हस्त रेखा ज्ञान चित्र सहित: 7 तरह के होते हैं हाथ, अपना हाथ देखकर खुद पता कर सकते हैं भविष्य

dainikbhaskar.com | Sep 05,2018 19:07 PM IST

हस्तरेखा शास्त्र सामुद्रिक शास्त्र का एक अंग है। इसकी रचना सामुद्र ऋषि ने की थी, इसी कारण इसे सामुद्रिक शास्त्र कहा जाता है। इसके सिद्धांतों के आधार पर हाथों का सूक्ष्म रूप से अध्ययन कर के भविष्य बताया जाता है। हस्त रेखाएं शुक्लपक्ष और कृष्णपक्ष में बनती-बिगड़ती रहती हैं, लेकिन हाथों की बनावट में बदलाव नहीं अाता। बनावट के आधार पर 7 तरह के हाथ होते हैं। निम्न श्रेणी का हाथ, वर्गाकार हाथ, चमसाकार हाथ, दार्शनिक हाथ, कलापूर्ण हाथ, आदर्श हाथ और मिश्रित हाथ।