--Advertisement--

शादी / रणवीर की राशि कुंभ और दीपिका की तुला, जानें कैसी रहेगी जोड़ी?



interesting facts about ranveer and deepika marriage according to jyotish
interesting facts about ranveer and deepika marriage according to jyotish
X
interesting facts about ranveer and deepika marriage according to jyotish
interesting facts about ranveer and deepika marriage according to jyotish

  • उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा का अनुमान- भविष्य में विवादों से दूर रहेगी जोड़ी

Dainik Bhaskar

Nov 16, 2018, 04:48 PM IST

रिलिजन डेस्क. रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण की इटली के लेक कोमो में कोंकणी और सिंधी रिवाज से शादी हो चुकी है। रणवीर की राशि कुंभ और दीपिका की राशि तुला है। रणवीर का जन्म अंक 6 है। दीपिका का जन्म अंक 5 है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पंडित मनीष शर्मा के बता रहे हैं कि ज्योतिष के आधार पर दीपिका और रणवीर का वैवाहिक जीवन कैसा हो सकता है...

कैसा रहेगा इनका वैवाहिक जीवन

  1. रणवीर सिंह का जन्म 6 जुलाई 1985 को हुआ था और दीपिका का जन्म 5 जनवरी 1986 को हुआ था। जन्म के समय चंद्र की स्थिति के आधार पर रणवीर की राशि कुंभ है और दीपिका की राशि तुला है।

  2. पं. शर्मा बताते हैं- ज्योतिष के अनुसार इन राशियों में ज्यादा समानता नहीं बनती है। आमतौर पर ये जोड़ी सामान्य मानी जाती है। कुंभ का स्वामी शनि और तुला राशि का स्वामी शुक्र मित्र है। दोनों राशियां विपरित स्वभाव की हैं।

  3. ‘‘दीपिका की कुंडली में प्रेम विवाह का योग था। इन दोनों की कुंडली में गुरु नीच का है। रणवीर सिंह की कुंडली में शनि उच्च का है। विवाह के बाद शुक्र का बल मिलने से उनके करियर में भाग्य का साथ मिलेगा।’’

  4. ‘‘दीपिका को इस विवाह की वजह से करियर में कोई ज्यादा फायदा मिलने की संभावना नहीं है। वे अपनी मेहनत के बल पर ही सफलता हासिल करेंगी। इनका वैवाहिक जीवन सुखी रहेगा। भविष्य में किसी प्रकार का कोई विवाद होने के योग नहीं हैं।’’

  5. क्या कहता है अंक ज्योतिष

    पं. शर्मा बताते हैं- रणवीर का जन्म अंक 6 है और दीपिका का जन्म अंक 5 है। इन अंकों के लोगों को अपने क्रोध पर काबू रखना चाहिए। अन्यथा वैवाहिक जीवन में परेशानियां बढ़ सकती हैं।

  6. ‘‘अंक 5 का स्वामी ग्रह बुध है और अंक 6 का स्वामी ग्रह शुक्र है। ये दोनों ही ग्रह इनके क्षेत्र से संबंधित हैं। बुध प्रबंधन और वाणी का कारक है, जबकि शुक्र वैभव और ग्लैमर से संबंधित है। इस वजह से इनका विवाह इनके कार्यक्षेत्र के लिए फायदेमंद हो सकता है।’’

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..