भविष्य पुराण / रोज सुबह जल्दी उठकर स्नान के बाद तांबे के लोटे से चढ़ाना चाहिए सूर्य को जल



surya puja, surya ko jal, lord sun, surya puja tips, surya puja method
X
surya puja, surya ko jal, lord sun, surya puja tips, surya puja method

  • बारिश के दिनों में बादलों की वजह से अगर सूर्य के दर्शन नहीं हो रहे हैं तो पूर्व दिशा की ओर मुंह करके जल चढ़ाना चाहिए

Dainik Bhaskar

Aug 23, 2019, 06:10 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। पुरानी परंपराओं में पंचदेव बताए गए हैं, जिनकी पूजा रोज करनी चाहिए। ये पंचदेव हैं, श्रीगणेश, शिवजी, विष्णुजी, देवी दुर्गा और सूर्य देव। सूर्यदेव एक मात्र साक्षात् दिखाई देने वाले देवता हैं। रोज सुबह इनकी पूजा करने से घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान की प्राप्ति होती है। सूर्यदेव की कृपा पाने के लिए रोज सुबह सूर्योदय के समय अर्घ्य अर्पित करना चाहिए। गीता प्रेस गोरखपुर द्वारा प्रकाशित संक्षिप्त भविष्य पुराण अंक के ब्राह्मपर्व के अनुसार जानिए सूर्य पूजा से जुड़ी कुछ खास बातें

  • ब्राह्मपर्व के सौरधर्म में सदाचरण अध्याय के अनुसार जो लोग सूर्य देव को जल चढ़ाते हैं, उन्हें सूर्योदय से पहले बिस्तर छोड़ देना चाहिए।
  • घर से बाहर कहीं जाते समय भगवान सूर्य को प्रणाम जरूर करें। कहीं भी सूर्यदेव का मंदिर दिखाई दे तो शिखर दर्शन और प्रणाम करना चाहिए।
  • उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार बारिश के दिनों में बादलों की वजह से अगर सूर्य के दर्शन नहीं हो रहे हैं तो पूर्व दिशा की ओर मुंह करके सूर्यदेव का ध्यान करें और जल चढ़ाएं। सूर्यदेव की तस्वरी या मूर्ति के दर्शन करें।
  • सूर्य को जल चढ़ाने के लिए तांबे के लोटे का उपयोग करना चाहिए। सूर्य के लिए रविवार को गुड़ का दान करना चाहिए। जल चढ़ाते समय सूर्य मंत्र ऊँ सूर्याय नम:, ऊँ आदित्याय नम:, ऊँ भास्कराय नम: आदि मंत्रों का जाप करते रहना चाहिए।
  • जिन लोगों की कुंडली में सूर्य शुभ स्थिति में नहीं है, उन्हें सूर्य को रोज चढ़ाना चाहिए। इससे सूर्य के दोष दूर हो सकते हैं। सूर्य देव की कृपा से घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान की प्राप्ति होती है। सुबह जल्दी उठने और सूर्य को जल चढ़ाने से त्वचा की चमक बढ़ती है।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना