बौद्ध तीर्थ / चमत्कारिक रूप से अटकी है यहां पवित्र गोल्डन रॉक, आध्यात्मिक उर्जा से भरा है बर्मा का ये स्तूप



This Stupa of Burma is Full of Spiritual Energy, Miraculously Stuck Here The Golden Rock
X
This Stupa of Burma is Full of Spiritual Energy, Miraculously Stuck Here The Golden Rock

May 16, 2019, 06:31 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क. म्यांमार में करीब 25 फीट ऊंचाई का एक ऐसा भारी-भरकम पत्थर है जो एक दूसरे पत्थर के ढाल पर अटका हुआ है। इस पत्थर पर भक्तों द्वारा सोने की पत्तियां चिपकाई जाती हैं। इसलिए इसे गोल्डन रॉक या क्यैकटियो पगोडा भी कहते हैं। यह रॉक 1100 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह बर्मा के बुद्धिस्ट का प्रमुख तीर्थ स्थल भी है। दूर-दूर से लोग इस पगोड़े को देखने आते हैं। यहां लोगों की मन्नते भी पूरी होती हैं। इस तरह यह एक चमत्कारी जगह मानी जाती है।

 

  • क्या है गोल्डन रॉक

पौराणिक कथा के अनुसार गोल्डन रॉक भगवान बुद्ध के बालों से घिरा हुआ है, जिस वजह से यह अपने स्थान से हिल नहीं पाता है। यह चट्टान बौद्ध भिक्षु के सिर की तरह नजर आती है, इसलिए लोग इसकी पूर्ण आस्था के साथ पूजा करते हैं। यह जिस छोटे आकार के पत्थर पर टिका है उससे यह अलग मालूम पड़ता है और ऐसा लगता है कि यह कभी भी गिर सकता है। लेकिन यह सालों से अपनी जगह पर कायम है। लोग इसे भगवान का रूप मानते हैं और इसकी पूजा करते हैं। म्यांमार के बौद्ध धर्मावलंबियों के लिए ये एक प्रमुख तीर्थ स्थल है। इस अद्भुत पत्थर के दर्शन के लिए यहा हमेशा भक्तों की भीड़ लगी रहती है।

 

  • मन्नत मांगने आते हैं लोग 

इस विशाल पत्थर का एक छोर एक नुकीले पत्थर पर टिका हुआ है और बाकी का भाग बाहर की ओर लटका हुआ है। आस्था का प्रतीक बन चुके इस मंदिर में लोग बड़ी संख्या में मन्नत मांगने के लिए आते हैं। लोग दोनों पत्थर के बीच में जो मामूली सी जगह है उनके बीच में नोट और सिक्के रखकर अपनी मन्नतें मांगते हैं।

 

  • अद्भुत ऊर्जा निकलती है यहां

यह शानदार संरचना न केवल आकर्षक है, बल्कि यह एक अद्भूूत ऊर्जा भी उत्पन्न करती है।तीर्थयात्री इस जगह पर ये देखने आते हैं कि कैसे यह एक चट्टान के किनारे से चिपका हुआ है, लेकिन यह भी लगता है कि ऐसा किसी आध्यात्मिक शक्ति के कारण ही हो सकता है। माना जाता है कि यहां पर लोगों को भगवान बुद्ध की शक्ति का एहसास होता है।

 

  • सिर्फ पुरुष ही करते हैं स्पर्श 

म्यांमार के लोग इस पत्थर को भगवान का रूप मानकर इस चमत्कारिक पत्थर की पूजा करते हैं। यहां के लोगों की मान्यता है कि जो भी इस पत्थर के पास एक साल में तीन बार जाता है उसके सभी दुख दूर हो जाते हैं। इस चट्टान को सिर्फ पुरुष ही स्पर्श कर सकते हैं। यहां के एक नियम के मुताबिक, महिलाएं इसे छू नहीं सकतीं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना