ज्योतिष / श्राद्ध पक्ष में बन रहा गुरु पुष्य का शुभ योग, कुछ खास उपाय करने से दूर हो सकती हैं समस्याएं

Dainik Bhaskar

Oct 02, 2018, 04:12 PM IST



remedies for grah dosh Redress on pushp nakshatra
X
remedies for grah dosh Redress on pushp nakshatra

रिलिजन डेस्क. ज्योतिष शास्त्र में पुष्य नक्षत्र को बहुत ही शुभ माना गया है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार, इस बार 3 अक्टूबर, बुधवार की रात लगभग 9 बजे पुष्य नक्षत्र प्रारंभ होगा, जो 4 अक्टूबर, गुरुवार की रात लगभग 8 बजे तक रहेगा। इस तरह गुरुवार को पूरे दिन पुष्य नक्षत्र होने से गुरु पुष्य का शुभ योग बन रहा है। जिन लोगों की कुंडली में गुरु अशुभ है, वे यदि इस दिन कुछ खास उपाय करें तो उनकी परेशानियां कम हो सकती हैं।


उपाय
1. गुरु अशुभ है तो ऐसे व्यक्ति को गुरु पुष्य से शुरू कर रोज नहाने के पानी में थोड़ी हल्दी डालकर नहाना चाहिए। इससे गुरु के अशुभ असर कुछ कम हो सकता है।


2. गुरु पुष्य के शुभ योग में सोने या चांदी के पतरे पर बृहस्पति यंत्र बनवाकर उसे पूजन स्थान पर रखना चाहिए और रोज उसकी पूजा करनी चाहिए।


3. गुरु पुष्य योग से शुरू कर लगातार 7 गुरुवार तक घोड़े को चने की दाल खिलाएं।


4. गुरु पुष्य से शुरू कर नीचे लिखे मंत्रों में से किसी एक का रोज जाप करना चाहिए-
बृहस्पति एकाक्षरी बीज मंत्र- ऊं बृं बृहस्पतये नम:।
बृहस्पति तांत्रिक मंत्र- ऊं ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:।।
बृहस्पति गायत्री मंत्र- ऊं आंगिरसाय विद्महे दिव्यदेहाय धीमहि तन्नो जीव:प्रचोदयात्।।


इन मंत्रों का जाप उत्तर दिशा की ओर मुख करके किया जाए तो शुभ रहता है।


5. गुरु पुष्य के शुभ योग में भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद प्रतिदिन श्रीविष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें।


6. गुरु पुष्य के दिन अपने गुरु अथवा किसी साधु को पीले वस्त्र उपहार में देना चाहिए। ये किसी सौभाग्यवती स्त्री को भी दिए जा सकते हैं।

COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543