• Hindi News
  • Religion
  • Jeevan mantra
  • Story of saint and sailor, story in hindi, story for sharing, story for kids, story with learning, story with moral, स्टोरी इन हिंदी, स्टोरी फॉर किड्स इन हिंदी

संन्यासी और दरोगा को नदी पार करनी थी, नाविक ने कहा- पहले संन्यासी को नदी पार करा देता हूं, ये सुनकर दरोगा ने संन्यासी को बहुत अपशब्द कहे और नाव में बैठ गया, रास्ते में नाव पलट गई, इसके बाद क्या हुआ? / संन्यासी और दरोगा को नदी पार करनी थी, नाविक ने कहा- पहले संन्यासी को नदी पार करा देता हूं, ये सुनकर दरोगा ने संन्यासी को बहुत अपशब्द कहे और नाव में बैठ गया, रास्ते में नाव पलट गई, इसके बाद क्या हुआ?

बिना कारण किसी को भला-बुरा न कहें, नहीं तो आपके साथ भी बुरा हो सकता है

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 08:00 PM IST
Story of saint and sailor, story in hindi, story for sharing, story for kids, story with learning, story with moral, स्टोरी इन हिंदी, स्टोरी फॉर किड्स इन हिंदी

रिलिजन। नदी के किनारे एक आश्रम था। वहां गुरु अपने शिष्यों के साथ रहते थे। शिष्य रोज नाव से नदी पार कर गांव से भिक्षा मांग कर लाते थे। उसी से आश्रम वासियों को भोजन मिलता था। एक दिन एक शिष्य रोज की तरह भिक्षा मांगने निकला और नाविक से नदी पार कराने को कहा।
उसी समय वहां एक दरोगा भी आ धमका। उसने भी नाविक से नदी पार करवाने को कहा। नाव में एक ही व्यक्ति उस पार जा सकता था। नाविक ने कहा- दरोगाजी ये संन्यासी है, रोज गांव में भिक्षा लेने जाते हैं, इसलिए इन्हें पहले नदी के उस पार छोड़ दूें फिर आपको भी नाव में नदी पार करा दूंगा।
दरोगा को अपने पद का बहुत अहंकार था। उसे लगा कि एक संन्यासी के लिए मुझे इंतजार करना पड़ेगा। ये सोचकर उसने संन्यासी को अपशब्द बोलना शुरू कर दिया। संन्यासी चुपचाप सुनते रहे। उन्होंने दरोगा की गाली का कोई जवाब नहीं दिया। नाविक भी ये देख रहा था।
जब नाविक से नहीं रहा गया तो उसने बोला- आप संन्यासी को गाली देना बंद कीजिए, पहले मैं आपको ही नदी पार करा देता हूं। दरोगा के चेहरे पर ऐसे भाव आए जैसे उसने कोई बड़ी लड़ाई जीत ली हो। नाविक जब बीच नदी में पहुंचा तो अचानक तूफान आ गया और नाव पलट गई।
नाविक तो बच गया, लेकिन दरोगा डूब गया। शिष्य ने ये बात गुरु को बताई। गुरु ने कहा- तुमने दरोगा के अपशब्दों का उत्तर क्यों नहीं दिया। शिष्य ने कहा- आपने ही ऐसा करने को मना किया है। गुरु ने कहा- अगर तुमने उसे कुछ बोल दिया होता तो उसकी मृत्यु नहीं होती और वो केवल घायल होता।

लाइफ मैनेजमेंट
बहुत से लोगों की आदत होती है कि वो बिना वजह किसी को भी अपशब्द कहते हैं और बुराई करते रहते हैं। वे ये नहीं जानते कि उनका कहे गए हर शब्द की प्रतिक्रिया भी जरूर होगी। इसलिए कभी-भी किसी को बिना वजह भला-बुरा न कहें।

X
Story of saint and sailor, story in hindi, story for sharing, story for kids, story with learning, story with moral, स्टोरी इन हिंदी, स्टोरी फॉर किड्स इन हिंदी
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना