• Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Chaitra Navratri 2020 Rashi Parivartan: Mars (Mangal), Saturn (Shani) and Jupiter (Brihaspati) Planet in Capricorn (Makar Rashi) Effects And Predictions

संयोग / 854 साल बाद मंगल, गुरु और शनि की युति मकर राशि में, चैत्र नवरात्रि में 178 साल बाद गुरु का मकर में प्रवेश

Chaitra Navratri 2020 Rashi Parivartan: Mars (Mangal), Saturn (Shani) and Jupiter (Brihaspati) Planet in Capricorn (Makar Rashi) - Effects And Predictions
X
Chaitra Navratri 2020 Rashi Parivartan: Mars (Mangal), Saturn (Shani) and Jupiter (Brihaspati) Planet in Capricorn (Makar Rashi) - Effects And Predictions

  • 25 मार्च से 2 अप्रैल तक चैत्र नवरात्रि, बुधवार को हुई कलश स्थापना
  • चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से हिन्दू नववर्ष भी शुरू हो गया है

शशिकांत साल्वी

शशिकांत साल्वी

Mar 25, 2020, 04:25 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क. बुधवार, 25 मार्च से चैत्र मास की नवरात्रि शुरू हो गई है। बुधवार को कलश स्थापना हुई, गुड़ी पड़वा और झुलेलाल जयंती भी है। चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से हिन्दू नववर्ष भी शुरू हो गया है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार इस साल चैत्र नवरात्रि में ग्रहों के दुर्लभ योग बन रहे हैं। नवरात्रि के बीच में यानी 29 मार्च को गुरु ग्रह धनु राशि से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करेगा।

चैत्र नवरात्रि में गुरु के मकर राशि में प्रवेश का संयोग 178 साल बाद बना है। मकर राशि में पहले से मंगल और शनि स्थित हैं। मकर राशि में इन तीन ग्रहों की युति का संयोग 854 साल बाद बन रहा है।

2020 से पहले 1166 में बना था तीन ग्रहों का योग

पं. शर्मा के मुताबिक शनि, मंगल और गुरु की ये युति मकर राशि में अद्भुत संयोग बना रही है। मंगल इसी राशि में उच्च का है। गुरु नीच का  और ये शनि स्वराशि है। 2020 से पहले मकर राशि में मंगल, गुरु और शनि की युति 15 अप्रैल 1166 को बनी थी। 1166 में इन तीन ग्रहों का योग चैत्र नवरात्रि के एक माह बाद बना था। 2020 में 4 मई को मंगल के राशि परिवर्तन से इन तीनों ग्रहों का ये योग टूटेगा।

चैत्र नवरात्रि में गुरु का योग 178 साल बाद

चैत्र नवरात्रि के बीच में गुरु का नीच राशि मकर में जाने का योग 178 साल पहले 1842 में बना था। पं. शर्मा के अनुसार उस समय 11 अप्रैल 1842 से चैत्र माह की नवरात्रि शुरु हुई थी। इस नवरात्रि में 16 अप्रैल को गुरु ग्रह ने धनु से मकर राशि में प्रवेश किया था। 2020 में 25 मार्च से नवरात्रि शुरू होगी और 29 मार्च को गुरु राशि बदलकर मकर राशि में जाएगा।

विक्रम संवत् 2077 शुरू होगा

25 तारीख से हिन्दू नववर्ष विक्रम संवत् 2077 शुरू होगा। इसका नाम प्रमादी है। नवरात्रि बुधवार से शुरू होगी और 2 अप्रैल, गुरुवार को खत्म होगी। प्रमादी संवत् के राजा बुध और मंत्री चंद्र होंगे। बुध और चंद्र आपस में शत्रु भाव रखते हैं। ऐसे में मंत्री और राजा के बीच मतभेद होने से प्रजा को कष्टों का सामना करना पड़ सकता है।

किस राशि पर कैसा होगा इन ग्रहों का असर

इन तीन ग्रहों का योग मेष, कन्या, वृश्चिक, धनु, मकर और मीन राशि के लिए शुभ रहेगा। इन लोगों को भाग्य का साथ मिलेगा और धन लाभ मिल सकता है। मिथुन, सिंह, तुला और कुंभ राशि के लोगों के लिए ये समय संभलकर रहने का रहेगा। लापरवाही से बचें और धैर्य बनाए रखें। वृषभ और कर्क राशि के लोगों पर इन ग्रहों का सामान्य असर रहेगा। इन्हें अपनी मेहनत के अनुसार फल मिलेगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना