ही होती है। रक्षा सूत्र कलाई पर बांधने से शरीर में इन तीनों का संतुलन बना रहता है। वैज्ञानिकों द्वारा सिद्ध भी किया गया है कि ये रक्षासूत्र का धागा बांधने से कलाई की नसों पर दबाव बनता है, जिससे ये तीनों दोष नियंत्रित रहते हैं।

 

05. मिठाई

राखी बांधने के बाद मिठाई क्यों खिलाई जाती है इसके पीछे भी एक मानयता है। इसके अनुसार जब राखी बांधने के बाद बहन अपने भाई को मिठाई खिलाकर उसका मुंह मीठा करती है, तो वह असल में दोनों के रिश्ते में मिठास भरती है। मिठाई खिलाते समय वह यह कामना करती है कि दोनों के रिश्ते में कड़वाहट न आए और रिश्ते की मिठास बनी रहे।

 

06. दीपक

आमतौर पर बहनें राखी बांधने से ठीक पहले दीपक जलाती हैं। रक्षाबंधन पर दीपक प्रज्वलित करने का मतलब होता है कि भाई अग्नि को साक्षी मानकर उस दिन अपनी बहन की रक्षा का संकल्प लेता है। इसके बाद उसी अग्नि से बहन अपने भाई की आरती करती हैं। जिस तरह से दीपक की अग्नि पूरी तरह पवित्र होती है उसी तरह बहन और भाई का प्रेम भी पूरी तरह निश्छल और पवित्र बना रहे। इसी कामना के साथ दीपक जलाया जाता है।

 

07. पानी से भरा कलश

यह पानी से भरा कलश राखी की थाली में होना बेहद अावश्यक है। यह तांबे का ही होना चाहिए और इसी कलश के जल को चंदन या कुमकुम में मिलाकर तिलक लगाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस कलश में सभी तीर्थों और देवी-देवताओं का वास होता है। कलश के प्रभाव से भाई और बहन के जीवन में सुख और स्नेह हमेशा बना रहता है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना