हनुमान जयंती पर पूजा करते समय भगवान को लाल और पीले फूल जरूर चढ़ाना चाहिए, सुबह, दोपहर और शाम को अलग-अलग चीजों का लगाना चाहिए भोग

सुंदरकांड का पाठ करते समय हनुमानजी को सिंदूर, चमेली का तेल चढ़ाना चाहिए

dainikbhaskar.com

Apr 17, 2019, 08:51 PM IST
sunderkand paath, hanuman jayanti 2019, hanuman puja vidhi, suderkand benefits

रिलिजन डेस्क। श्रीराम के परम भक्त हनुमानजी की जयंती शुक्रवार, 19 अप्रैल को है। हनुमान चालीसा में लिखा है कि - अष्ट सिद्धि नवनिधि के दाता। अस बर दीन जानकी माता। इस चौपाई के अनुसार हनुमानजी को माता सीता ने अष्ट सिद्धि और नवनिधियां दी थी, ये सिद्धियां और निधियां हनुमानजी अपने भक्तों को भी देते हैं। उज्जैन के इंद्रेश्वर महादेव मंदिर के पुजारी और ज्योतिर्विद पं. सुनील नागर के अनुसार शास्त्रों में कुछ नियम बताए गए हैं, जो हनुमानजी जंयती पर पूजा करते समय ध्यान रखना चाहिए...

सुबह के समय हनुमानजी को प्रसाद के रूप में गुड़, नारियल, लड्डू चढ़ाया जाना चाहिए।

हनुमानजी की तीन परिक्रमा करनी चाहिए। दोपहर में बजरंग बली को गुड़, घी, गेहूं के आटे से बनी रोटी के चूरमे का भोग लगाना ज्यादा शुभ रहता है।

हनुमानजी को शाम के समय फल जैसे आम, केले, अमरूद, सेवफल आदि का भोग लगाना चाहिए।

सुंदरकांड का पाठ करते समय हनुमानजी को सिंदूर, चमेली का तेल और अन्य पूजन सामग्री भी अर्पित करना चाहिए।

हनुमानजी का चोला चढ़ाते समय तिल के तेल या चमेली के तेल में मिला हुआ सिंदूर प्रतिमा पर लगाना चाहिए।

श्रीराम के अनन्य भक्त हनुमानजी की कृपा पाने के लिए ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।

हनुमानजी को लाल या पीले रंग के फूल विशेष रूप से अर्पित करना चाहिए। इन फूलों में कमल, गेंदा, गुलाब आदि का विशेष महत्व है।

हनुमानजी की पूजा या मंदिर में शुद्धता एवं पवित्रता का विशेष ध्यान रखना चाहिए। ध्यान रखें में भगवान को केसर मिश्रित लाल चंदन का तिलक लगाना चाहिए।

X
sunderkand paath, hanuman jayanti 2019, hanuman puja vidhi, suderkand benefits
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना