पर्व / 15 जनवरी को मकर संक्रांति पर घर में स्थापित करें सूर्य की प्रतिमा, गंगाजल चढ़ाकर करें पूजा

Surya puja at home on Makar Sankranti, 15 January, makar sankranti, offer Ganga water to lord sun, surya pujan on makar sankrati 2019
X
Surya puja at home on Makar Sankranti, 15 January, makar sankranti, offer Ganga water to lord sun, surya pujan on makar sankrati 2019

  • संक्रांति पर सुबह जल्दी उठें और सूर्य को जल चढ़ाते समय ऊँ घृणि सूर्याय नम: मंत्र का जाप करना चाहिए

Dainik Bhaskar

Jan 11, 2020, 01:20 PM IST
जीवन मंत्र डेस्क. बुधवार, 15 जनवरी को सूर्य पूजा का पर्व मकर संक्रांति है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने और सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने का महत्व है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार सूर्य पंच देवों में से एक हैं और साक्षात् दिखाई देने वाले देवता हैं। किसी भी शुभ काम में गणेशजी, शिवजी, विष्णुजी, देवी दुर्गा और सूर्य की पूजा अनिवार्य रूप से की जाती है। मकर संक्रांति पर सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायन होता है। सूर्य धनु से मकर राशि में प्रवेश करता है। ज्योतिष की मान्यता है कि कुंडली में सूर्य की शुभ-अशुभ स्थिति की वजह से ही मान-सम्मान या अपमान मिलता है। यहां जानिए मकर संक्रांति पर सूर्य पूजा से जुड़ी कुछ खास बातें...
  • जिन लोगों की कुंडली में सूर्य की स्थिति शुभ नहीं है, उन्हें मकर संक्रांति पर सूर्य प्रतिमा या सूर्य यंत्र की स्थापना कर पूजन करना चाहिए। सूर्य के दोष कम हो सकते हैं। सूर्य प्रतिमा और यंत्र की स्थापना के लिए संक्रांति पर सुबह उठें स्नान के बाद सूर्य को प्रणाम करें, अर्घ्य अर्पित करें।
  • सूर्य प्रतिमा पर गंगाजल और गाय का दूध चढ़ाएं। मूर्ति का विधिपूर्वक पूजन करें। पूजा में पुष्प, चावल, कुमकुम सहित अन्य पूजन सामग्री चढ़ाएं। पूजा में जल चढ़ाने के लिए तांबे के लोटे का उपयोग करना चाहिए। मंत्र- ऊँ घृणि सूर्याय नम: का जाप करते रहें। मंत्र जाप कम से कम 108 बार करें। जाप के बाद इस मूर्ति और यंत्र की स्थापना अपने घर के मंदिर में कर दें। इसके बाद रोज इस सूर्य मंत्र की पूजा करनी चाहिए।
  • मकर संक्रांति पर सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करने के बाद उगते हुए सूर्य को तांबे के लोटे से अर्घ्य चढ़ाएं। पानी में कुमकुम और लाल रंग के फूल डालें। जल चढ़ाते समय ऊँ सूर्याय नम: मंत्र का जाप करते रहना चाहिए।
  • संक्रांति पर दान करने का विशेष महत्व है। धर्म शास्त्रों के अनुसार इस दिन किए गए दान का अक्षय पुण्य प्राप्त होता है। इस दिन जरूरतमंद लोगों को कंबल, गर्म वस्त्र, घी, दाल-चावल की खिचड़ी आदि का दान करें। गरीबों को भोजन कराएं तो और भी ज्यादा शुभ रहता है।
  • संक्रांति पर सूर्य पूजा के बाद मंत्र ऊँ आदित्याय विदमहे दिवाकराय धीमहि तन्न: सूर्य: प्रचोदयात् का जाप कम से कम 5 माला जाप करें। मंत्र जाप से मानसिक तनाव दूर होता है, मन शांत होता है और विचारों में सकारात्मकता बढ़ती है।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना