• Hindi News
  • Religion
  • Jeevan mantra
  • makar sankranti 2019, Makar Sankranti Dates till 2100 Traditions of Makar Sankranti, sankranti 2019, happy sankranti, happy makar sankranti, why makar sankranti is celebrated in hindi, why makar sankranti is celebrated on 14th january, makar sankranti food, why kites on makar sankranti, makar sankranti 2019 kab hai

makar sankranti 2019: पहले 12-13 जनवरी को मनाई जाती थी मकर संक्रांति, 2047 के बाद अधिकांश बार 15 जनवरी को ही मनाई जाएगी / makar sankranti 2019: पहले 12-13 जनवरी को मनाई जाती थी मकर संक्रांति, 2047 के बाद अधिकांश बार 15 जनवरी को ही मनाई जाएगी

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2019, 06:00 PM IST

सूर्य के राशि परिवर्तन के कारण आता है मकर संक्रांति की तारीखों में अंतर 

makar sankranti 2019, Makar Sankranti Dates till 2100 Traditions of Makar Sankranti, sankranti 2019, happy sankranti, happy makar sankranti, why makar sankranti is celebrated in hindi, why makar sankranti is celebrated on 14th january, makar sankranti food, why kites on makar sankranti, makar sankranti 2019 kab hai

रिलिजन डेस्क। ज्योतिषियों के अनुसार, इस बार मकर संक्रांति (makar sankranti 2019 )पर किए जाने वाले स्नान, दान का महत्व 15 जनवरी, मंगलवार को रहेगा। पंडितों की मानें तो सन् 2047 के बाद अधिकांश बार 15 जनवरी को ही मकर संक्रांति आएगी। ऐसा अधिकमास व क्षय मास के कारण होगा।

पहले 12 व 13 जनवरी को मनाई जाती थी मकर संक्रांति

सन् 1900 से 1965 के बीच 25 बार मकर संक्रांति 13 जनवरी को मनाई गई थी। उससे भी पहले यह पर्व कभी 12 को तो कभी 13 जनवरी को मनाया जाता था। स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को हुआ था। उनकी कुंडली में सूर्य मकर राशि में था यानी उस समय 12 जनवरी को मकर संक्रांति थी। 20 वीं सदी में मकर संक्रांति 13-14 जनवरी को, वर्तमान में 14 तो कभी 15 जनवरी को आती है। 21वीं सदी समाप्त होते-होते मकर संक्रांति 15-16 जनवरी को मनाई जाने लगेगी।

इसलिए आता है मकर संक्रांति की तारीख में अंतर

सूर्य हर महीने राशि परिवर्तन करता है। एक राशि की गणना 30 अंश की होती है। सूर्य एक अंश की लंबाई 24 घंटे में पूरी करता है। पंचांगकर्ता डॉ. विष्णु कुमार शर्मा (जावरा) के अनुसार, अयनांश गति में अंतर के कारण 71-72 साल में एक अंश लंबाई का अंतर आता है। अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से एक वर्ष 365 दिन व छह घंटे का होता है, ऐसे में प्रत्येक चौथा वर्ष लीप ईयर भी होता है। चौथे वर्ष में यह अतिरिक्त छह घंटे जुड़कर एक दिन होता है। इसी कारण मकर संक्रांति हर चौथे साल एक दिन बाद मनाई जाती है।

हर साल आधे घंटे की देरी

प्रतिवर्ष सूर्य का आगमन 30 मिनट के बाद होता है। हर तीसरे साल मकर राशि में सूर्य का प्रवेश एक घंटे देरी से होता है। 72 वर्ष में यह अंतर एक दिन का हो जाता है। हालांकि अधिकमास-क्षयमास के कारण समायोजन होता रहता है। (पंडितों के अनुसार)

जानिए 13 जनवरी को कब-कब मनाई गई मकर संक्रांति-

सन् 1900, 01, 02, 05, 06, 09, 10, 13, 14, 17, 18, 21, 22, 25, 26, 29, 33, 37, 41, 45, 49, 53, 57, 61 व 1965 में।

15 जनवरी को मकर संक्रांति-

2012, 16, 19, 20, 21, 24, 28, 32, 36, 40, 44, 47, 48, 52, 55, 56, 59, 60, 63, 64, 67, 68, 71, 72, 75, 76, 79, 80, 83, 84, 86, 87, 88, 90, 91, 92, 94, 95, 99 और 2100 में। (पंचांगों और पंडितों से मिली जानकारी के अनुसार।)

X
makar sankranti 2019, Makar Sankranti Dates till 2100 Traditions of Makar Sankranti, sankranti 2019, happy sankranti, happy makar sankranti, why makar sankranti is celebrated in hindi, why makar sankranti is celebrated on 14th january, makar sankranti food, why kites on makar sankranti, makar sankranti 2019 kab hai
COMMENT