नवरात्र आज से / पहली बार नवरात्र से दीपावली तक 29 दिनों में 22 महामुहूर्त



first time, in 22 days from Navaratri to Deepawali, 22 Mahamahurat bhaskar
first time, in 22 days from Navaratri to Deepawali, 22 Mahamahurat bhaskar
first time, in 22 days from Navaratri to Deepawali, 22 Mahamahurat bhaskar
X
first time, in 22 days from Navaratri to Deepawali, 22 Mahamahurat bhaskar
first time, in 22 days from Navaratri to Deepawali, 22 Mahamahurat bhaskar
first time, in 22 days from Navaratri to Deepawali, 22 Mahamahurat bhaskar

  • सुबह से शाम तक घट स्थापना के छह मुहूर्त
  • 10 अक्टूबर से 18 अक्टूबर तक मनाई जाएगी नवरात्र, 19 अक्टूबर को दशहरा

Dainik Bhaskar

Oct 10, 2018, 11:37 AM IST

नई दिल्ली.  इस बार त्योहार बहुत खास हैं। इसकी बड़ी वजह यह है कि नवरात्र से दिवाली तक किसी भी त्योहार में तिथि का क्षय नहीं है। दीपावली तक सभी त्योहारों में तिथियां पूर्ण रहेंगी। दूसरी बड़ी वजह नवरात्र (10 अक्टूबर) से दीपावली (7 नवंबर) तक खरीदारी के 22 खास मुहूर्त हैं। 10 अक्टूबर से 7 नवंबर तक कुल 29 दिनों में से 22 दिन खरीदारी और व्यापार शुरू करने जैसे कामों के लिए बहुत शुभ हैं। ऐसा पहली बार हो रहा है कि नवरात्र से लेकर दीपावली के बीच इतनी बड़ी संख्या में महामुहूर्त पड़ रहे हैं।

 

ये भी पढ़ें

Yeh bhi padhein

 

मनसा, वाचा, कर्मणा; आज से रोज तीन संकल्प
जब नई शुरुआत के लिए प्रकृति स्वयं को बदलती है, तब नवरात्र होती है। ये मन से (मनसा), वचन से (वाचा) और कर्म से (कर्मणा) संकल्प लेने के दिन हैं। भास्कर आपको नौ दिनों के मन, वचन और कर्म के संकल्प बता रहा है। इसके बाद आप स्वयं को नई ऊर्जा से भरपूर पाएंगे। इसी में नवरात्र की सार्थकता है।

 

navratri

 

पूजन विधि : नवरात्रि में घट स्थापना
- कलश को भगवान विष्णु का प्रतिरूप माना गया है, इसलिए कलश पूजन का महत्व है। कलश स्थापना से पहले स्थल को गंगा जल से शुद्ध किया जाना चाहिए। 
- गणेश का आह्वान कर अभिषेक करना चाहिए। फिर कलश और माता प्रतिमा को स्थापित करना चाहिए। पूजन कुमकुम, अबीर, गुलाल, हल्दी, मेहंदी, सिंदूर, पुष्प-पुष्पमाला आदि चढ़ाना चाहिए।
- भगवान के सामने नैवेद्य लगाकर दीपक पूजन व धूप लगाकर भोग लगाना चाहिए। फिर आरती करनी चाहिए। (देवी पूजन कुल के विधान अनुसार करें।)

 

navratri


10 अक्टूबर : नवरात्रारंभ: घर बनवाना शुरू करने, ज्वेलरी खरीदने या बनवाने, खेल और नृत्य या संगीत से जुड़ा सामान खरीदने के लिए शुभ। 
19 अक्टूबर : दशहरा: दुकान खोलने, बड़ी गाड़ी खरीदने, इलेक्ट्रॉनिक सामान लेने के लिए शुभ।
27 अक्टूबर : करवा चौथ: सर्वार्थ सिद्धि और अमृत सिद्धि योग है। नया व्यापार शुरू करने, गाड़ियां और मनोरंजन का सामान खरीदने, फर्नीचर और होम एप्लायंस खरीदने के लिए शुभ।
31 अक्टूबर : पुष्य नक्षत्र: कपड़े, ज्वेलरी, फर्नीचर, गाड़ी लेने, गृह प्रवेश करने के लिए शुभ।
4 नवंबर : अमृत, सर्वार्थ सिद्धि, त्रिपुष्कर योग: ज्वेलरी, गाड़ियां, फर्नीचर, इलेक्ट्रॉनिक सामान खरीदने के लिए शुभ। गृह प्रवेश भी कर सकते हैं। 
5 नवंबर : धन तेरस: ज्वेलरी, बर्तन, प्रॉपर्टी, गाड़ी, फर्नीचर, इलेक्ट्रॉनिक सामान खरीदने के लिए शुभ।
6 नवंबर : रूप चतुर्दशी: ज्वेलरी, बर्तन, गाड़ी, फर्नीचर, होम एप्लायंस और गैजेट्स खरीदने के लिए शुभ।
7 नवंबर : दिवाली: कोई भी सामान खरीदने, गृह प्रवेश करने या व्यापार शुरू करने के लिए शुभ। 


29 दिन के फेस्टिव सीजन में छुट्टियों के 3 बड़े मौके
10 अक्टूबर को कलश स्थापना है। यानी नवरात्र की शुरुआत। दिवाली 7 नवंबर को है। नवरात्र से दिवाली के बीच 29 दिन के फेस्टिव सीजन में छुटि्टयों के 3 बड़े मौके आएंगे। 

पहला: 16 से 21 अक्टूबर तक, 6 दिन
सप्तमी, अष्टमी, नवमी, दशहरा और वीकेंड।


दूसरा: 27 से 28 अक्टूबर तक, 2 दिन
करवाचौथ और रविवार। 


तीसरा: 6 से 9 नवंबर तक, 4 दिन
नरक चौदस, दिवाली, गोवर्धन पूजा, दूज।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना