--Advertisement--

AR में सिद्धिविनायक / बप्पा के मंदिर की मान्यता इतनी कि अमिताभ के लिए प्रार्थना करने नंगे पैर आई थीं जया

मंदिर की खासियत है कि गणपति की मूर्ति दाहिनी तरफ झुकी हुई है। उनके दोनों ओर रिद्धि और सिद्धि विराजमान हैं। इसीलिए इसका नाम सिद्धिविनायक पड़ा है।

Danik Bhaskar | Sep 17, 2018, 02:44 PM IST

मुंबई. प्रथम पूज्य भगवान श्री गणेश भक्तों के दुख हरने के लिए जाने जाते हैं इसलिए इन्हें दुखहर्ता और सुखकर्ता कहते हैं। मुंबई स्थित प्राचीन मंदिर सिद्धिविनायक मंदिर भी इन्हीं सुखकर्ता को समर्पित  है। इस मंदिर को जिस दानवीर महिला ने बनवाया था, उनकी कोई संतान नहीं थी।  उन्होंने इस उद्देश्य से यह मंदिर बनवाया था कि यहां पर मन्नत मांगने वाली महिला कभी नि:संतान नहीं रहेगी। कालांतर में यह मंदिर सभी भक्तों की मन्नतों की पूर्ति के लिए काफी प्रसिद्ध हुआ। यहां पर आम लोगों के साथ कार्पोरेट जगत, राजनीति और बॉलीवुड की नामचीन हस्तियां भी आशीर्वाद पाने नंगे पैर दौड़ी आती हैं। 

1982 में जब कुली की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन घायल हो गए थे और कोमा में चले गए थे तो उनकी पत्नी जया नंगे पैर प्रार्थना करने सिद्धि विनायक मंदिर आती थी। लेकिन वह यह देखकर हैरान रह जातीं कि वहां पहले से ही हजारों लोग अमिताभ की सलामती की दुआ मांग रहे होते थे। कुछ ही दिनों बाद अमिताभ कोमा से बाहर आ गए और पूरी तरह से ठीक भी हो गए। इसके बाद से पूरा बच्चन परिवार हर बड़े मौके पर सिद्धिविनायक मंदिर पहुंच कर बप्पा से आशीर्वाद प्राप्त करता है।