14 साल बाद आज शनैश्चरी और हरियाली अमावस्या एकसाथ, 11 अगस्त को है साल की आखिरी शनि अमावस्या

Shanichari Amavasya And Hariyali Amavasya: आज 14 साल बाद शनैश्चरी और हरियाली अमावस्या का संयोग बन रहा है।

dainikbhaskar.com| Last Modified - Aug 11, 2018, 11:15 AM IST

अाज 14 साल बाद शनैश्चरी और हरियाली अमावस्या का संयोग बन रहा है। ज्योतिषाचार्य पं प्रफुल्ल भट्ट के अनुसार इसके पहले 2004 में शनिवार को हरियाली अमावस्या का संयोग बना था। इस बार शनि अमावस्या पर खंडग्रास सूर्यग्रहण भी है, हालांकि ये भारत में दिखाई नहीं देगा। ये साल की आखिरी शनि अमावस्या होने से और भी खास हो गई है। इसके पहले 17 मार्च को शनैश्चरी अमावस्या थी। श्रावण महीने की इस अमवस्या पर शिवजी को बिल्वपत्र, भांग और धतूरा जैसी हरी चीजें चढ़ाने से हर तरह के पाप खत्म हो जाते हैं। इस साल शनैश्चरी अमावस्या भी होने से शिवजी की विशेष पूजा से हर तरह के पाप खत्म हो जाएंगे और शनिदेव की कृपा भी मिलेगी।

कैसे करें शनि की शांति के उपाय - 

 

पं भट्ट के अनुसार श्रावण माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या 11 अगस्त को अश्लेषा नक्षत्र के साथ पड़ रही है। यह हरियाली अमावस्या रहेगी। इस दिन शनिवार है और संयोग से वर्तमान में चल रहे संवत्सर के मंत्री भी शनिदेव है। इसी दिन सूर्यग्रहण भी रहेगा, लेकिन यह भारत में नहीं दिखेगा। इस दिन अश्लेषा नक्षत्र में सूर्य के होने से अच्छी बारिश के योग बनेंगे। शनिवार और हरियाली अमावस्या का संयोग होने से शनि देव की शांति के लिए शमी का पाैधा लगाना चाहिए। इसके अलावा पीपल की पूजा भी करनी चाहिए। वृश्चिक, धनु और मकर राशि के लोग साढ़ेसाती से परेशान चल रहे हैं, इसलिए इन राशि वालों को इस दिन शमी के पौधे की पूजा करने से लाभ मिलेगा।

Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now