खगाेलीय घटना / साल का दूसरा सूर्य ग्रहण 2 जुलाई को, भारत में प्रभाव नहीं लेकिन राशियों पर पड़ेगा असर



Solar Eclipse 2019: Second Solar Eclipse of the Year Will be on July 2 Solar Eclipse will not Affect India but will Affe
X
Solar Eclipse 2019: Second Solar Eclipse of the Year Will be on July 2 Solar Eclipse will not Affect India but will Affe

Dainik Bhaskar

Jun 29, 2019, 11:31 AM IST

जीवन मंत्र डेस्क. जुलाई में सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण दोनों पड़ रहे हैं। आषाढ कृष्ण पक्ष अमावस्या 2 जुलाई 2019 मंगलवार को खग्रास सूर्य ग्रहण लगेगा। आषाढ़ कृष्ण अमावस्या (2 जुलाई 2019) को सूर्य ग्रहण है जो साल का दूसरा सूर्य ग्रहण है। चूंकि, भारत में इस ग्रहण का कोई बड़ा प्रभाव देखने को नहीं मिलेगा,लेकिन जिन देशों में ये ग्रहण दिखाई देगा वहां इसका सूतक माना जाएगा। इसके अलावा ग्रहण पृथ्वी पर किसी भी देश में हो, लेकिन 12 राशियों पर इसका असर जरूर पड़ता है।

 

2 जुलाई को पड़ने वाला सूर्य ग्रहण दक्षिणी अमेरिका, प्रशांत महासागर और दक्षिणमध्य अमेरिका एवं अर्जेंटीना में दिखायी देगा। इस पूर्ण सूर्य ग्रहण का मोक्ष अटलांटिका में होगा। यह सूर्य ग्रहण भारतीय मानक समयानुसार 2 जुलाई की रात लगभग 10 बजकर 25 मिनट पर प्रारंभ होगा। रात में 12 बजकर 53 मिनट पर ग्रहण का मध्य होगा तथा मोक्ष रात 3 बजकर 21 मिनट पर होगा।

 

  • काशी के ज्योतिषाचार्य पं गणेश मिश्र के अनुसार रात में लगाने वाले सूर्य ग्रहण का कोई विशेष धार्मिक महत्व नही होता परंतु ग्रहीय दृष्टि से इसका पूर्ण महत्त्व होता है। सूर्य ग्रहण एक खगोलीय घटना है जो सूर्य ,चंद्र व पृथ्वी की विशेष स्थिति के कारण बनती है।  

 

  • किन देशों में दिखेगा ग्रहण

ला सेरेना, सैन जुआन, ब्रागाडो, जूनिन औररियो कुआर्टो, चिली और अर्जेंटीना के कुछ शहर हैं जहाँ से खग्रास सूर्यग्रहण दिखाई देगा। चिली में सैंटियागो, ब्राजील में साओ पाउलो, अर्जेंटीना में ब्यूनस आयर्स, पेरू में लीमा, उरुग्वे में मोंटेवीडियो और पैराग्वे में असुनसियन कुछ लोकप्रिय शहर हैं, जहाँ आंशिक सूर्य ग्रहण दिखाई देगा।

 

  • क्या होता है सूर्यग्रहण

पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमने के साथ-साथ सूर्य के चारों ओर भी चक्कर लगाती है। दूसरी ओर, चंद्रमा पृथ्वी का चक्कर लगता है, इसलि ए, जब भी चंद्रमा चक्कर काटते-काटते सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है, तब पृथ्वी पर सूर्य आंशि क या पूर्ण रूप से दि खना बंद हो जाता है। इसी घटना को सूर्यग्रहण कहा जाता है। इस खगोलीय स्थिति में सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी तीनों एक ही सीधी रेखा में आ जाते हैं। सूर्यग्रहण अमावस्या के दि न होता है,जबकि चंद्रग्रहण हमेशा पूर्णि मा के दि न पड़ता है।

 

  • भारत में प्रभावी नहीं

इस बार के सूर्यग्रहण का भारत में प्रभावी नहीं है, लेकिन इसका असर राशियों पर होगा। जो लोग ग्रहण को मानते हैं उन्हें पूजा-अर्चना करने के बाद गरीबों को दान करना चाहिए और गाय को रोटी खिलानी चाहिए क्योंकि इससे उन्हें सुख और धन-लाभ होगा।

 

 

  • इन पर पड़ेगा दुष्प्रभाव

इस ग्रहण का असर दुनिया के विभिन्न भूभाग पर पड़ेगा। राशियों में इसके प्रभाव की बात करें तो मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, धनु, मकर और कुंभ राशि वाले लोगों पर इसका अशुभ प्रभाव पड़ेगा। ग्रहण के कारण इन जातकों के बनते काम अटक सकते हैं। शारीरिक परेशानियां और धन हानि भी हो सकती है।

 

  • बचने के उपाय

सूर्य ग्रहण के असर से बचने के लिए प्रभावित राशियों के जातकों को ग्रहण काल के दौरान शिव चालीसा का पाठ या भगवान शिव के नामों का जाप करना चाहिए। गरीबों को अनाज दान करें। इस वक्त तुलसी का पत्ता खाना भी अच्छा रहेगा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना