--Advertisement--

भाई दूज / दोपहर 1 से 3:30 बजे तक भाई को तिलक लगाकर मनाएं दूज



bhaiya duj muhurt from 1 to 330 pm
X
bhaiya duj muhurt from 1 to 330 pm

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2018, 01:26 PM IST

दिवाली और गोवर्धन के पर्व की तरह ही भाई दूज के त्योहार का भी बहुत महत्व है। यह त्योहार दिवाली के एक दिन बाद यानि गोवर्धन पर्व के अगले दिन मनाया जाता है, जिसमें बहनें अपने भाईयों को टीका कर कलावा बांधती हैं और उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं।

 

लेकिन भाई दूज कैसे मनाना चाहिए और इस दिन भाईयों और बहनों क्या तैयारियां करनी चाहिए, आइए जानते हैं विस्तार से -


1. इस दिन सुबह-सवेरे उठकर बहनों को नहा-धोकर पूजा करनी चाहिए और व्रत रखना चाहिए।

2. इसके बाद पूजा का थाल सजाएं। इसमें सूखा नारियल ( गोला), मिश्री, रोली और चावल रखें।

घी का दीपक जलाए और धूप भी रखें।

3. अब आटे से एक चौक बनाएं और उस पर लकड़ी का एक पाटा रखें। अब उस पर अपने भाई को बैठाएं और उसकी आरती उतारें। रोली का टीका और चावल लगाएं।

4. हाथ में कलावा बांधें और आरती उतारें।

5. आरती उतारते वक्त मन ही मन भाई की लंबी उम्र और सुरक्षा की कामना करें।

6. इसके बाद मिश्री खिलाकर भाई का मुंह मीठा कराएं। चाहें तो मिठाई भी खिला सकती हैं।

7. अब सूखा नारियल और मिश्री भाई की गोद में रखें और आशीर्वाद लें।

8. इसके बाद भाई अपनी बहन को उपहार स्वरूप या तो पैसे दें या फिर उनकी पसंद का कोई उपहार दे सकते हैं।

9. इसके बाद बहनें अपना व्रत खोल लें और जो भी खाना बनाया हो वो खा लें।

10. शाम को घर के मुख्य द्वार पर चार मुख वाला यमराज के नाम का एक दीया जलाएं और उनका ध्यान करें। इस दीए को दक्षिण दिशा की ओर रख दें।

 

मुहूर्त

भाई के तिलक का समय दोपहर 1 से 3:30 बजे तक शुभ मूहर्त है। इसके बाद भी तिलक किया जा सकता है।

 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..