रामायण / हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए परिवार में कैसे संस्कार दिए जा रहे हैं



Ramayan Lord Rama and his brothers how to teach younger difference between  good and  bad
X
Ramayan Lord Rama and his brothers how to teach younger difference between  good and  bad

  • भगवान राम ने अपने भाइयों को सिखाया था धर्म और अधर्म का सबसे सही अंतर 

Dainik Bhaskar

Jul 20, 2019, 05:17 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क. रामचरित मानस के एक प्रसंग में चलते हैं। रावण का वध करके राम अयोध्या लौटे। भरत ने उन्हें राजकाज समर्पित किया। एक दिन राम एक पेड़ के नीचे बैठकर अपने तीनों भाई भरत, लक्ष्मण और शत्रुघ्न को जीवन में देश, समाज और परिवार का महत्व समझा रहे हैं।

 

राम अपने भाइयों को समझा रहे हैं कि समाज और राष्ट्र का हित सबसे बड़ा है। हर परिवार को उसके बारे में सोचना चाहिए। जब तक हम दूसरे की पीड़ा और व्यथा नहीं समझेंगे, राष्ट्र का विकास संभव नहीं है।

 

राम कहते हैं - परहित सरिस धरम नहीं भाई। परपीड़ा सम नहीं अधमाई।।

 

यानी दूसरों के हित और सुख से बढ़कर कोई धर्म नहीं है और दूसरों को पीड़ा देने से बड़ा कोई पाप नहीं।


राम ने अपने परिवार में जो संस्कार और विचारों की नींव रखी वे विचार और संस्कार आज हमारे परिवारों में भी आवश्यक हैं। हर परिवार को केवल खुद के लिए ही नहीं, दूसरों के लिए, समाज और राष्ट्र के लिए भी सोचना चाहिए।

 

इंसानों के प्रेमपूर्ण मिलन से परिवार बनता है और परिवारों के  व्यवस्थित समूह को ही समाज कहते हंै। यह तो जाहिर सी बात है कि श्रेष्ठ समाज ही किसी विकसित और प्रगतिशील देश का आधार बनता है। लोगों की जनसंख्या या बसावट को ही समाज नहीं कहते, वह तो समाज कम और भीड़ अधिक है।

 

वास्तव में समाज उस मानव समुदाय को कहते हैं जिसके सारे परिवार और सदस्य एक-दूसरे के साथ इस तरह से मिल-जुल कर रहते हैं कि सभी के विकास में सहयोगी बनते हैं। इंसानी जिंदगी का जो अंतिम मकसद है उसे पाने या उस तक पहुंचने में समाज सहायक हो सकता है। यदि समाज मानव जीवन के असली और सबसे बड़े मकसद को पाने में सहायक नहीं हो सकता तो उस समाज को सफल नहीं कहा जा सकता। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना