विज्ञापन

18 मार्च को बन रहा है सोमवार और प्रदोष का शुभ योग, भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है ये व्रत  

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 08:00 PM IST

सोम प्रदोष व्रत करते समय किन बातों का ध्यान रखें, क्या है पूरी विधि? 

  • comment

रिलिजन डेस्क। आज (18 मार्च, सोमवार) फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि है। इस दिन भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत किया जाता है। इस बार ये व्रत सोमवार को होने से सोम प्रदोष का शुभ योग बन रहा है। सोमवार को इस विधि से करें शिवजी की पूजा…

व्रत और पूजा की विधि
- प्रदोष में बिना कुछ खाए व्रत रखने का विधान है। ऐसा करना संभव न हो तो एक समय फल खा सकते हैं। इस दिन सुबह स्नान करने के बाद भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।
- भगवान शिव-पार्वती और नंदी को पंचामृत व गंगाजल से स्नान कराकर बिल्व पत्र, गंध, चावल, फूल, धूप, दीप, नैवेद्य (भोग), फल, पान, सुपारी, लौंग और इलायची चढ़ाएं।
- शाम के समय फिर से स्नान करके इसी तरह शिवजी की पूजा करें। भगवान शिव को घी और शक्कर मिले जौ के सत्तू का भोग लगाएं। आठ दीपक आठ दिशाओं में जलाएं। इसके बाद शिवजी की आरती करें।
- रात में जागरण करें और शिवजी के मंत्रों का जाप करें। इस तरह व्रत व पूजा करने से व्रती (व्रत करने वाला) की हर इच्छा पूरी हो सकती है।

X
COMMENT
Astrology
विज्ञापन
विज्ञापन